बुधवार, 3 अगस्त 2011

क्या प्रियंका चोपड़ा का दारू को प्रमोट करना सही है...खुशदीप

अस्सी के दशक के शुरू में अभिनेत्री दीप्ति नवल ने एमएस सिगरेट ब्रैंड को प्रमोट करने के लिए एड फिल्म में काम किया था...एड में दीप्ति को सिगरेट पीकर धुएं के छल्ले उड़ाते देखा तो देश में हंगामा मच गया था...क्योंकि तब तक फिल्मों में सिर्फ खलनायिकाओं को ही सिगरेट और शराब पीते दिखाया जाता था...एक नायिका ने रील लाइफ़ से निकल कर रियल लाइफ में खुद सिगरेट पीने के साथ महिलाओं को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित किया तो सबका शॉक होना लाजिमी था...

लेकिन आज तीस साल बाद देश की टॉप हीरोइन प्रियंका चोपड़ा एक सरोगेट एड में दारू के ब्रैंड ब्लैंडर्स प्राइड को टीवी पर धड़ल्ले से प्रमोट कर रही है तो कहीं से कोई आवाज़ नहीं उठ रही है...शराब और सिगरेट के ब्रैंड्स के एड जारी करने पर सरकार की रोक है...लेकिन दारू लॉबी ने सरोगेट एड के तौर पर ऐसा तोड़ निकाला है कि सरकार भी कुछ नहीं कर पा रही है...या यूं कहें कि कुछ करना ही नहीं चाह रही है....इन एड में दारू के ब्रैंड को बड़े-बड़े फिल्म स्टार्स और क्रिकेटर्स प्रमोट करते हैं...ब्रैंड का नाम बड़ा बड़ा चमकता रहता है...लेकिन नीचे कई छोटी सी लाइन में लिख दिया जाता है...प्लेइंग कार्ड्स, सोडा, ग्लासेज़...ये लिकर लॉबी की चतुराई है कि वो दारू के साथ ये छोटीमोटी चीज़ें भी उसी ब्रैंड के साथ मार्केट में प्रमोशन के लिए उतार देती है...जैसे प्रियंका की एड में ही ब्लैंडर्स प्राइड तो लोगो के साथ साफ तौर पर देखा जा सकता है लेकिन नीचे बारीक सा लिखा है फैशन टूर  2011...सिर्फ इसलिए कि दारू के सरोगेट एड जारी किए जा सकें...पूरी दुनिया को समझ आ जाएं लेकिन सरकार को ही समझ नहीं आता कि सीधे सीधे आंखों में धूल झोंक कर दारू को प्रमोट किया जा रहा है...अब आए भी क्यों जब विजय माल्या जैसे लिकर बैरन खुद ही राज्यसभा सांसद हैं और संसदीय कमेटियों में शामिल हैं...


 
खैर आप छोड़िए, दारू की सरोगेट एड के इस लिंक पर जाकर  पीसी बेबी का कॉन्फिडेंस देखिए... Priyanka Chopra, A Blenders Pride 

------------------------------------------------------------

Brilliant answers for which a student got 0% marks...



15 टिप्‍पणियां:

  1. इसी को तथाकथित सभ्य समाज कहते है अब क्या करें

    उत्तर देंहटाएं
  2. not just priyanka , there are many celebrities who do the same thing
    dhoni
    harbhajan
    are 2 such names
    harbhajan was even reprimended by sikh community

    such ads should be banned and smoking and drinking should be completely prohibited

    whether a woman does it or a man does it its wrong

    and khushdeep
    i have never seen you writing against those bloggers who after a peg or glass of beer taken during a meet put snaps on their blogs

    as long as we keep these double standards we will never be able to correct any thing

    and please dont say that bloggars are not celebrities becauase some bloggars do behave like one and have a fan following which always says this is right

    lets us not just blame the rich , and celebs lets first find those among us

    NOW SINCE YOU ALREADY ARE GIVING A LINK IN ENGLISH , A COMMENT IN ENGLISH SHOULD NO MORE BE A TABOO

    AS BLOGING IN HINDI IS NOT PROMOTION OF HINDI

    उत्तर देंहटाएं
  3. http://ajit09.blogspot.com/2010/12/blog-post_26.html

    http://za.samwaad.com/2010/12/blog-post.html

    http://yogindermoudgil.blogspot.com/2010/12/blog-post.html


    few links for your attention

    उत्तर देंहटाएं
  4. i have never seen you writing against those bloggers who after a peg or glass of beer taken during a meet put snaps on their blogs

    Rachnaji,

    You haven't forgotten that i was the first person who commented on your post which was written after Tilyar episode and As far as my memory is concerned I clearly condemned exhibition of pegs or glasses of beer or whisky whatever it be. In my opinion taking alcohal in personal get-togethers is not a crime, but pompoff or showoff of that on public domains like blogging is a wrong thing. Now hoping that you'll get my point...

    Jai Hind...

    उत्तर देंहटाएं
  5. त्रिफला के विज्ञापन में इतना पैसा मिले तो उसका भी विज्ञापन करेंगी ये।

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. thank you khushdeep for saying
    In my opinion taking alcohal in personal get-togethers is not a crime, but pompoff or showoff of that on public domains like blogging is a wrong thing.

    but have you ever tried write in a similar manner on such people on your blog as u have done against priyanka

    just because they happen to be your friends and priyanka is unknown to you and cant come in her defence here

    my question remains as is
    why never a post on people who have done so on blog front why priyanka alone

    उत्तर देंहटाएं
  8. uss sach me
    बंदा 16 साल से कलम-कंप्यूटर तोड़ रहा है:D
    lagta hai padh ke:D

    उत्तर देंहटाएं
  9. Nice .
    I have enjoyed discussion both of you. The use of alchohol in company or personally is harmfull , no doubt. Our children gain which we are doing bcos we are the master of our family .

    And please have a look on my new post .

    आप क्या जानते हैं हिंदी ब्लॉगिंग की मेंढक शैली के बारे में ? Frogs online

    उत्तर देंहटाएं
  10. मै तो चाहती हूँ की शराब जैसी किसी उत्पाद का प्रचार टीवी जैसे माध्यमो से हो ही नहीं फिर क्या पुरुष और क्या नारी | प्रियंका को छोडिये ज्यादा दुःख मुझे धोनी के इस तरह के विज्ञापन के करने से हुआ क्योकि एक तो वो खेल जैसी चीजो से जुड़े है दूसरे वो देश के सबसे लोकप्रिय खेल के कप्तान है युवाओ के आदर्श भी है उन्हें सचिन से कुछ सिखाना चाहिए था उन्हें दूसरे विज्ञापनों की कोई कमी भी नहीं थी | प्रियंका सेलिब्रिटी भर है किसी की आदर्श नहीं |

    उत्तर देंहटाएं
  11. हमेशा से ही शराब कम्पनियाँ शराब के विज्ञापनों को दुसरे प्रोडक्ट्स के नाम पर दिखाती आ रही हैं... और सरकार सबकुछ देखते हुए भी अनजान बनी बैठी है...

    उत्तर देंहटाएं
  12. ये तो जो करें कम है।
    शराब का विज्ञापन टीवी पर बंद किया गया तो क्‍या बंद हो गया.....
    शराब बनाने वाली कंपनियों ने सोडा बनाना भी शुरू कर दिया और अब उस सोडा के नाम पर उत्‍पाद का विज्ञापन खुले आम हो रहा है......

    उत्तर देंहटाएं
  13. त्रिफला के विज्ञापन में इतना पैसा मिले तो उसका भी विज्ञापन करेंगी ये।..............ye koi sher
    hai ya babbar sher.........

    pranam.

    उत्तर देंहटाएं
  14. विज्ञापन करना इनका प्रोफेशन है...प्रवीण जी से सहमत.

    उत्तर देंहटाएं