मंगलवार, 14 फ़रवरी 2012

अलविदा शहरयार साहब...खुशदीप


अख़लाक़ मोहम्मद ख़ान उर्फ़ शहरयार​
16 जून 1936-13 फरवरी 2012


13 टिप्‍पणियां:

  1. दिल है तो धड़कने का बहाना कोई ढूढ़े...

    विनम्र श्रद्धांजलि..

    उत्तर देंहटाएं
  2. अलविदा- विनम्र श्रद्धांजलि.

    उत्तर देंहटाएं
  3. नायाब शायर शहरयार को,हमसे जुदा किया,
    खुदा को भी किसी फ़रिश्ते की तलाश थी !

    हार्दिक श्रद्धांजलि

    उत्तर देंहटाएं
  4. कल यार मरा और आज शहरयार
    जाना है ख़ुद भी एक दिन यार


    ...बस मालिक हमें अपने बंदे के रूप में स्वीकार कर ले,
    हमें ऐसा बनकर जाना है इस दुनिया से।

    http://blogkikhabren.blogspot.in/2012/02/age-factor.html

    उत्तर देंहटाएं
  5. महान शायर को विनम्र श्रधांजलि ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. शहरयार साहब का जाना उर्दू शायरी के लिए एक बहुत बुरी खबर है...ऐसे लोग सदियों में पैदा होते हैं..

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  7. शहरयार साहब का जाना, उर्दू शायरी के लिए ऐसा नुक्सान है, जिसकी भरपाई नामुमकिन है.

    उत्तर देंहटाएं