‘थाली के साथ फ्री एक थाली’ और आपकी बैंक रक़म ख़ाली

 



सोशल मीडिया पर ऐसे विज्ञापनों वाली ऑफर्स से सावधान, मेरठ की टीचर को ऐसी ही ऑफर ने 53 हज़ार रुपए का चूना लगाया

source: Facebook



नई दिल्ली (7 सितंबर)

सोशल मीडिया पर आपके पसंदीदा रेस्टोरैंट का विज्ञापन. साथ ही एक थाली के साथ एक थाली फ्री का ऑफर.ज़ाहिर है आपका दिल खाने की थाली का फोटो देखकर उसे मंगाने के लिए मचल ही जाएगा. खास तौर पर वो लोग जो कोरोना के डर से अब भी घर से बाहर खाना खाने के लिए जाने से परहेज कर रहे हैं.

 लेकिन आप ऐसा करने जा रहे हैं तो ठहरिए. पहले मेरठ की एक टीचर के साथ जो हुआ वो सुन लीजिए. टीचर विनीता चौबे ने सोशल मीडिया पर ऐसा ही एक विज्ञापन देखकर ऑर्डर करने की भूल कर डाली. एक थाली के 200 रुपए दाम बताए गए थे, साथ में एक थाली फ्री का ऑफर था. थोड़ी देर में ही विनीता के पास एक फोन आया. ऑफर के बारे में बताया गया. साथ ही एक लिंक पर क्लिक करने के लिए कहा गया. विनीता ने फोन करने वाले के कहने के मुताबिक एक लिंक पर क्लिक कर दिया. पहले उनके खाते से 10 रुपए कटे. लेकिन थोड़ी देर बाद बैंक से आए मैसेज से विनीता के होश उड़ गए. उनके खाते से 53 हजार रुपए कट चुके थे. विनीता ने तुरंत बैंक कस्टमर केयर को फोन कर अपने इस खाते को ब्लॉक कराया. फिर साइबर सेल को जानकारी दी. साइबर सेल इस पूरे घटनाक्रम की जांच कर रही है.

Source: Deshnama

हैरानी की बात है कि फेमस फूड चेंस के नाम से ये धोखाधड़ी की जाती है. इससे इन चेंस की छवि को नुकसान पहुंचता है. सागर रत्ना जैसे टॉप साउथ इंडियन फूड ब्रैंड ने अपने फेसबुक पेज पर ऐसे जालसाज़ों से सावधान रहने की अपील की है. साथ ही कहा है कि कभी भी अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड से संबंधित कोई भी जानकारी किसी अनजान को न दें. साथ ही अगर कोई ऐसा विज्ञापन देखें तो हमें रिपोर्ट करें.


लेकिन सवाल ये है कि सोशल मीडिया के प्लेटफॉर्म ऐसे जालसाज़ों के विज्ञापन देने से पहले पूरी जांच क्यों नहीं करते. कम्युनिटी गाइडलाइंस की बार बार दुहाई देने वाले इन प्लेटफॉर्म्स की ये जिम्मेदारी नहीं कि लोगों की खून-पसीने की कमाई हड़पने वाले इन विज्ञापनदाताओं को ब्लॉक करें और साइबर क्राइम डिपार्टमेंट को इसकी जानकारी दें.

(#Khush_Helpline को उम्मीद से कहीं ज़्यादा अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है. मीडिया में एंट्री के इच्छुक युवा अपने दिल की बात करना चाहते हैं तो यहां फॉर्म भर दीजिए)


एक टिप्पणी भेजें

4 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
  1. आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल बुधवार (08-09-2021) को चर्चा मंच      "भौंहें वक्र-कमान न कर"     (चर्चा अंक-4181)  पर भी होगी!--सूचना देने का उद्देश्य यह है कि आप उपरोक्त लिंक पर पधार करचर्चा मंच के अंक का अवलोकन करे और अपनी मूल्यवान प्रतिक्रिया से अवगत करायें।--
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'   

    जवाब देंहटाएं