पत्रकार को अवमानना का नोटिस...खुशदीप

पत्रकार का पेशा भी गजब हो गया है...अगर आप पत्रकार हैं और किसी भ्रष्टाचारी नेता को चोर लिखते हैं तो पहले सौ बार ऊंच-नीच सोच लीजिए...कहीं लेने के देने न पड़ जाएं...ऐसी ही हिमाकत एक पत्रकार को बहुत भारी पड़ी...




अख़बार में अभी ख़बर छपे हुए एक दिन भी पूरा नहीं बीता था कि पत्रकार को वकील का नोटिस मिल गया...पत्रकार को काटो तो ख़ून नहीं...पता नहीं नेता अब क्या हाल करे...नौकरी भी रहेगी या नहीं...कोर्ट कचहरी के चक्कर...नेता तो बड़े से बड़ा वकील कर लेगा...लेकिन पत्रकार बेचारा कहां से करेगा बड़ा वकील...पत्रकार को अब जेल की चक्की साफ़ नज़र आने लगी...पत्रकार ने कांपते हाथों से नोटिस का लिफ़ाफ़ा खोला...उसकी आशंका सही निकली...वकील ने अवमानना का ही नोटिस भेजा था...पत्रकार ने राम का नाम लेकर नोटिस पढ़ना शुरू किया...नोटिस पढ़ने के बाद पत्रकार को 440 वोल्ट का झटका लगा...

क्यों...

...

...

...


अवमानना का नोटिस नेता ने नहीं चोर ने भेजा था...

एक टिप्पणी भेजें

28 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
  1. ठहाका स्वीकार करे !नेता शब्द तो वैसे ही गाली जैसा हो गया है मुलाहिजा फरमाए
    "ज्यादा नेतागिरी मत दिखाओ "
    "अपने को नेता समझता है "
    "हमको नेता समझा है क्या "

    जवाब देंहटाएं
  2. सही ही तो है...नेता लोग तो चोरों से भी गए गुज़रे होते हैं

    जवाब देंहटाएं
  3. वैसे झटका तो पत्र पढ़ना आरंभ करते ही लग जाना था। नोटिस की पहली पंक्ति यही होती है कि नोटिस किस की ओर से दिया जा रहा है। वैसे नोटिस वाजिब था।

    जवाब देंहटाएं
  4. WAH JI WAH !! KHUSHDEEP BHAI KYA JHATKA DIYA HAI ..MAN GAYE JANAB ..AAP KISI JADOOGAR SE KAM NAHI ..BADHYEE 440 VOLT KE JHTKE KE LIYE

    जवाब देंहटाएं
  5. द्विवेदी सर,
    क्या करूं कभी नोटिस मिला नहीं न...

    जय हिंद...

    जवाब देंहटाएं
  6. कानून के हाथ बहुत लम्बे होते है .....................पर नेताओ तक नहीं पहुँचते क्यों ??

    जय हिंद !!

    जवाब देंहटाएं
  7. अजी नेता नही नेता के बेटे का नोटिस मिला, आखिर चोर की भी इज्जत होती है जी

    जवाब देंहटाएं
  8. हा हा हा लगता है अब ये नोटिस खुशदीप को मिलने वाला है। शुभकामनायें आशीर्वाद भगवान बचाये --- देखती हूँ फिर कब आती हूँ ब्लाग पर

    जवाब देंहटाएं
  9. वाह !!...जमाना बदल रहा है ........चोरों को भी ठेश पहुँचने लगी .

    जवाब देंहटाएं
  10. चोर तो डर के मारे रात में अँधेरे में चोरी करता है और ये ...
    मस्त है ...:):)

    जवाब देंहटाएं
  11. जोर का झटका धीरे से लगा .. नहीं नहीं जोर से लगा ,... ग्रेट...
    भाई, भावनाएं तो चोर की भी होती हैं ...

    जवाब देंहटाएं
  12. पत्रकार ही नहीं , सही काम करने से पहले सभी को सौ बार सोचना चाहिए ।
    वरना लेने के देने पड़ने की सम्भावना बनी रहेगी।

    जवाब देंहटाएं
  13. नेताओ ने तो ऐसी की तैसी कर दी देश की

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत खूब,,,अच्छी पोस्ट बाकी राणा साहब ने सब कह दिया है ..

    विकास पाण्डेय
    www.vicharokadarpan.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  15. सही है सबसे सशक्त कलमवीर की दशा सबसे निर्बल

    जवाब देंहटाएं
  16. गद्दार नेताओ से जाकर कोई कह दे कि नोटिस का जबाब हमने तैयार कर रखा है नोटिस भेजो तो सही खटिया कड़ी न कर दी तो सुनील दत्त अपना नाम नहीं

    जवाब देंहटाएं
  17. अबसे वैरी गुड बंद... खासकर अपनों के पोस्ट पर तो बिलकुल भी नहीं.... सुबह का कमेन्ट वापस लेता हूँ..

    जवाब देंहटाएं
  18. सही है...
    चोरों की इज्ज़त नहीं होती क्या ???
    हाँ नहीं तो...!!

    जवाब देंहटाएं
  19. द्विवेदी जी सही फरमा रहे हैं

    जवाब देंहटाएं