सोमवार, 14 मार्च 2011

रेडियो तेहरान पर मेरा इंटरव्यू...खुशदीप



रेडियो तेहरान की हिंदी सेवा ने सौहार्द बढ़ाने के उद्देश्य से एक बेहतरीन श्रंखला चलाई...इसी के तहत मेरा इंटरव्यू भी लिया...इसमें मैंने यह बताने की कोशिश की-सांप्रदायिकता हो या दूसरे कोई फसाद, उनकी  मार सबसे ज्यादा गरीब तबको को ही सहनी पड़ती है, यह ऊंच-नीच का फर्क हमारे समाज  में सदियों से चला आ रहा है, जिसे सही शिक्षा कि रोशनी से ही दूर किया जा सकता है...यह भी बताया कि मेरा हिन्दू धर्म सही मायने  में मुझे क्या सिखाता है...

आप भी सुनिए यह इंटरव्यू....


 

25 टिप्‍पणियां:

  1. बधाई!
    अदालत जा रहा हूँ। लौट कर पढ़ता हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह खुशदीप भाई आप ने बेहतरीन इंटरव्यू दिया है. हमारा समाज दो हिस्से मैं बाँट गया है . अमीर और ग़रीब. चाहे कोई फसाद हो या बाढ़ ,मरता बिचारा ग़रीब ही है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बधाई हो आपको ! आपका दिन अच्छा रहे
    प्रणाम,
    मेरा ब्लॉग विसीट करे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    उत्तर देंहटाएं
  5. बधाई ... बहुत ही लाजवाब इंटरव्यू है खुश्दीप भाई ... बहुत सफाई से अपनी बात रखी है आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत महत्वपूर्ण साक्षात्कार है। इसे पठनीय आलेख बना कर आप हमारीवाणी पत्रिका को दीजिए।

    उत्तर देंहटाएं
  7. महत्त्वपूर्ण उपलब्धि ।
    मुबारक हो ।
    अच्छे विचार प्रस्तुत किये हैं आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मुझे विश्वास है कि एक बड़ी ज्वलंत समस्या पर "बड़ी खबर" के प्रोडयूसर का इंटरव्यू लेना रेडियो तेहरान के लिए निश्चित ही महत्वपूर्ण रहा होगा !
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुंदर बात कही आप ने,चाहे कोई फसाद हो या बाढ़ ,मरता बिचारा ग़रीब ही है.यही तो हे आज का सच, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. मेरे यहां ब्राडबैण्ड परेशान कर रहा है... शायद कल तक सुन पाऊं..

    उत्तर देंहटाएं
  11. कलम स्वस्थ विचारों की ओढ़नी ओढ़ती रहे ... बिखरे दिलों को जोड़ती रहे ... इस तरह की जंग जारी रहे ... वो सुबह जरूर आएगी । जय हिंद
    - सी पी बुद्धिराजा

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत बहुत बधाई खुशदीप भाई.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही लाजवाब इंटरव्यू|आपको बहुत-बहुत बधाई|

    उत्तर देंहटाएं