शनिवार, 5 नवंबर 2011

ओ गंगा, तुम रुक गई क्यों...खुशदीप

भूपेन हज़ारिका

8  सितंबर 1926- 5 नवंबर 2011

12 टिप्‍पणियां:

  1. उनकी यादें हमेशा बनी रहेंगी ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. दुखद, गंगा से सभ्यता के बारे में प्रश्न पूछने वाला चला गया।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अभी श्रीलाल शुक्ल जी की चिता की आग ठंडी हुई नहीं कि कला की दुनिया को यह आघात !!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. उन की कृतियाँ हमारी बहुत बड़ी थाती हैं जो युगों तक उन की स्मृति बनाए रखेगी। उन की कलाएँ आम जन के लिए थीं और वह जल्दी किसी अपने को विस्मृत नहीं करता।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुरों की गंगा रुक गयी क्यों ...
    नमन एवं श्रद्धांजलि!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत कुछ ले गया साल २०११ ...
    उनके गीत हमेशा उन्हें जीवित रखेंगे.
    विनर्म श्रद्धांजलि .

    उत्तर देंहटाएं