रविवार, 28 अप्रैल 2013

बताओ भला देश में भागदौड़ कहां कम है...खुशदीप


CWG, 2G, COAL, CHITFUND, HELICOPTER DEAL….

सब जगह घोटाला...देश में उबाल...विपक्ष का बवाल...संसद में भूचाल...सरकार फिर भी कमाल...कह रही है, हम जितने ज़रूरी कदम हैं, सभी उठा रहे हैं...भ्रष्टाचारियों को बख्शा नहीं जाएगा....लेकिन किसी मंत्री-संतरी के इस्तीफ़ा देने का सवाल ही नहीं उठता...

आज जो विपक्ष है वो शायद कल सरकार में होगा...आज जो सत्ता पक्ष है वो शायद कल विपक्ष होगा...बाकी कुछ नहीं बदलेगा...भ्रष्टाचार वैसा ही रहेगा...घोटाले होते रहेंगे...बस रोल बदल जाएंगे...आज जो सरकार में है, कल वही संसद ठप करा रहे होंगे...आज जो विपक्ष में हैं, कल वो कह रहे होंगे, इस्तीफ़ा देने का सवाल ही नहीं होता....

खैर ये तो रही राजनीति...अब एक दूसरी बात...दिल्ली में कोई दिन ऐसा नहीं जा रहा जब किसी दामिनी, निर्भया, गुड़िया, लाडो या मुनिया को वहशी दरिंदे अपना शिकार ना बना रहे हों...लेकिन पुलिस कमिश्नर साहब कहते हैं, सुरक्षा के लिए जो ज़रूरी है वो सब कर तो रहे हैं...साथ ही ये तर्क भी दे डाला ज़्यादातर दुष्कर्म की वारदात घरवाले या जानने वाले ही करते हैं...इसलिए हर घर में तो पुलिस नहीं बिठायी जा सकती....कमिश्नर साहब कहते हैं पुलिस इतनी भागदौड़ कर रही है तो फिर मेरा इस्तीफ़ा देने का सवाल ही कहा होता है...

 ये सारे बयानात देख एक कहानी याद आ गई...आप भी पढ़िए, शायद इसमें आपको देश का सच नज़र आए...

 "एक जंगल था...उसमें हर तरह के जानवर रहते थे...एक दिन जंगल के राजा का चुनाव हुआ...जानवरों ने शेर को छोड़कर एक बन्दर को राजा बना दिया...एक दिन शेर बकरी के बच्चे को उठा के ले गया...बकरी बन्दर राजा के पास गई और अपने बच्चे को छुड़ाने के लिए मदद मांगी...

बन्दर शेर की गुफ़ा के पास गया और गुफ़ा में बच्चे को देखा...पर अन्दर जाने की हिम्मत नहीं हुई...बन्दर राजा गुफ़ा के आसपास पेड़ों पर उछाल लगाता रहा...कई दिन ऐसे ही उछल कूद में गुजर गए...
 
तब एक दिन बकरी ने जाके पूछा- "राजा जी मेरा बच्चा आख़िर कब लाओगे?".

बन्दर राजा तिलमिलाते हुए बोला " हमारी भागदौड़ में कोई कमी हो तो बताओ"...





तो अब बताइए भला, देश में भागदौड़ की कहां कमी है...

बात करते हैं...

25 टिप्‍पणियां:

  1. कागजी में भागदौड़ में हमारा कोई सानी नहीं है । कागजों में हम सड़क बना देते हैं फिर केबल्स डालने के लिए उन्हें खोद भी डालते हैं और फिर बना देते हैं ... ये खेल है कब से जारी ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जब तक है जान, जब तक है जान...


      जय हिंद...

      हटाएं
  2. बस यही भाग दौड़ चल रही है चीनी अतिक्रमण पर।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही कहा काम हो या ना हो "भागदौड़ में कमी नहीं होनी चाहिये"

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आख़िर कामकाज़ी बंदे हैं भई...

      जय हिंद...

      हटाएं
  4. आज के दौर का यह कहानी सटीक प्रतिनिधित्व करती है, ताऊ को राजा बनाओगे तो यही होगा.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. फिर रामप्यारी कौन सी सलाहकार परिषद की अध्यक्ष बनेगी...

      जय हिंद...

      हटाएं
  5. सही है आज हमारी सरकार का यही आचरण है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अजित जी,

      सरकार क्या, आज लोकतंत्र के ज़िम्मेदार हर स्तंभ का यही हाल है...

      जय हिंद...

      हटाएं
  6. एक काम करते है! कश्मीर पाकिस्तान को दे देते है,
    बाकी हिस्सा चाइना को दे देते है, और थोडा बहुत जो बच
    जाये तो बंगलादेशियो को और कट्टर मुल्लो को दे देते है !
    हिन्दू का क्या है? वो तो सेक्युलर है,
    वो तो मोमबत्ती जला कर खुश है, और
    जिसको मोमबत्ती कम लगेगी तो उसके घर में आग तो वैसे
    भी लगेगी ही .. क्रिकेट से खुश रहो .
    वन्देमातरम्
    jai baba banaras...

    उत्तर देंहटाएं
  7. कौशल जी,

    औरों की तो पता नहीं लेकिन चीन को हिस्सा देने की नौबत नहीं आएगी...वो तो खुद ही...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरे देश के सभी दूकानदार भाई लोगो से उम्मीद है की सभी लोग चाइना की बनी हुए वस्तुओ का आज से अभी से खरीद बंद कर दे

      चाइना का टोटल ३ ८ % उत्पादन को खपत करने वाला देश आप का है आप के देश के कुटीर उद्योग को ख़तम करने मैं भारत सरकार

      और चाइना का हाथ है .आप के देश के कुटीर उद्योग का खतम कर दिया चाइना ने ...

      ब्लॉगर भाई चाइना का माल खरीदना बंद कर दे।।।।।।।

      हटाएं
  8. नमस्कार
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (29-04-2013) के चर्चा मंच अपनी प्रतिक्रिया के लिए पधारें
    सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  9. शुक्रिया सरिता जी,

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं

  10. मानों या न मानों, मेहनत तो वाकई की है ....

    उत्तर देंहटाएं
  11. काम करें या ना करें , करते हुए दिखाई ज़रूर देना चाहिए !

    उत्तर देंहटाएं
  12. शुभ प्रभात दीदी
    आँखो देखा हाल
    पढ़ी गई....और
    समझी भी गई
    काश ये सरकार के सर्वराकार अपने घर में भी परायों को घुसने देते.....
    पर नहीं...........
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  13. आज के हालात देखे तो कहानी सटीक प्रतीत होती है !!

    उत्तर देंहटाएं
  14. काम हो या न हो काम हो रहा है ऐसा दिखाना जरुर चाहिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बस सब भाग रहे है किस लिए और कंहा किसी को पता नहीं ।

    उत्तर देंहटाएं