बुधवार, 21 जुलाई 2010

ये कौन सी जगह है दोस्तों...खुशदीप

गौर से देखिए यहां दी गई तस्वीरों को...फिर गेस लगाइए कि ये खूबसूरत जगह कौन सी है और यहां रहने वाले खुशकिस्मत लोग कौन हैं...जवाब मैं आपको इसी पोस्ट के बीच में दूंगा...




















ये सारी तस्वीरें ब्रिटेन में बनी एक नई जेल की हैं...



खुदा न करे लेकिन अगर किसी को जेल जाना पड़ जाए तो उसके साथ क्या क्या होगा...


जेल में आप ज़्यादातर वक्त 10x10 की सेल में बिताते हैं...


जेल में आपको तीन वक्त का मुफ्त खाना मिलता है...

अच्छे बर्ताव पर आपको खुला रहने के लिए ज़्यादा वक्त मिल जाता है...


गार्ड ही आपके लिए सारे दरवाज़े खोलता और बंद करता है...


आप टीवी देख सकते हैं, कोई गेम खेल सकते हैं...


आपका अपना अलग टॉयलेट होता है...


आपके दोस्त और घर वाले आपसे मिलने आ सकते हैं...


जेल में आपके ऊपर होने वाला सारा खर्च टैक्स देने वाले उठाते हैं...

अब आप जेल की इन परिस्थितियों की उन हालात से तुलना कीजिए जो रोज़ आपको आजीविका कमाने के लिए घर से बाहर सहने पड़ते हैं..

(नोट- जेल के ये हालात भारत से जोड़ कर मत देखिएगा...ये पश्चिमी देशों की जेलों के हालात हैं...)




28 टिप्‍पणियां:

  1. जो भी हो............ मुझे नहीं जाना ..............नहीं जाना .........मतलब नहीं जाना !!

    वैसे, आज हम लोगो को यह जेल यात्रा क्यों करवाई जा रही है ??

    उत्तर देंहटाएं
  2. शिवम थोड़ा खुद ही दिमाग लगाओ, जवाब मिल जाएगा...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  3. पता नहिं इस जेल के आगे,
    जन्नत की सूरत क्या होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपका शुक्रिया...जेल के दर्शन भी करवा दिया आपने...
    :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. इसीलिए तो इसमें रहने वाले सरकारी दामाद कहलाते हैं और मेहनतकश अपने टैक्स भर भर कर इनको पालते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अपने देश की जेल की तस्वीर लगा देते। फिर लोग गाते इसके आगे जहनुम की सूरत क्या होगी

    उत्तर देंहटाएं
  7. इतनी सुंदर होते हुए भी लोग इस से बाहर रह कर गड़बड़ करते रहते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  8. अंग्रेज हमेशा से दोगले रहे हैं,
    अपने लिए तो स्वर्ग सी जेलें और सारी सुविधाएं।
    हिन्दुस्तानियों के लिए नर्क सी जेलें और काला पानी।

    उत्तर देंहटाएं
  9. ऐसी जेल भारत में हो तो भाई लोग जेल से बाहर ही ना आये अपना सारा कारोबार वही से चलाते रहें |

    उत्तर देंहटाएं
  10. ललित जी की बात गौर करने लायक है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. वैसे जेल की हालत हमारे देश में इससे ज्यादा बेहतर होनी चाहिए क्योकि अब हमारे देश में सच्चे,अच्छे ,इमानदार और देशभक्तों को ही तो जेल में रखा जायेगा और ऐसे लोगों को अगर सुविधा मिलती है तो हमारे टेक्स के पैसे का सदुपयोग ही होगा बेसक जेल में ही सही ,इन भ्रष्ट नेताओं को तो जेल हो ही नहीं सकता ...?

    उत्तर देंहटाएं
  12. इसप्रकार जेल को खुबसुरत बनाना,अंग्रेजों की मार्केटिंग ्चाल है मित्रों।
    ये लोग भी आतंकवाद से त्रस्त है,इस प्रलोभन में कदाचित आतंकवादी बंद हो जाय।
    चुहों का पिंजरा

    उत्तर देंहटाएं
  13. मुझे लगता है इस पोस्ट से जो मैं संदेश देना चाहता था, उसे सही तरह से रखने में मुझसे चूक हो गई है...दरअसल मेरा मकसद ब्रिटेन की जेल की खूबसूरती का प्रचार करना नहीं है...मैं उस जेल की ओर आप का ध्यान दिलाना चाह रहा था जिसमें रोज़ हम अपनी मर्ज़ी से बंद होते हैं...भौतिकतावाद की जेल, आगे बढ़ने की अंधी दौड़ की जेल, हर वक्त परफॉर्म करने का प्रैशर...कहीं रुक कर सोचने का हमारे पास वक्त नहीं है...खाली वक्त में भी लैपटॉप, टीवी, मोबाइल...ये दिमाग के लिए चौबीस घंटे की जेल नहीं तो क्या है...इसलिए मैं इस जेल की तुलना सच की जेल से इस पोस्ट में करना चाह रहा था...आप भी ये तुलना करके देखिए...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  14. ोह तो ये बात है? सीधे से कहा करो न? ब्लागैन्ग करते करते सोचने का समय कहाँ होता है। आशीर्वाद।

    उत्तर देंहटाएं
  15. हम्म आपने समझाया तो समझ में आया ..वर्ना मैं तो सोच रही थी एक चक्कर लगा ही आया जाये :)

    उत्तर देंहटाएं
  16. काश! मैं ब्रिटेन का कोई अपराधी होता

    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  17. हिंदी ब्लॉग लेखकों से आग्रह - हमारीवाणी.कॉम

    ब्लॉग लेखकों का अपना ब्लॉग संकलक हमारीवाणी अभी साज-सज्जा की अवस्था पर है, इसलिए इसके फीचर्स पर संदेह करना उचित नहीं है. यह आपका अपना ब्लॉग संकलक है इसलिए यह कैसा दिखना चाहिए, कैसे चलना चाहिए, इन जैसी सभी बातों का फैसला ब्लॉग लेखकों की इच्छाओं के अनुसार ही होगा.

    Feedcluster संस्करण के समय प्राप्त हुए ब्लॉग जोड़ने के आवेदनों को नए संस्करण में जोड़ने में आ रही समस्याओं को ध्यान में रखते हुए हमारीवाणी के पूर्णत: बनने की प्रक्रिया के बीच में ही आप लोगों के सामने रखने का फैसला किया गया था.

    अगर आप अपना कोई भी सुझाव देना चाहते हैं तो यहाँ दे सकते हैं अथवा "संपर्क करें" पर चटका (click) लगा कर हमें सीधें भेज सकते हैं. आपके हर सुझाव पर विचार किया जाएगा.

    धन्यवाद!

    हमारीवाणी टीम</

    उत्तर देंहटाएं
  18. "खाली वक्त में भी लैपटॉप, टीवी, मोबाइल...ये दिमाग के लिए चौबीस घंटे की जेल नहीं तो क्या है.."
    अगर लोगों के शैतानी दिमाग को इन कामो में व्यस्त न रखा जाये तो वो जरुर ऐसे काम करेंगे की इस खुबसूरत जेल में जाना पड़ सकता है | अच्छा है लोग दुसरे तरह की जेल में बंद है |

    उत्तर देंहटाएं
  19. ्जेल दर्शन भी हो गया……………जय हो।

    उत्तर देंहटाएं
  20. अब इतनी सुन्दर जेल दिखाओगे तो उधर किस का ध्यान जायेगा ।
    वैसे यहाँ रहने वाले भी तो ऐसे ही होते होंगे जैसे लिंडसे लोहन , पेरिस हिल्टन , केट मॉस आदि आदि ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. खुश दीप भाई... युरोप की जेल... मै कभी भी जेल नही गया, लेकिन यहां की जेले इतनी अच्छी नही जितनि आप ने दिखा दी है, अजी यहां की जेले टी वी पर दिखाते है एक कमरे मै ही सब कुछ करना... लोग पागल हो जाते है, क्योकि एक कमरे मै सिर्फ़ एक आदमी ओर कमरा भारत की जेलो से तो सॊ गुणा साफ़ होता है लेकिन एक छोटा सा कमरा, जिस मै टायलेट ओर खाने पीने का भी सब बही,लेकिन खाने पीने की छुट होती है यानि खाना खुब मिलता है ओर अच्छा खाना मिलता है, लेकिन अपनी पसंद का नही

    उत्तर देंहटाएं
  22. भैया मुझे भिजवा दीजिये यहाँ....

    जय हिंद..

    उत्तर देंहटाएं
  23. इसीलिये इसके आकर्षण मे बन्धकर लोग वहाँ खिंचे चले आते है ..

    उत्तर देंहटाएं