मक्खन सेर, मक्खनी सवा सेर...खुशदीप

कुछ दिन पहले खबर आई थी कि औद्योगिक उत्पादन की दर ने देश में कृषि उत्पादन को कहीं पीछे छोड़ दिया है...यानि अब अपना देश कृषि प्रधान नहीं रहा...एक और मामले में हम किसी से पीछे नहीं हैं...बच्चों के उत्पादन में...अगर यही रफ्तार रही तो चीन को पछाड़ कर हम बीस-पच्चीस साल में ही विश्व में सबसे ज़्यादा आबादी वाले देश का तमगा हासिल कर लेंगे...

लेकिन पश्चिम के कई देशों में उलटी ही गंगा बह रही है...वहां की सरकारें कम बच्चे होने की वजह से परेशान हैं...ज़्यादा से ज़्यादा बच्चे करने के लिए लोगों को तरह-तरह के प्रोत्साहन दिए जा रहे हैं...मक्खन ने ये सुना तो पत्नी मक्खनी के साथ उसी देश में बसने के लिए चला गया...

वहां दोनों को एक साल में ही जुड़वा बच्चे हो गए...लेकिन तभी उस देश में ऐलान किया गया कि जिसके तीन या ज़्यादा बच्चे होंगे उसे सरकार की तरफ़ से फ्लैट इनाम में दिया जाएगा...लेकिन शर्त ये होगी कि बच्चे के डीएनए का मिलान बाप के डीएनए से किया जाएगा...



ये सुनते ही मक्खन की बांछें खिल गईं...मक्खनी से बोला...दरअसल वो पड़ोस वाले घर में भी हाल में जो नन्हा मेहमान आया है, वो भी तुम्हारे इसी नाचीज़ की मेहरबानी है...मैं अभी उसे लेकर आया, अब तो हमारा फ्लैट पक्का...

मक्खन पड़ोस से नन्हे मेहमान को घर ले आया...लेकिन ये क्या, अब अपने ही जुड़वा बच्चे घर से गायब हो गए...मक्खन ने मक्खनी से पूछा...अपने जुड़वा बच्चे कहां गए...मक्खनी ने जवाब दिया...तुम जिस पड़ोसी के घर गए थे...वही पड़ोसी उन जुड़वा बच्चों को ले गया है...कैसे रोकती, सरकार ने शर्त ही ऐसी रख दी है...

एक टिप्पणी भेजें

19 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
  1. हा हा!! घर ही शिफ्ट कर लें दोनों..फ्लेट तो बाद में भी मिल जायेगा. :)

    जवाब देंहटाएं
  2. खूब कही ... जैसे को तैसा दे मारा ... जय हो इंडियन वूमेन ...

    जवाब देंहटाएं
  3. यह खूब कही ...कहाँ से लाते हो भाई जी !

    जवाब देंहटाएं
  4. हा! हा! हा! क्या कटाक्ष किया है आपने।

    जवाब देंहटाएं
  5. अब ये बताईये कि मक्खन और मक्खानी ने कुल मिला कर कितने बच्चे
    जमा किए और फ़ायनली उन्हें नागरिकता मिली कि नहीं ..

    जवाब देंहटाएं
  6. यहाँ भी कुछ लोगों के पास कई कई फ़्लैट होते हैं । सब उलटे सीधे धंधों से बनाये गए हुए । लेकिन इस तरह से तो नहीं ।

    जवाब देंहटाएं
  7. हा हा हा वाकई सेर पर सवा सेर.

    जवाब देंहटाएं
  8. मख्खन की सारी इंटेलीजेंशिया धरी कि धरी रह गई.... ही ही ही ही ही ही ....


    जय हिंद....

    जवाब देंहटाएं
  9. accha hua ...:)
    makkhan khud ko bada hoshiyaar samjhta hai...
    makhani makkhan ko us flat ke chaar chakkar lagwa kar teshan par chhod kar aayegi ...
    haan nahi to...!!
    :):)

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत बढ़िया लिखा है . कल जैसे ही पढ़ी तुरंत पति को ईमेल किया क्योंकि ऑफिस से आने के बाद बताऊ यह सब्र न था और एक कारन यह भी था की तनाव से हट कर थोडा हंस लेंगे और ऐसा ही हुआ .

    जवाब देंहटाएं
  11. अरे अरे यह तो बहुत बुरा हुआ

    जवाब देंहटाएं