गुरुवार, 8 मार्च 2012

'नीले गगन के तले' वाले रवि नहीं रहे..खुशदीप​

​                                                           अलविदा रवि साहब
जन्म-3 मार्च 1926 (दिल्ली)
​निधन-7 मार्च 2012 (मुंबई)
                        संसार की हर शह का इतना ही फ़साना है​,इक धुंध से आना है, इक धुंध में जाना है..



रवि साहब के संगीतबद्ध 30  बेजोड़ गीत इस लिंक पर एक-एक कर सुने जा सकते हैं...

11 टिप्‍पणियां:

  1. रवि साहब को श्रद्धांजलि.

    उत्तर देंहटाएं
  2. रवि और साहिर - ऐसी जोड़ी जिसने बेहद मकबूल नगमे दिये। रवि साहब को श्रद्धान्जलि.

    उत्तर देंहटाएं
  3. उनके संगीत के रूप में वे हमेशा अमर रहेंगे ।
    रवि जी को विनम्र श्रधांजलि ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. महान कलाकार को विनम्र श्रद्धांजलि ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. रवि साहब को विनम्र श्रद्धांजलि..

    उत्तर देंहटाएं
  6. इन दिनों दक्षिण की फिल्मों में वे धूम मचा रहे थे,मगर शानदार ट्रैक रिकार्ड के बावजूद,कई अन्य हस्तियों की तरह,वे भी बॉलीवुड मे दरकिनार हो गए थे। उन बी आर चोपड़ा ने भी बाद में औरों का दामन थाम लिया था,जिनकी फिल्मों ही नहीं,धारावाहिक तक में वे लगातार हिट देते आए थे। गुटबाज़ी प्रतिभाओं का क्या हश्र करती है,बॉलीवुड इसका अच्छा उदाहरण है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. रवि साहब को विनम्र श्रद्धांजलि..

    उत्तर देंहटाएं
  8. रवि साहब को विनम्र श्रद्धांजलि......

    उत्तर देंहटाएं