सोमवार, 30 जनवरी 2012

​​काले-गोरे का भेद नहीं, हमने तो दिलों को जीता है...खुशदीप





मनसा वाचा कर्मणा वाले राकेश कुमार जी की संतान भी उन्हीं की तरह यशस्वी और ज्ञान की धनी है...राकेश जी की बिटिया निधि अग्रवाल के फेसबुक अकाउंट पर आज अंग्रेज़ी में कुछ बड़ा अच्छा पढने को मिला...वही आपसे शेयर कर रहा हूं...​


टैम एयरलाइंस का एक वाकया​

​पचास बरस के आसपास की एक गोरी महिला ​​फ्लाइट के लिए अपनी सीट पर आती है तो देखती है साथ की सीट पर एक काला पुरुष बैठा है...​

​ये देखकर महिला का पारा आसमान पर चढ़ जाता है..वो फौरन एयर होस्टेस को बुलाती है...​

​​क्या समस्या है मैडम...एयर होस्टेस पूछती है..​

​​तुम्हें समस्या दिखाई नहीं दे रही क्या...मैं इस काले पुरुष के साथ नहीं बैठ सकती, मेरी सीट फौरन बदली जाए...गोरी महिला ने नाक-मुंह चढ़ाते हुए कहा...​

​​कृपया शांत रहिए मैडम. अफसोस है कि सारी सीटें भरी हुई हैं, फिर भी मैं देखती हूं, क्या हो सकता है...एयर होस्टेस ये कह कर चली गई और थोड़ी देर बाद लौटी...​​​

मैडम, जैसा कि मैंने आपसे कहा था कि इकोनामी क्लास में कोई सीट खाली नहीं है...मैंने कैप्टन से इस बारे में बात की, उन्होंने भी इकोनामी क्लास में कोई सीट न होने की पुष्टि की है...हां, बिज़नेस क्लास में ज़रूर कुछ सीटें खाली हैं...लेकिन जैसी परिस्थिति है, कैप्टन ने भी माना है कि किसी के लिए अप्रिय सह-यात्री के साथ बैठ कर यात्रा करना उचित नहीं होगा...​

​​इसके बाद एयर होस्टेस काले पुरुष की ओर मुखातिब होते बोली...​

​इसका मतलब है सर, आपको थोड़ी देर के लिए हुई इस असुविधा के लिए हम क्षमाप्रार्थी हैं, आप चल कर बिज़नेस क्लास में सीट ग्रहण कर वर्ल्ड क्लास यात्रा और सुविधाओं का आनंद लीजिए...

​​ये सुनकर प्लेन में बाकी सारे यात्री, जो महिला के व्यवहार से चकित थे, अपनी सीटों से उठकर एयरलाइंस स्टाफ के लिए तालियां बजाने लगे...

---------------------------------------

है प्रीत जहां की रीत सदा, ​
मैं गीत वहां के गाता हूं,​
​भारत का रहने वाला हूं,​
भारत की बात सुनाता हूं...



12 टिप्‍पणियां:

  1. इस सुन्दर सन्देश देती पोस्ट के लिए निधि को बहुत बधाई.और उसे यहाँ पढवाने के लिए आपका भी आभार.
    यह गीत जितनी बार भी सुनो मन गोरवान्वित हो जाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिल जीतना कितना आसान है ...सुन्दर सन्देश..

    उत्तर देंहटाएं
  3. जी, वाकई...अब जीत हार तो एक ही सिक्के के दो पहलू हैं, लेकिन लोग समझें तब न...

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह... कहानी अच्छी लगी...

    लेकिन पोस्ट के फोंट बहुत छोटा है, बढ़ने में थोड़ी असुविधा हो रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. जी हां खुशदीप भाई ,
    इसे अंग्रेजी में हमने भी दोस्तों की फ़ेसबुक दीवार पे पढा था ।अंत ने सुखद गर्व भर दिया मन में । फ़ोंट सच में ही छोटा हो गया है ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस कहानी का उद्देश्य अच्छा है लेकिन यह शायद वास्तविक घटना नही है!
    http://www.hoax-slayer.com/racist-airline-passenger.shtml

    उत्तर देंहटाएं
  7. बढ़िया संदेश...बहुत ही मीठा गीत है, यह ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. ऐसा ही प्रत्‍युत्तर देने पर लोग सुधरेंगे। मेरा पसंदीदा गीत है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहतरीन संदेश।
    शानदार गीत।

    उत्तर देंहटाएं
  10. आप के स्नेह और प्रेम के लिए आभार ,खुशदीप भाई.

    उत्तर देंहटाएं