गुरुवार, 24 मई 2012

टैकल पेट्रोल हाइक मक्खन स्टाइल...खुशदीप



सरकार बड़ी समझदार है...उसने पेट्रोल के दामों में साढ़े सात रुपए प्रति लीटर की बढ़ोतरी सब सोच-समझ कर की है...सरकार को पता है कि तीन-चार दिन देश भर में हो-हल्ला होगा...कुछ ज़्यादा ही हुआ तो सरकार दो-ढाई रुपए का रोल-बैक कर लेगी...फिर जनता भी खुश...चलो कुछ तो सरकार को झुकाया...लेकिन मक्खन सरकार से भी ज़्यादा स्याना है...देखिए उसने पेट्रोल बढ़ोतरी से निपटने के लिए क्या-क्या रास्ते निकाले हैं...

मक्खन पेट्रोल पंप पहुंचा...

पंप अटैंडेंट ने पूछा...कितने का पेट्रोल डालूं...

मक्खन....दस-बीस रुपए का दे दे...

अटैंडेंट....क्यों मज़ाक कर रहे हो साहब...

मक्खन...ओए, मैं टंकी में नहीं कार के ऊपर स्प्रे करने को कह रहा हूं...इसे यहीं आग लगानी है...

----------------------------------

वैसे पेट्रोल दामों में बढ़ोतरी से निपटने का मक्खन का इससे पहले तक दूसरा फंडा था...

एक शख्स ने कहा...ये पेट्रोल की आग़ तो जेब को राख़ करके छोड़ेगी....

मक्खन...साणूं ते कोई फर्क नहीं पैंदा...सरकार जो मर्ज़ी कर लए...असी ते पहले वी सौ रुपइए दा पेट्रोल पवां दे सी...हुणे वी सौ रुपइए दा ही पवां दे वां...

------------------------------------


ट्रैफिक  पुलिस  वाले अब  चैन  की सांस  ले सकते हैं..अब  उन्हें शराब  पीकर गाड़ी चलाने वालों को पकड़ने की नौबत नहीं आएगी...​​​

आखिर ऐसे कितने लोग  होंगे जो एक  दिन  में ही पेट्रोल  और एल्कोहल  दोनों को एफोर्ड  कर  सकें...

---------------------------------

और ये  रहे सबसे बढ़िया इलाज़...बस आपको गाड़ी चलाने की ऐसे प्रैक्टिस करनी होगी....




15 टिप्‍पणियां:

  1. वाह! बहुत खूब! आखिरी वाला कार्टून देखकर डा.अमर कुमार का बनाया कार्टून याद आ गया! जो शायद स्टार प्लस में दिखाया गया था।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मक्खन की माँ भी कब तक खैर मनाएगी.... जिस स्पीड से पेट्रोल के दाम बढ़ रहे हैं... लगता है कीमत इसी साल यह सौं रूपये का आंकड़ा पार कर जाएगी... :-)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शाहनवाज़, इसीलिए तो मक्खन ने पहले वाला फंडा सुझाया है...गाड़ी को ही आग़ लगा दो...न रहेगा बांस, न बजेगी बांसुरी...​
      ​​
      ​जय हिंद...

      हटाएं
  4. ...hahaha...thank you Khushdeep for the morning laugh:):D

    उत्तर देंहटाएं
  5. ब्लाग पर आना सार्थक हुआ । काबिलेतारीफ़ है प्रस्तुति । बहुत सुन्दर बहुत खूब...बेहतरीन प्रस्‍तुति
    हम आपका स्वागत करते है..vpsrajput.in..
    क्रांतिवीर क्यों पथ में सोया?

    उत्तर देंहटाएं
  6. ारे मैने तो नई गाडी ली है कैसे आग लगा दूँ/ मक्खन से कहो कोई और फंडा बताये।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. निर्मला जी,​
      ​एक फंडा और है नई गाड़ी को खींचने के लिए दो बैल और खरीद लीजिए....​
      ​​
      ​नहीं तो कहिए, हममें से कुछ ब्लागर बारी-बारी से ड्यूटी देने आ जाते हैं...​
      ​​
      ​जय हिंद...

      हटाएं
  7. देखते हैं हमारे लिए कौन सा बेस्ट रहेगा । वैसे साइकल वाला सही लगा लेकिन पहले मसल्स बनानी पड़ेंगी ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. हाहाहा मक्खन की बात भी सही है बहुत रोचक पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  10. अब तो मक्खन को यह भी गाते सुना है

    जय पेट्रोल देवा ,स्वामी जय पेट्रोल देवा.
    पान और फूल चढ़े तुम्ही पर और चढें मेवा

    उत्तर देंहटाएं