शनिवार, 13 फ़रवरी 2010

मौन...खुशदीप

क्या आप आंख से टपके इस कतरे की ज़ुबान समझते हैं...


आप के प्यार ने मुझे हमेशा के लिए खरीद लिया है...







39 टिप्‍पणियां:

  1. जब लंबी होती है तब भी खास .. और जब छोटी होती है तब भी खास बन जाती है आपकी पोस्‍ट !!

    जवाब देंहटाएं
  2. मुझे तो दिखी थी फोटो .. अब कहां चली गयी !!

    जवाब देंहटाएं
  3. बाकी की पंक्तियाँ कहाँ गईं,

    रिक्त स्थान तो नहीं भरना है न ?

    जवाब देंहटाएं
  4. किसी ने खरीद ली फोटो भी. :)

    जवाब देंहटाएं
  5. पहले प्यार ने खुशदीप भाई को खरीद लिया..और दूसरे नें फोटो..अब हम क्या खरीदें???? एक ठो कागज पर साईन करके दे दो. :)

    जवाब देंहटाएं
  6. भैया..... आप फोटो डालना भूल गए हैं....

    जय हिंद...

    जवाब देंहटाएं
  7. मैं आपकी पोस्ट में व्यक्त भावनाओं का सम्मान करता हूँ. कृप्या फोटो आने के पूर्व की गई मजाकिया टिप्पणियों को अन्यथा न लें.

    जवाब देंहटाएं
  8. हमें तो खूब नज़र आ रही है फोटू..और लोगों को क्यों नही दिख रही है??
    खुशदीप भाई महाशिवरात्रि की शुभकामनाएँ!!

    जवाब देंहटाएं
  9. अले आप आइछे दिकते हैं ....??
    तभी तो ...!! :):)

    जवाब देंहटाएं
  10. बाकी सब तो ठीक है
    पर यह बच्‍चा कुछ खास है
    इसे नहीं सम्‍मान और पुरस्‍कार की प्‍यास है
    खुशियों के दीप यूं ही जला लेता है
    आंसुओं से खुशियों तक का सफर तय करता है
    बच्‍चा यह खूब खुशियां बांटता है
    जिससे सबके मन के दीप खुशियों का आलोक बिखराते हैं
    बच्‍चा यह सहज है
    पर सहज होते हुए भी विशेष है
    यह लालच की भाषा नहीं समझता है
    इसे सम्‍मान/पुरस्‍कार रूपी चॉकलेट से नहीं बहलाया जा सकता है
    इसे तो सिर्फ और सिर्फ प्‍यार से ही बहलाया जा सकता है
    इसका प्‍यार सबको प्‍यार से ही नहलाता है
    इसे पुरस्‍कार में सिर्फ प्‍यार ही दो
    इसकी पगार के पैसे भी इसकी जेब से निकाल लो
    यह तब भी उफ नहीं करेगा
    यह खुशियों का दीप है
    सिर्फ खुशियों से ही खरीदा जाएगा
    ख से खुशियां, ख से खरीद और
    ख से खुशदीप, ख से खिलाना
    इसे प्‍यार की खीर
    खीर खाने वाला ही है
    यह अनोखा वीर।

    जवाब देंहटाएं
  11. आंख से टपके इस कतरे की ज़ुबान
    शायद यही है स्नेह और प्यार की पहचान

    जवाब देंहटाएं
  12. वाणी जी की बात दोहराना पसंद करूँगा

    आप तो ऐसे ना थे

    बी एस पाबला

    जवाब देंहटाएं
  13. मौन............. इस्के सिवा कर भी क्या सकते है

    जवाब देंहटाएं
  14. आपने भी तो सबको यूँ ही खरीद लिया है....फिर लोग आपको क्यूँ छोड़ें...:)

    जवाब देंहटाएं
  15. आपका मौन भी बहुत कुछ कह रहा है।

    जवाब देंहटाएं
  16. बाकि दियां गल्लां छड्डो , दिल साफ़ होणा चाहिदा ।
    और दिल तो आपका साफ़ है।

    जवाब देंहटाएं
  17. बहुत ही मासूमियत और प्यार भरी अभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  18. नहीं देखा जाता ऐसे, लपक के गोद में उठा लिया जाए।

    जवाब देंहटाएं
  19. दूसरे के दर्द को समझने की शक्ति, इस युग में भगवान ने छीन ली है ! इस गुण को सहेजने वाले लोग बहुत कम बचे हैं ! यह विशेषता आपको अन्य पत्थरों से अलग करती है, मगर यह भी सच है कि लोग इन भावनाओं और संवेदनशीलता की मज़ाक उड़ाते अधिक देखे जाते हैं ! बेहतर है इन आंसुओं को पोंछ लिया जाये !

    जवाब देंहटाएं
  20. ये तो आंसूं हैं भैया... किसी ने तो यहाँ तक सच कहा है कि-- दरद उन्हें भी होता जिनके आँसू नहीं निकलते, जो किसी से कह नहीं पाते.. खैर..
    चाँद खिला... तारे हँसे... रात अज़ब मतवारी है.. सम..... :)
    जय हिंद... जय बुंदेलखंड...

    जवाब देंहटाएं
  21. आपने तो बिक कर भी सबको खरीद लिया।मौन शायद अभिव्यक्ति का सबसे सशक्त माध्यम है।

    जवाब देंहटाएं
  22. ये आँसू नही मेरे दर्द का दरिया बह रहा है हर कतरे मे बेशक शब्द मौन हैं मगर एक अदृष्य टीस सब के दिल तक पहुँच रही है उसे सभी नही सुन सकते केवल आप जैसे लोग ही सुन सकते हैं । शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  23. इतना प्‍यारा बच्‍चा रोता रहे यह तो देखा नहीं जा रहा। लग रहा है इसकी माँ कहीं चले गयी है।

    जवाब देंहटाएं
  24. आपका ईमेल एड्रेस चाहिए खुशदीप भाई !
    satish1954 @gmail .com

    जवाब देंहटाएं
  25. सतीश भाई,
    मेरा ई-मेल है- sehgalkd@gmail.com

    जय हिंद...

    जवाब देंहटाएं
  26. ओह! कित्ते तो क्यूट लग रहे हैं आप..

    जवाब देंहटाएं
  27. हाय राम मुझे पता होता कि इत्ता गभरू जवान बिक रिया है तो मैं न खरीद लेता , और फ़िर बल्ले बल्ले एक से एक ब्लोग पोस्ट लिखवाता ,व्हाट एन आईडिया सर जी , चलो इत्ती मंदी भी बिक लिए भाई मियां ये बात प्रमाणित करती है कि एक न एक दिन भारत विश्व शक्ति बन के रहेगा , यार अपना भी कोई सेल करवाओ न , खुशदीप भाई....
    अजय कुमार झा

    जवाब देंहटाएं
  28. महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें!
    बहुत ही सुन्दर और प्यारा बच्चा है!

    जवाब देंहटाएं
  29. आँसू दिल की ज़ुबान होते हैं .... प्यार की चाह में निकले आंसूओं की कीमत अनमोल है ...
    ...

    जवाब देंहटाएं
  30. बहुत सुंदर, मासुम.... शायद कुछ मांगना चाहता है, क्योकि आंखो मै शिकायत के भाव है.
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  31. mujhe lagta hai ab tak to bachcha chup ho gaya hoga aur apna maun tod diya hoga kyunki sab kafi samjha chuke hain.

    जवाब देंहटाएं
  32. यहां तो खुद ही नीलाम हुए बैठे हैं अब खरीदारों में गिनकर दिल मत दुखाईयेगा ! बहरहाल बच्चे को देखकर निदा फ़ाज़ली याद आ गये !

    जवाब देंहटाएं