मंगलवार, 31 अगस्त 2010

गु्ल्ली, मम्मी और पड़ोस वाले अंकल...खुशदीप



साइकोलॉजी टीचर ने नए तरीके से छात्रों को पढ़ाने का फैसला किया...आते ही क्लास में छात्रों से कहा कि क्लास में जो भी स्टूपिड है, खड़ा हो जाए...

ये सुनकर गुल्ली खड़ा हो गया...

टीचर ने ये देखकर कहा कि क्या तुम स्टूपिड हो...

गुल्ली ने कहा...नहीं सर, आप को अकेले क्लास में खड़ा देखकर मुझसे रहा नहीं गया...


-------------------------


मैथ्स टीचर ने गुल्ली को बुलाया...फिर पूछा...बताओ 2 और 4 क्या होते हैं...28 और 44 क्या होते हैं...



गुल्ली ने तपाक से जवाब दिया...M TV, फैशन टीवी, V TV, WWF लेडी फाइटिंग...



--------------------------

गुल्ली पिता मक्खन के साथ घोड़ों की नीलामी पर गया...
 
वहां मक्खन एक-एक घोड़े की टांग, पीठ, मुंह पर अच्छी तरह हाथ फेर कर देख रहा था...
 
थोड़ी देर तक गुल्ली ये सब देखता रहा...
 
फिर पूछ ही बैठा...आप ऐसा क्यों कर रहे हैं...
 
मक्खन ने जवाब दिया कि मैं घोड़े को खरीदने से पहले देखना चाह रहा हूं कि वो पूरी तरह स्वस्थ और अच्छी शेप में है या नहीं...
 
गुल्ली...ओह तो अब समझ आया कि मम्मी के साथ  पड़ोस वाले अंकल  ऐसा क्यों कर रहे थे...

17 टिप्‍पणियां:

  1. मक्खन से कहो घर पर भी रहा करे !
    जय हिंद !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. गुल्ली भी जाने कौन कौन सी पोल खोल देता है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ह हा हा! गुल्ली भी गजब का है. :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. हाँ आज मुझे ऐसी पोस्ट की बहुत जरूरत थी। बस हंसते रहो हंसाते रहो। बहुत बहुत आशीर्वाद।

    उत्तर देंहटाएं
  5. @निर्मला जी,
    थो़ड़े दिन तक ब्लॉगिंग से दूर रहा...लेकिन जिस तरह का माहौल हिंदी ब्लॉगिंग में बनता जा रहा है, स्थिति को सुखद नहीं कहा जा सकता...इसे भी खींचतान, निजी खुन्नस निकालने का मंच माना जाने लगा है...अपने लिए जीए तो क्या जीए तो छोड़ अब जिओ और जीने दो के सिद्धांत को भी नहीं माना जा रहा...ईर्ष्या, जलन, अहंकार की जो भावनाएं हमें निजी जीवन में ग्रस्त रखती हैं, उन्हीं का वमन करने के लिए हम ब्लॉगिंग का भी इस्तेमाल करने लगे हैं...ऐसे में कई बार लगता है कि ब्लॉगिंग में बने रहने से किसी सार्थक उद्देश्य की पूर्ति नहीं हो पा रही...देखिए ये स्थिति कब तक बनी रहती है...अन्यथा जयराम जी करना लेना ही बेहतर होगा...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  6. खुशदीप भाई स्थिति वाकई बहुत ही चिंता जनक है ...ब्लोगिंग जिसे जनहित में आवाज को बुलंद करने के लिए एक सशक्त मिडिया का रूप देकर सरकार पर सही नीतियाँ बनाने उसे जमीनी स्तर पर सही तरीके से लागू करने के ठोस उपाय करने इत्यादि के लिए दबाव डालने के लिए प्रयोग किया जा सकता था तो इसकी जगह आज ब्लोगिंग ब्लोगरों के आपसी खुन्नस निकालने के लिए इस्तेमाल हो रहा है ...? बेहद दर्दनाक और शर्मनाक स्थिति है ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. लोग कुछ भी करते रहें , खुद को ठीक रखो , यही ज़रूरी है ।
    किसी विवाद में न पड़ें , बस मौज मस्ती करते रहें ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. ये गुल्ली कहीं का कहीं पिटेगा......... शर्त लगा कर कह सकता हूँ.........

    उत्तर देंहटाएं
  9. अजी हुआ क्या?हमे तो कुछ पता भी नही, वेसे गुल्ली है सायाना..:)

    उत्तर देंहटाएं
  10. ...आप तो गुल्ला गुल्ली करते रहें और हम सबको हंसाते रहे ...जाने की कोई जरुरत गुल्लाजी... हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  11. "ओह तो अब समझ आया कि मम्मी के साथ पड़ोस वाले अंकल ऐसा क्यों कर रहे थे." स्टुपिड :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. गुल्ली बदमाश तो पहले ही था, लगता है अब बड़ा बदमाश होगया है. ;-)

    उत्तर देंहटाएं
  13. ओये गुल्ली .......गुल्ली ओये...
    ओये कमाल कर दित्ता ओये....


    जय हिंद..

    उत्तर देंहटाएं