मंगलवार, 23 नवंबर 2010

आज बस भ्रष्टाचार के फंडे की दो फुलझड़ियां...खुशदीप

मैथ्स के टीचर ने छात्र से सवाल पूछा- अगर एक दीवार को बनवाने में दस हज़ार रुपये का खर्च आता है तो दो दीवार बनवाने में कितना खर्च आएगा...

छात्र...दस करोड़ रुपये

टीचर...नालायक, ये कौन सा गणित सीखा है तूने...क्या नाम है तेरे बाप का...

...



...



...



छात्र...सुरेश कलमाड़ी



-------------------------

टू जी स्पेक्ट्रम घोटाले पर प्रधानमंत्री जी  ने आखिर अपनी चुप्पी तोड़ी...कहा...

...



...



...



सिर्फ दो जी जो मैं जानता हूं, वो हैं सोनिया जी और राहुल जी...

18 टिप्‍पणियां:

  1. यह सही है ... :-)
    ढक्कन नज़र नहीं आ रहा बड़े दिनों से खुशदीप भाई !

    उत्तर देंहटाएं
  2. हा हा हा मजेदार जोरदार

    हम भारतीयों जैसा जिंदादिल मनमौजी मस्त और हर हाल में खुशहाल रहने वालो की मिशाल दुनिया में कही नहीं मिलेगी जब हम खुद के लूटे जाने पर भी हंसते है वो भी दिल खोल कर | :-)))

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह क्या सवाल हैं और क्या जवाब तुम्हारा भी जवाब नही। बस यूँ ही हंसते हंसाते रहो और सच बताते रहो। आशीर्वाद। अब पिछली पोस्ट देख लूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हा-हा-हा
    फुलझडियों के रूप में हंसी के पटाखे निकले

    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  5. लगे रहो खुशदीप भाई .... ;-)

    जय हिंद !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हा हा हा ... बेहतरीन खुशदीप भाई... ज़बरदस्त!

    उत्तर देंहटाएं
  7. तीसरा जी भी है, माननीय राष्ट्रपति जी।

    उत्तर देंहटाएं
  8. अब ३ जी के माहोल में २ जी को याद करना .....|हा.हा हा हा |

    उत्तर देंहटाएं