शुक्रवार, 18 मार्च 2011

जिम, रोडीज़ और विद्याभूषण...खुशदीप

 
 
हमारे देश में और कुछ हो न हो, फिल्म-टीवी का ग्लैमर युवा पीढ़ी के सिर पर चढ़ कर खूब बोलता है...जिस पर ये नशा चढ़ता है वो खुद को हमेशा ही शीशे में निहारता रहता है...जिम जाकर बॉडी वगैरहा भी बनाने लगता है...अब दिन-रात इसी काम में इतना मग्न हो जाता है कि बाकी दीन-दुनिया की ख़बर रखना मुश्किल हो जाता है...
 
कल मेरे बेटे ने मुझे यू-ट्यूब पर एक वीडियो दिखाया...इसमे एक विद्याभूषण जी आडिशन देने के लिए आए हुए हैं...वो विद्या के कितने बड़े भूषण हैं, ज़रा इस वीडियो को गौर से देखिए, आप खुद ही समझ जाएंगे...



21 टिप्‍पणियां:

  1. होली की ढेरों शुभकामनाएं.
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. देखा था जी
    रोडीज के मॉडरेटर्स रघु ने कहा था कि इस देश से जिम और कॉलसेंटर्स बंद कर दिये जायें तो शायद इस देश का नौजवान भी कुछ सामान्य ज्ञान रखे।
    रोडीज से माँ-बहन की गालियां हटा दी जायें तो यह प्रोग्राम बहुत कुछ सीखाता है।

    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  3. होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं , यह पर्व आपके जीवन में खुशियाँ और उमंग लेकर आये .............

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिम का थीम , क्या कहने अयोध्या में महाभारत .
    होली की आपको और सभी ब्लोगर जन को हार्दिक
    शुभ कामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  5. होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  6. भोगविलास के लिए पनप रहे हैं ऐसे युवा। इसी कारण देश में इतना भ्रष्‍टाचार है क्‍योंकि ऐसे लोगों को बस पैसा चाहिए। समाज और देश से इन्‍हें कुछ लेना देना नहीं है। बहुत अच्‍छा वीडियो था।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बस दुनिया इसे ही चलती है !होली की ढेरों शुभकामनाएं.हवे अ गुड डे ! मेरे ब्लॉग पर आये !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se
    Latest News About Tech

    उत्तर देंहटाएं
  8. गुमराह हो रहे हैं कुछ युवक

    उत्तर देंहटाएं
  9. मुझे पूरा रोडीज कार्यक्रम ही बेकार लगता है वह आये ज्यादातर युवा का यही हाल होता है, वैसे देश के युवाओ का यही हाल है | कुछ साल पहले वी टीवी ने युवाओ से सवाल किया था की " वाट / हु इज कोफ़ी अन्नान ? " ज्यादातर ने इसे कॉफ़ी का एक ब्रांड बताया, दिल्ली के युवा "कसाब" को नहीं जानते , ये देश के भविष्य है |

    उत्तर देंहटाएं
  10. होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं|

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (19.03.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. क्या कहूँ... ? बड़ी दया आती है.... आजकल के युवाओं पर... एक हम हैं... हमारे लिए शरीर बनाना एक साधना है...तपस्या है...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  15. लव लाक-अप, दादागिरी, डेयर टू डेट, इमोशनल अत्याचार..
    जय हो टेलीविजन और जय हो युवाओं की..

    उत्तर देंहटाएं
  16. खुशदीप जी, अगर यही नोजवान हे देश का तो इस देश को भगवान भी नही बचा सकता...
    होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  17. शुभकामनायें होली की खुशदीप भाई !

    उत्तर देंहटाएं
  18. समझ नहीं आ रहा कि प्रतिक्रिया क्या की जाए... युवाओं की आज की हालत पर. . . या ... उन परिस्थितियों पर जो उन्हें सामान्य ज्ञान के आसपास भी नहीं भटकने दे रही है और वक्त पड़ने पर बेशर्मी से उटपटांग उत्तर देती हैं । ब्यूटी पार्लर, जिम वालो सावधान हो जाओ ।
    सी पी बुद्धिराजा

    उत्तर देंहटाएं