बुधवार, 11 अगस्त 2010

मेरे पास कोठी है, कार है, बंगला है...खुशदीप

आज सुबह से तबीयत ढीली है...बुखार के साथ शरीर में हरारत है...इसलिए आज ज़्यादा लिखने की हिम्मत नहीं है...बस एक माइक्रोपोस्ट...

मक्खन को अपने भाई टिल्लू का बरसों बाद पता चल गया...मक्खन ने टिल्लू से कहा आकर मुंबई के बांद्रा-वर्ली सी-लिंक ब्रिज पर मिले...बड़े भाई का संदेश पाकर टिल्लू का भी लहू जोश मारने लगा...आखिर लहू ने लहू को जो पुकारा था...मक्खन के बताए टाइम पर टिल्लू सी-लिंक पहुंच गया...




अब मक्खन ने छोटे भाई को देखने के बाद शेखी बधारने के लिए कहा...देखो, मेरी तरफ़, देखो...मेरे पास कोठी है, बंगला है, कार है, बैंक बैलेंस है...तुम्हारे पास क्या है...क्या है तुम्हारे पास...

टिल्लू कुछ सोचने के बाद...मेरे पास भी कोठी है, बंगला है, कार है, बैंक बैलेंस है...

मक्खन...कंजर दे पुतर, फेर मां किदे कोल वे....(कंजर के बेटे, फिर मां किसके पास है...)




स्लॉग गीत

मेरी पसंद का ये गीत सुनिए...फिल्म स्वामी (1977) के लिए किशोर कुमार ने राजेश रोशन के संगीत निर्देशन में इसे गाया था...

यादों में वो, सपनों में है...

24 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी तबियत जल्द ही ठिक हो जाए, शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  2. लगता है बरसाती वाइरसों का हमला है। तनिक भी लापरवाही मत करिएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जल्दी ठीक हो जाइए शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  4. आजकल वाइरल बहुत फैला हुआ है ......अपना ध्यान रखें ! शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  5. ह्म्म्म्म,....पता चला --आपके पास कोठी है,कार है, बंगला है,और बुखार है....(माइक्रोपोस्ट की तरह कम समय के लिए ).....बस जल्दी से स्वस्थ हों यही कामना...

    उत्तर देंहटाएं
  6. जल्दी ठीक हो जाइए शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  7. खुश दीप जी जल्दी नाल ठीक हो जाओ जी, कुछ दिन पहले आप ने बहुत सी दवाओ के नाम बताये थे, उन्हे मत खाये... बस गर्मा गर्म नींबू की चाय या फ़िर हरी चाय पिये, तुलसी डाल कर सात दिनो मै भले चंगे हो जायेगे, हमारी शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  8. आजकल मां किसी के पास नहीं होती .. सारे बेटे कार , कोठी , बंगले के लिए ही परेशान होते हैं .. आपका स्‍वास्‍थ्‍य जल्‍द ठीक हो .. शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बारिश में वायरल औऱ हद से ज्यादा काम...यही दो कारण हैं बीमार होने के खुशदीप जी के

    उत्तर देंहटाएं
  10. माँ पता नही, शायद किसी ओल्ड होम में हो ।
    आप शीघ्र स्वास्थ्य लाभ करें और लेखन निरंतर चलता रहे ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. मां को पास रखें बुखार भाग जाएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बुखार का इलाज करें और आराम करें। बाकी पाबला जी ने पर्मानेंट "ब्लाग बुखार" पाल रखा है। उनसे कुछ सलाह ले लें।

    ब्लॉग4वार्ता पर स्वागत है आपका

    चेतावनी-सावधान ब्लागर्स--अवश्य पढ़ें

    उत्तर देंहटाएं
  13. खुशदीप जी, फिल्म स्वामी के मेरे इस अत्यन्त प्रिय गीत, जो कि मेरे दिमाग के किसी अंधेरे कोने में खो गया था, को सुनवाने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद! संगीतकार राजेश रोशन की यह धुन विभोर कर देने वाली है!

    मेरी कामना है कि आप जल्दी ही स्वस्थ हो जाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सब से पहले अपनी सेहत की तरफ ध्यान दो। आराम करो और जल्दी से ठीक हो कर एक बडी सी पोस्ट ले कर आओ। हाँ हैरान हूँ कि मैने ये गीत पहले कभी नही सुना था। लाजवाब धन्यवाद इसए सुनाने के लिये। सेहत के लिये शुभकामनायें आशीर्वाद।

    उत्तर देंहटाएं
  15. सिद्धांत के अनुसार तो बुखार में नानी याद आनी चाहिए थी. खैर...

    उत्तर देंहटाएं
  16. आप शीघ्र स्वास्थ्य लाभ करे।

    उत्तर देंहटाएं
  17. .कंजर दे पुतर, फेर मां किदे कोल वे.

    हा हा हा ! बुखार में भी इतना बेहतरीन दे मारा ।
    लेकिन भाई वाइरल है तो हमारे कहने से कुछ नहीं होगा । आराम करने से जल्दी ठीक होगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. शीघ्र स्वास्थ लाभ करें..फिर इनकी माता जी को खोजेंगे. :)

    उत्तर देंहटाएं
  19. तबीयत ढीली है!? टाईट करो भई :-)

    आखिर टीचर किस दिन काम आएगी? हा हा हा

    मक्खन भी चक्कर में पड़ गया!

    उत्तर देंहटाएं
  20. जो चीजे नही हैं उन्हे लिखो तो बुखार भी नही रहेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. ज़रूर ये भारत माँ की बात कर रहे होंगे ...।

    उत्तर देंहटाएं