गुरुवार, 2 फ़रवरी 2012

मैं तो नू ही चलूंगी, जो कन्ना है कललो..खुशदीप​ ​​



मध्य प्रदेश के कटनी रेलवे स्टेशन के ट्रैक पर एक गाय ने रेलवे स्टाफ के नाक में दम कर दिया...आगे आगे गाय, पीछे पीछे ट्रेन...स्टाफ यही मन्नत मांगता कि गऊ माता को शायद तरस आ जाए और वो अलग हट कर ट्रेन को निकलने का मौका दे...लेकिन गऊ माता ने तो शायद और ही कुछ ठान रखी थी...मैं तो नू हीं ​​चलूंगी जो कन्ना है कललो...



(youtube से साभार )

9 टिप्‍पणियां:

  1. is par kuchh kahna bekar hai.

    वेद क़ुरआन में ईश्वर का स्वरूप God in Ved & Quran
    http://vedquran.blogspot.com/2012/01/god-in-ved-quran.html

    उत्तर देंहटाएं
  2. रेलवे ट्रेक पर गाय, आश्‍चर्य है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस गाय को हटने का रास्ता नही मिला, बाकी यह भारत हे, इस लिये यह आम हे

    उत्तर देंहटाएं
  4. गाय तो भाग भी रही है,
    यदि भैस होती तो?
    खुशदीप भाई,आप भी कमाल
    की बात दिखा देते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. काश ये गाय उस वक्‍त क्रिकेट मैदान में घुस जाती जिस वक्‍त हमारे धुरंधर(?) क्रिकेट आष्‍ट्रेलिया के सामने घुटने टेक रहे थे, मैच रूक जाता और फजीहत होने से बच जाती।

    उत्तर देंहटाएं
  6. यह बड़ी समस्या है..ट्रैक में बहुधा गायें आ जाती हैं...

    उत्तर देंहटाएं