सोमवार, 12 मार्च 2012

एक भक्त की मस्त अर्ज़ी भगवन के नाम...खुशदीप​






हे भगवन,​
........................................................................
........................................................................
.........................................................................

सुना है आप बड़े दयालु हैं...लेकिन  आप एक काम सही नहीं कर रहे..पिछले एक साल में आपने कई ऐसे लोगों को अपने पास बुला लिया, जिन्हें मैं बड़ा पसंद करता था...​​मसलन....

मेरे पसंदीदा गायक...भूपेन हज़ारिका​...

​मेरे पसंदीदा अभिनेता...देव आनंद​, शम्मी कपूर​, जाय मुखर्जी...

​मेरे पसंदीदा गज़ल गायक...जगजीत सिंह​...

​मेरे पसंदीदा क्रिकेटर....मंसूर अली ख़ान पटौदी​...

​मेरे पसंदीदा शास्त्रीय गायक...पंडित भीमसेन जोशी​...

​मेरे पसंदीदा संगीत निर्देशक...रवि​...

​मेरे पसंदीदा पेंटर...एम एफ हुसैन ​...

​भगवन वैसे तो आप हर एक के दिल की बात जानते ही हैं...फिर भी आपको बता देता हूं कि मैं भारत के बहुत सारे नेताओं को भी बहुत-बहुत पसंद करता हूं...​नाम तो आप सब का जानते ही हैं....

​आपका आज्ञाकारी 
​एक भक्त




15 टिप्‍पणियां:

  1. भगवान के यहां देर है अंधेर नहीं है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. भगवन को स्वर्ग में मधुर संगीत चाहिए इलेक्शन प्रचार के बजते भोंपू नहीं .....
    यह तो हमारी किस्मत में हैं !
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  3. भगवान उसकी यह इच्‍छा कभी पूरी नहीं करेंगे क्‍योंकि भगवान की कुर्सी ही खतरे में पड़ जाएगी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ऐसी इच्छायें जल्द पूरी कहाँ होती हैं खुशदीप जी

    उत्तर देंहटाएं
  5. आसकरण अटल की एक कविता याद आ गई । :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सारे नेताओं को बहुत सारे लोग बहुत-बहुत पसंद करते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  7. उनके साथ ढेरों शुभकामनाएं हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्पिणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  9. khushdeep ji apki arzi pahuch jaae to plzz hume bhi bata de..hum bhi bahut logo ko pasand karte hai...

    nice post wid diffrent way of expression....badhai apko

    उत्तर देंहटाएं