बुधवार, 7 जुलाई 2010

बिना कहे सब कुछ...खुशदीप

दुख...


वेदना...


सम्मान...


दया...


धैर्य...

16 टिप्‍पणियां:

  1. बिना बोले इस तरह बोलना भी खूब है !

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ रह ही नहीं गया बोलने के लिए !

    जय हिंद !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. हर तस्वीर खुद में एक मुकम्मल बयान है!बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  4. संवेदनाओं की जीभ नही होती फिर भी किसी न किसी रूप मे बोल देती हैं। सुन्दर तस्वीरें। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रभावी अंदाज़ !भाई सबकी नज़र नहीं जा पाती है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. तस्वीरें बिना शब्दों के ही सबकुछ बयां कर रही हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  7. चित्र खूद बोलते ही जी धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं