सोमवार, 28 जून 2010

आप किस शख्सीयत के मालिक हैं...खुशदीप

दो सूरतें जो आपकी शख्सीयत को तय करती हैं-


पहली सूरत...

आप अपने बारे में क्या सोचते हैं, जब आपके पास कुछ भी नहीं होता...


दूसरी सूरत...

आप दूसरों के बारे में क्या सोचते हैं, जब आपके पास सब कुछ होता है...





स्वामी विवेकानंद ने कहा था-




आदमी परिंदे की तरह उड़ना चाहता है...




आदमी कोयल की तरह गाना चाहता है...




आदमी मोर की तरह नाचना चाहता है...




आदमी मछली की तरह तैरना चाहता है...




लेकिन आदमी बस आदमी बन कर ही नहीं जीना चाहता...

21 टिप्‍पणियां:

  1. स्वामी विवेकानंद की बात आधे लोग मान लें तो देश का क्या दुनिया का कायाकल्प हो जाए। आधुनिक भारत की सही सोच हैं स्वामी विवेकानंद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इन आँखों में थोड़ी नमी हो जाये
    काश आदमी बस आदमी हो जाये

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्यों होता है ऐसा ...
    आदमी कितना कुछ करना चाहता है , कर सकता है ...मगर उसके पास सबकुछ आते ही उसका अहंकार इतना बढ़ जाता है कि उसके भीतर का आदमी समाप्त हो जाता है ...वह दूसरों को दुखी कर , देख कर संतुष्ट क्यों होता है ...अपनी खुशियों में खुश काम ...दूसरों की खुशियों से ज्यादा दुखी ...क्यों होता है ..!

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह खुश दीप भैया वाह हमेशा नया ताज़ा गज़ब विचार

    उत्तर देंहटाएं
  5. दूसरी सूरत तक शायद कोई नहीं पहुँच पाता । वैसे भी मनुष्य की फितरत ही यही है --और , और , और चाहिए ।
    इसी और के चक्कर में आदमी इन्सान नहीं बन पाता ।

    अच्छा लिखा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. Khushdeep ji,
    indino zara aniyamit hun ...thodi si vyastata ho gayi hai..kripa karke maaf kijiyega...
    aaj ki pravishthi bhi hamesha ki tarah laajwaab hai...
    vani ki baat se sahmat hun...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बिलकुल सही आज दार्शनिक से नजर आ रहे हो? बहुत बहुत आशीर्वाद।

    उत्तर देंहटाएं
  8. अगर मेरे पास सब कुछ हो तो मै जीरो हो जाऊंगा, ओर अब जितना है अगर इस से कम हो तो भी कोई फ़िक्र नही, क्योकि हम ने समझोता करना सीख लिया है, बस यही चाहता हुं मै जेसा हुं वेसा ही रहूं, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. लेकिन आदमी बस आदमी बन कर ही नहीं जीना चाहता..

    उत्तर देंहटाएं
  10. लेकिन आदमी बस आदमी बन कर ही नहीं जीना चाहता.
    यही तो सारा खेल है..

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी हर पोस्ट कोई न कोई सीख देती है .....

    बहुत मेहनत करते हैं हर पोस्ट पे आप ......!!

    हाँ पता था किसी न किसी गीत की पंक्तियाँ ही होंगी आपकी टिपण्णी में ......

    उनके ख्याल आये तो .......

    उत्तर देंहटाएं
  12. खुशदीप भैया.....,
    इन दिनों ज़रा अनियमित हूँ ...थोड़ी सी व्यस्तता हो गई है ..कृपा करके माफ़ कीजियेगा ...
    आज कि प्रविष्ठी भी हमेशा कि तरह लाजवाब है ...
    अदा कि बात से सहमत हूँ ...


    जय हिंद....

    उत्तर देंहटाएं
  13. भैया कोशिश तो यही करते हैं कि आदमी बनकर ही जिया जाए इसी कारण प्रेम को ही महत्‍व देते हैं। आज दुनिया में ऐसे बहुतायत में लोग हैं जो आदमी बनने की तरफ प्रवृत्त होते है। मेरे ख्‍याल से प्रत्‍येक व्‍यक्ति चाहे कितना ही खराब क्‍यों ना हो लेकिन वह भी अपने परिवार और बच्‍चों के बारे में तो सोचता ही है और जो भी ऐसा सोचता है वह आदमी बनने की ओर ही कदम बढाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. आदमी का आदमी होना ही सबसे ज़्यादा ज़रूरी है

    उत्तर देंहटाएं