श्री ब्लॉगरम् रहस्यम्...खुशदीप

आज एक शादी से आ रहा हूं...इसलिए बस माइक्रोपोस्ट से ही काम चलाइए...ये पोस्ट वही कहावत वाली है-देखन में छोटन लगे, मगर घाव करे गंभीर...



तीन लोग मरने के बाद स्वर्ग के द्वार पर पहुंचे...

पहला देवलोक के स्वामी से बोला...प्रभु मैं पुजारी हूं...जीवन भर आपकी सेवा के सिवा कुछ नहीं किया...मुझे अंदर आने दीजिए...


भगवान बोले...अगला...

दूसरा बोला...भगवन, मैं डॉक्टर हूं...ज़िंदगी भर लोगों की सेवा करता रहा, इसलिए अब अपने चरणों में रहने के लिए स्वर्ग में जगह दीजिए...


भगवान बोले...अगला...


तीसरा बोला...परमपिता...मैं ब्लॉगर हूं...मैंने...

प्रभु फौरन बोले...बस...बस...पगले...अब क्या मुझे भी रुलाएगा...चल अंदर आ...

एक टिप्पणी भेजें

28 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
  1. चलिये अब पता चल गया अपनी सीट पकी हे स्वर्ग मे.... अब तो खुब पीयेगे जी
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    कच्ची लस्सी:)

    जवाब देंहटाएं
  2. भगवान् को भी दाँव दे दिया रो गा के ब्लोगर महाशय ने ?

    जवाब देंहटाएं
  3. कितना दयनीय और पर हितैषी पात्र...
    नूतन वर्ष आपके लिये शुभ और मंगलमय हो...

    जवाब देंहटाएं
  4. हाहाहाहाहाहाहाहाहाहा

    जवाब देंहटाएं
  5. शानदार! शानदार!
    आपको और आपके परिवार को मेरी और से नव वर्ष की बहुत शुभकामनाये ......

    जवाब देंहटाएं
  6. :-) :-) :-) वाह जी वाह! बहुत खूब!

    जवाब देंहटाएं
  7. पर स्वर्ग के द्वार तक पहुँचने का रस्ता किधर है।

    जवाब देंहटाएं
  8. वहाँ भी ये सब? अगला जनम भी बेकार। नव वर्ष की शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  9. और ब्लोगर को प्रभु पहचान गए
    यह राज भाटिया भी खूब हैं आपको स्वर्ग में भी लस्सी पिलवाएंगे और खुद सोमरस पियेंगे !
    !

    जवाब देंहटाएं
  10. aapki leela aparmpaar hai...
    yani hame bhi swarg ka dwar dikhne laga khushdeep bhaiya...............:)

    जवाब देंहटाएं
  11. हा हा हा

    अस्सी और तुस्सी - पीवांगे लस्सी।

    जवाब देंहटाएं
  12. हा हा हा ...सही है.
    आपको नव वर्ष की ढेरों शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  13. sahi hai

    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

    जवाब देंहटाएं
  14. गनीमत है प्रभु ने यह नहीं कहा ... परे हट ... यह बिमारी यहाँ भी फैलाएगा क्या !?



    वैसे आपने सही कहा ... देखन में छोटन लगे, मगर घाव करे गंभीर... !!

    जय हिंद !!

    जवाब देंहटाएं
  15. नव वर्ष की हार्दिक बधाई ।

    ((1947 से अब तक)) हाँ अगर आप हैं नाखूश, आप हैं हताश राजनीतिज्ञों के रवैये से तो मन में मत रखिए अपनी बात, करिए उसे खूलेआम ताकि सच्चाई से रुबरु हो हम । गाँव हो या कस्बा या शहर लिख भेजिए सच्चाई हमें और निकलाइए राजनीतिक भड़ास अपने इस मंच पर । लिख भेजिए कोई भी सच्चाई जो करे बेपर्दा राजनीति को । हमारा पता है mithilesh.dubey2@gmail.com तो आईये हमारे साथ http://rajnitikbhadas.blogspot.com पर

    जवाब देंहटाएं
  16. हमें तो पेट ने लपेट लिया
    न पीने के रहे
    न पीता देखने के
    जा पाते
    तो पपीता खाते
    एक हिन्‍दी ब्‍लॉगर जो बिल्‍कुल पसंद नहीं है

    जवाब देंहटाएं
  17. दर्द के समंदर में यू
    मिलना दर्द का.....

    परेशान दुनिया देखेगी.....
    ये दीवाना दर्द का.

    वाह वाह

    जवाब देंहटाएं
  18. हा हा हा

    अब ब्लॉगर से क्या पंगा लेता भगवान :-)

    जवाब देंहटाएं
  19. फ़िर भगवान ने कहा

    बेटा तू नीचे से तप के आ रहा है ..साला फ़ोकट में इत्ता लिख मारा ..मतलब कितनों को लिख लिख कर मारता रहा ..पहले ये बता कि तू किसका लिखा पढ के मर बैठा बे .....आगे की कहानी कहिए तो सुना दूं ..

    जवाब देंहटाएं
  20. हा हा हा.........:))

    बहुत अच्छा ....वाह वाह

    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

    जवाब देंहटाएं