एक अंधेरा, लाख सितारे...खुशदीप



ये समस्याएँ नहीं हैं जो आपको परेशान करती हैं... बल्कि ये समस्याओं से आपका निपटने का तरीका है जो आपको परेशान करता है...


समस्याओं को अपने ऊपर हावी मत होने दीजिए...उनसे सकारात्मक रुख़ और ठंडे दिमाग़ के साथ निपटिए...


ज़िंदगी की मुश्किलें आपकी मदद नहीं चाहतीं...वो अपने आप में ही काफ़ी कठिन हैं...आप उन्हें अपना योगदान देकर और जटिल मत बनाइए...


इसलिए समस्याओं की हक़ीक़त को समझिए... यथाशक्ति प्रभावी तरीके से उनसे निपटिए...लेकिन उन्हें खुद पर हावी होकर अपना मनोबल गिराने का मौका नहीं दीजिए...


आप जैसा महसूस करने का रास्ता चुनेंगे, वैसा ही खुद को महसूस करेंगे... इसलिए खुद को अंदर से मज़बूत समझिए...खुद को पूरी तरह अपने काबू में समझिए...उद्देश्यपूर्ण, ऊर्जावान और उल्लासित रहने का विकल्प चुनिए...क्योंकि आप दिल से ऐसे ही हैं...


यक़ीन मानिए आपके अंदर की ज़िंदादिली के आगे बड़ी से बड़ी समस्या भी हमेशा मात खाएगी...हमेशा इसे याद रखिए.. इसके सच को अनुभव कीजिए...जीवन का आनंद लीजिए...क्योंकि ज़िंदगी लंबी होने से ज़िंदगी बड़ी होना कई ज़्यादा मायने रखता है...


ज़िंदगी में उम्मीद का उजाला दिखाता मेरी पसंद का ये गीत भी सुन लीजिए...


एक अंधेरा, लाख सितारे...




एक टिप्पणी भेजें

15 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
  1. उलझन में उलझे बिना उलझन नहीं सुलझती

    जवाब देंहटाएं
  2. आप बिलकुल सही कह रहे हैं खुशदीप भाई. समस्या को जितना अपने ऊपर हावी किया जाता है उसका हल उतना ही मुश्किल होता चला जाता है........... बहुत खूब!

    जवाब देंहटाएं
  3. उलझे बिना उलझन नहीं सुलझती
    इसलिए समस्याओं की हक़ीक़त को समझिए

    जवाब देंहटाएं
  4. आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ, क्षमा चाहूँगा,

    जवाब देंहटाएं
  5. सार्थक बातें । सकारात्मक सोच से बल मिलता है ।

    जवाब देंहटाएं
  6. तनाव की नाव से बिना तैरे सकुशल बाहर निकलने का मार्ग।

    जवाब देंहटाएं
  7. अगर आप समस्या के सामने पहाड बन कर खडे हो जाये तो समस्या खुद वा खुद खत्म हो जाती है,
    आप ने बहुत अच्छॆ तरीके से समझा. धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  8. सार्थक पोस्ट ..........आभार आपका !

    जवाब देंहटाएं
  9. प्रभु ये क्या हाल बना रखा है कुछ लेते क्यों नहीं ......विविधभारती से कपालभारती हुए जा रहे हैं मियां ...आजकल ये गुल्ली भी नहीं दिखता ..मक्खन और मलाई तो पहले ही दिखना बंद हैं ....अमां अब तो बारिश भी हो रही है ...अब तो कुछ रोमांटिकिया जाईये ..

    जवाब देंहटाएं
  10. इस सकारात्मक पोस्ट के लिए बहुत आभार ....!

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत सटीक है!
    --
    मित्रता दिवस पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  12. आपने आँखें खोल दीं भैया....

    जय हिंद...

    जवाब देंहटाएं