रविवार, 20 मार्च 2011

ब्लॉगरों का सबसे बड़ा पोल खोल...खुशदीप




डेली ब्लॉग टाइम्स ने जान पर खेल कर बिलीचीक्स से हिंदी ब्लॉगरों के सीक्रेट हासिल किए हैं...ब्लॉग केबल नंबर 420-420 के तहत हासिल किए गए इन केबल्स से ब्लॉगवुड के ऐसे ऐसे राज़ हम खोलने जा रहे हैं कि आप दांतों तले उंगली दबा लेंगे...इसके ज़रिए कई दिग्गज ब्लॉगर होने जा रहे हैं बेनकाब...मसलन आप अभी तक डी कंपनी के नाम से किसे जानते रहे हैं-दाऊद इब्राहिम...जी नहीं डी कंपनी का संचालक अब भी दुबई में ही बैठा है और धडल्ले से अपना धंधा चला रहा है...दुबई में रहने वाले इस ब्लॉगर का नाम भी डी से ही शुरू होता है...आपने अंदाज़ लगा ही लिया होगा...ये शख्स कौन है...नहीं तो आज इस शख्स का नाम इस पोस्ट की टिप्पणियों में आ ही जाएगा...

आप जानते ही हैं डी कंपनी का जानी दुश्मन छोटा साजन है...ये छोटा साजन आज भी बैंकाक से ही अपना काम चला रहा है, लेकिन इसने अपना भेस बदल दिया है...इंटरपोल को चकमा देने के लिए इसने महिला का रूप धारण कर रखा है...बैंकाक निवासी इस ब्लॉगर के नाम के साथ डॉक्टर भी जुड़ा है...ऐसे शातिर ब्लॉगरों के चेहरे बदलने का काम दिल्ली में बैठा एक टिम्बर मर्चेंट कर रहा है...शक्ल से भोले-भाले दिखने वाले इस शख्स की पत्नी भी इसके कारनामों में बढ़-चढ़ कर साथ देती है...इस ब्लॉगरी गिरोह के तार पूरी दुनिया में फैले हुए हैं और ये तेज़ी के साथ कई देशों में अपने पैर पसारते जा रहे हैं...

इनके हिसाब-किताब का ज़िम्मा कनाडा में रहने वाले चार्टेड एकाउंटेंट ने उठा रखा है...ये चार्टेड एकाउंटेट विल्स सिगरेट के खाली पैकेटों पर ही कविताओं के ज़रिए कंपनी का लेखा-जोखा रखने में माहिर है..ये शख्स वैसे भी कल ही रियल दादा बना है... कनाडा में ही रहने वाली एक लेडी डॉन कंपनी की कारगुज़ारियों को शॉर्ट फिल्मों के ज़रिए शूट करती रहती है ताकि कल कोई ब्लॉगुर्गा अपनी ज़िम्मेदारी से मुकर न सके...ब्लॉगरों की डी कंपनी खुल्लमखुल्ला तौर पर ये सब गोरखधंधा चलाती है...

इस कंपनी का बड़ा फाइनेंसर जर्मनी में मौजूद है..इस फाइनेंसर ने पिछले साल के आखिर में रोहतक के तिलयार में बड़ा जमावड़ा कराया था...वहां एक कवि महोदय, शार्पशूटर और कंपनी के इंजीनियरिंग ठेकेदार की लाल परी के साथ एक तस्वीर के मीडिया में आ जाने से बड़ा रचनात्मक बखेड़ा भी खड़ा हो गया था...इस कंपनी की हिम्मत देखिए ये अपनी मीटिंग्स का इंटरनेशनल प्रसारण जबलपुर में बैठे एक शख्स के ज़रिए कराती रहती है...इस कंपनी का कोई आदमी फंसता है तो कोटा के एक नामी वकील के साथ सेटिंग कर रखी है...ज़मानत वगैरहा में कुछ प्रॉब्लम हो तो दिल्ली की तीस हज़ारी कोर्ट में बैठे छा जी की सेवाएं ली जाती है...

इंटरनेट संबंधी कोई भी समस्या हो तो भिलाई में बैठा तकनीक का सरदार इनकी मदद करता है...इस कंपनी को पैसे की दिक्कत भी कभी नहीं हो सकती...क्योंकि नुक्कड़ नुक्कड घूमने वाले एक हवाला आपरेटर को इन्होंने सेट कर रखा है...इसी हवाला के पैसे के दम पर इन्होने छत्तीसगढ़ में रहने वाले एक शार्पशूटर का इंतज़ाम कर रखा है...इस शार्पशूटर को शूटिंग की ज़रूरत ही नहीं पड़ती क्योंकि शिकार इसकी बड़ी-बड़ी मूच्छों को ही देखकर बेहोश हो जाता है...हथियारों के लिए ये कंपनी कानपुर में आयुद्य फैक्ट्री में काम करने वाले एक शख्स से कॉन्टेक्ट करती है...ये शख्स फटफटिया पर मौज लेने का बड़ा शौकीन है...ये गैंग कितनी दूर की सोच कर चलता है, ये इसी से अंदाज लग सकता है कि इसने अपना ही मेडिकल पैनल बनाया हुआ है...इस पैनल की कमान दो डॉक्टरों के पास है...एक ने रायबरेली में डेरा डाला हुआ है...दूसरा डॉक्टर  राजधानी दिल्ली से आपरेशन संभाले हुए हैं...दोनों डॉक्टर मरीजों को दवा की जगह अपनी फुलझ़ड़ियों से ठीक करने में यकीन करते हैं...(अरे नहीं बाबा मुन्नाभाई एमबीबीएस वाली वो फुलझ़डी नहीं जो कहती रहती हैं- आंखों में आंखों में डाल कर देख ले...)

ब्लॉगिंग जैसे जुर्म का वायरस फैलाने वाली इस कंपनी ने मीडिया में भी पपलू सेट कर रखे हैं...मीडिया प्रकोष्ठ का मुखिया दिल्ली से सटे नोएडा में बैठा शख्स है जो स्लोग ओवरों से सभी को पकाता रहता है...ये कंपनी कितना दूर का सोचती है ये इसी से पता चल जाता है कि लखनऊ में इन्होंने एक इतिहासकार को अपाइन्ट कर रखा है...ये कंपनी के शुरू होने से इसके हर कालखंड को लिख-लिख कर कैप्स्यूल फार्म में ज़मीन में गाढ़े जा रहा है...लखनऊ में रहने वाला एक स्वयंभू हैंडसम शख्स अपने मैनपुरिया जोड़ीदार के साथ दावे करता रहता है कि हमारे रहते डी-कंपनी बिल्कुल महफूज़ है और इसका कोई बाल भी बांका नहीं कर सकता...इन्होंने मुंबई के अमन के पैगाम गुरू से हमेशा मासूम बने रहने की ट्रेनिंग ले रखी है...डी कंपनी की हार्ड ड्रिंक्स की ज़रूरतों को दिल्ली में बैठा एक शाह अपनी कंपनी की सॉफ्ट ड्रिंक्स से ही पूरा करता रहता है...

मैंने भंग की तरंग में बिलीचीक्स से मिले सीक्रेट केबल्स के हवाले से जितने राज़ खोले जा सकते थे, खोल दिए...अब आप भी शिवजी की बूटी चढ़ा कर ऐसे ही जितनी सीक्रेट बातें आप जानते हैं, कमेंट्स के ज़रिए खोलिए...डरिए मत आपको डिप्लोमेटिक इम्युनिटी दिलाने के लिए मैंने यूएन हेडक्वार्टर से स्पेशल परमिशन ले रखी है...

(होली स्पेशल)

48 टिप्‍पणियां:

  1. बड़ा पोल खोलु चैनल है, सब की पोल खोल कर धर दी, इससे यह जाहिर होता है कि इस कम्पनी से आपका भी सरोकार है, नगद स्विस बैंक में इंडिया में उधार है।

    राड़िया का फ़ोन आया कि नहीं?

    होली मय पोस्ट के लिए आभार, आप सभी को होली बधाई, मेरी तरफ़ से भाभी जी के चरण स्पर्श कर आशीर्वाद ले लेना।

    शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुझे तो लगता है माजरा कुछ और ही है। इस पोलखोल पोस्ट में जो कुछ लिखा है उस के अलावा पीछे छुप कर कोई बड़ा खड़जंतर होने जा रहा है। लोगों को सावधान हो जाना चाहिए।
    शिवजी की बूटी इस्तेमाल करने के पहले जाँच लें कि वह शिवजी वाली ही है न कहीं उस में सिक्कों की मिलावट तो नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. होली रंगों के इस त्यौहार की हार्दिक शुभकामनाये।


    jai baba banaras..............

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह सबकी पोल खोल दी...

    होली की शुभकामनाएँ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. हम यही सब समाचार के लिए आपको खोजते रहे रात भर. उ तो भला हो खुरदीप बाबू का जो यहाँ का पता दे गए.
    लागत है भांग घोटल लस्सी ज्यादा चढ़ा लिए.
    होली sssssssssss है

    उत्तर देंहटाएं
  6. अमां इस पोडूसर को आज के आज टांगो भाई लोगों ...एकहु को नहीं बक्शा है जी ..हमें तो सक था ही कि हो न हो एक दिन ब्लॉगजगत को भी अपना खुद का एकता कपूर मिल ही जाएगा ..आज एकता सहगल आखिरकार हमें मिल ही गई ।
    टीवी हमें तुम पर नाज़ है ..
    .ब्लॉगर तुम्हारे हाथ ही लाज है
    अमां ये हमें क्या हुआ आज है ,
    ओह यहां तो बहुत राजम राज है ..जय जय हो प्रभु

    उत्तर देंहटाएं
  7. सचमुच सबसे बडा पोल खोल है
    होली का मजा दुगना हो गया, यह पोस्ट पढ कर

    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  8. vaah bhaai vaah is pol khulu chenal ne to sbhi ki nind udhaa di he or mahol men khushbu apnepan ki mahak ghol di he holi mubark ho. akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  9. हम्म
    और इंटरपोल भाड़ झोंक रहा है ?

    उत्तर देंहटाएं
  10. बिलकुल सही राज खोले हैं ...मुकदमें के लिए चार्ज शीट सबमिट कब कर रहे हो ??

    उत्तर देंहटाएं
  11. ढोल की पोल,दिल लगाके खोल
    हंगामा मच जाये,सब कोई गश खायें
    रंगों के उत्सव में, रंग ऐसा जम जाये
    रंग कभी छूटे ना,दिल कभी टूटे ना

    लगे रहो खुशदीप भाई,मस्ती अभी बाकी है.
    मेरी पोस्ट 'बिनु सत्संग बिबेक न होई' पर एक बार फिर से आईये साथ में सभी ब्लोगर जन को लाईये. सभी को 'मुक्ति'न दिला दी तो कहना.

    उत्तर देंहटाएं
  12. होली के पवन अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएं ! --- अशोक बजाज ग्राम चौपाल रायपुर

    उत्तर देंहटाएं
  13. कोनो ठेका ले लिए है क्या आजकल ... सब का पोल खोलने का ??

    उत्तर देंहटाएं
  14. होली रंगों के इस त्यौहार की हार्दिक शुभकामनाये।

    उत्तर देंहटाएं
  15. हमें तो आपका कमेन्ट देख ही दाल में काला नज़र आने लगा था .....
    इसलिए दौड़े चले आये .....):

    पर यहाँ जिस दिग्गज ब्लॉगर के गोरख धंधे की बात हो रही है वो अभी तक अंडर ग्राउंड है .....
    चमचों ने अपने आपको सेलेडर कर दिया ....
    इन मुछों वाले का एक राज़ हमारे पास भी है ...
    अपने धंधे में घसीटने गुवाहाटी आने वाले थे ..बड़ी मुश्किल से पीछा छुडाया ...
    फिर इन्होने शार्पशुटर जी को पीछे लगा दिया ....
    आपका बहुत बहुत शुक्रिया जो आज ये पोल खोल दी ...
    हम तो बर्बाद होने से बच गए ....

    आपका इंटरव्यू भी सुना आज बहुत बहुत बधाई ....

    पव्वा चढ़ा लिता जे,
    कपड़े फाड़ लये जे,
    औलिया बन गए वां,
    हीर जी, साणूं राणझा बणन लई और कि कि करना जे, दसे जाओ...

    तुसीं ते पहिलां ही ब्लॉग जगत दे राँझा हो जी ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (21-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  17. आभार इतनी सूचनात्मक पोस्ट का।

    उत्तर देंहटाएं
  18. हा हा हा ! सारे राज़ खोल दिए ।
    अब तो सब का राज पाट से छुटकारा पक्का ही समझो।

    हीर जी ने जो आशीर्वाद दिया है , उसे हमारी तरफ से से भी समझो ।
    होली की शाही शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. अभी कई पोलें खुलने से रह गईं हैं खुशदीप जी. मैं आपकी कम्पनी में भर्ती होना चाहती हूं, पोल-खोल एजेंट की हैसियत से :)
    रंग-पर्व पर हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  20. मुझे तो यह पोल खोलू कोई घर का ही आदमी लगता हे... जो एक एक सही खबर सब तक पहुचा रहा हे, चलो भाईयो इसे पकडे ओर रंग से भरे ड्रामा मे अच्छी तरह से इसे रंग दे:)
    होली की हार्दिक शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  21. हा हा खुश्दीप जी ... खुश कर दित्ता सब दा ना दस के ... पर मैनु समझ नि आई ... मेरा ना वी डी ते है ... ते रैनाला वी मैं दुबई दा हां ... ए दुज्जा डान केडा आ गया ...

    भाई अगर कोई खोज सके तो ज़रूर बताना ... मैं भी हिसाब पूरा कर लूँ ...

    होली की बहुत बहुत मुबारक खुश्दीप भाई .....

    उत्तर देंहटाएं
  22. लो जी आ गया ऊपर वाली टिप्पणी में दुबई में बैठे डी कंपनी के
    संचालक का नाम...देखा कितनी ईमानदारी है, खुद ही कबूल कर लिया...जो कना है कललो...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  23. दिगम्बर परा जी,

    बैंकांक में रहने वाले (या वाली)दूसरे डॉन 'छोटे साजन' का नाम भी डी से ही शुरू होता है...नाम के आगे डोक्टर भी लगता है...Z से शुरू होने वाला एक अति उत्साह वाला उपनाम भी है...अब इसके बाद भी कुछ बताने को रह जाता है...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  24. पोलखोलू चैनल के सभी हिस्सेदारों को होली की रंगारंग शुभकामनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  25. अच्‍छा तो ये लफड़े चल रहे हैं, होली आ गई, वरना खबर ही न होती.

    उत्तर देंहटाएं
  26. रोहतक के पर्यटऩ स्थल तिलयार पर . . शुक्र है उस दिन मैं रोहतक में नहीं था, नहीं तो मेरा नाम भी आ जाता . . आगे सतर्क रहना पड़ेगा, वर्ना अगली होली पर कहीं अपना नंबर भी . .। बेहतरीन और मजेदार पोस्ट । शुभकामनाएं ।
    - सी पी बुद्धिराजा

    उत्तर देंहटाएं
  27. तो ये नया खुशदीपलीक्स शुरू हो गया?:)

    होली पर्व की घणी रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  28. विश्वस्त सूत्रों से ज्ञात हुआ है...इन सारी खुराफतों की जड़....नॉएडा में कहीं बैठे सुपर डान के हाथ में है जी..यानी कि हैंडल वही घुमा रहा है जी...
    अब अगर हम कुछ कहेंगे तो आप कहेंगे कि हम कहते हैं ..इसलिए हम कुछ नहीं कहेंगे जी...
    होली की बहुत सारी मुबारकबाद...!

    उत्तर देंहटाएं
  29. होली के बहाने खूब पोल खोली आपने ...ये सभी लोंग हमारे शक के दायरे में थे , अच्छा हुआ आपने कन्फर्म कर दिया ...बस एक दिल्ली वाले मर्चंट को पहचाना नहीं ..अभी रेड कॉर्नर नोटिस भिजवाते हैं सबके लिए :)..
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  30. वाणी जी,
    हंसते रहो वाला ये टिंबर मर्चेंट वही है जो अपने ब्लॉग पर सभी ब्लोगरों के चेहरे बदलता रहता है...पुरुषों को कमसिन हसीना बना देता है...बेशक मूंछें फिर भी दिखती रहें...इनकी पत्नी का खुद भी ब्लॉग हैं और वो ब्लॉगिंग के लिए बहुत समर्पित है...अब तो पक्का आप भी समझ गई होंगी...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  31. बड़े दूर दूर तक तार फैले हैं...बड़ा संगीन मामला उजागर किया है....जिओ!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  32. ab raj.....raj nahi raha.....phas ho
    gaya hai..........

    sachhi me itni ghani network.........

    pranam.

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत ही अच्छा पोस्ट किया है जी !हवे अ गुड डे ! मेरे ब्लॉग पर आये !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se
    Latest News About Tech

    उत्तर देंहटाएं
  34. ओले ए ते मैं ई सिगा ... मैनु पता ई नई सी ... चलो हुँन तुस्सी २ ना ते दस ते ... होर वी दस दो ... त्वानू पता है अस्सी ते ओंज वी दमाग दे पैदल हैगे ...
    आपको और आपके पूरे परिवार को होली की मंगल कामनाएँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  35. भैया हम तो चुपचाप ही बैठे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  36. चलो अच्‍छा हुआ,इस बार अपन तो बच गए।

    उत्तर देंहटाएं
  37. ये तार तो दूर-दूर तक फैला है भाई, डी कंपनी के सारे गुर्गे को पकड़ने के लिए काफी है आपको पकड़ना, क्योंकि आप तक पहुंचकर ही पूरे गैंग का सफाया किया जा सकता है, ऊपर वाला आपके पते को हमेशा महफूज़ रखे, ताकि यह डी कंपनी यूँ महफूज़ रहे अपने महफूज़ की तरह ....डी कंपनी के सभी साधारण-असाधारण गुर्गे को होली की हमारी कोटिश: शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  38. सीधा शरीफ
    नहीं बदमाश
    मैं हूं
    आगे आप जोडि़ए

    उत्तर देंहटाएं
  39. दूर बैठे लोगां नू लपेट लपेट के मारया ते साडे वर्गे घर दे बन्दे नू भुल गए...होंदा ऐ बाउजी एदां ही होंदा है...किन्नी वारि क्या वे होली दे मौके थोड़ी पिया करो...:-)

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  40. मैने 'देशनामा'पर क्लिक किया तो यह खुला। लगता है 'देशनामा' ब्लॉग को भाईलोगों ने हैक कर डी-नामा बना दिया।

    उत्तर देंहटाएं

  41. रायबरेली ?
    रायबरेली तो कुछ सुना हुआ नाम लग रहा है, यह किस देश की राजधानी है यह ठीक से याद नहीं आ रहा.... श्री पोलखोलू सैगल से आज ही सम्पर्क करना पड़ेगा, बशर्ते कि वह होश में मिले ।

    उत्तर देंहटाएं
  42. हम्म!...लगता है कि किसी घर के भेदी ने ही लंका ढाह दी है...
    खैर!...कोई बात नहीं...पता चलने दो एक बार उसका...उसके बेटे की गोद में कैटरीना को ना बिठाया तो मेरा भी नाम...दातुन मर्चेंट नहीं..

    उत्तर देंहटाएं