रविवार, 6 जून 2010

क्या आसान, क्या मुश्किल-1...खुशदीप


टेलीफोन डायरेक्टरी में जगह बनाना आसान होता है...


किसी के दिल में जगह बनाना बहुत मुश्किल...



दूसरों की गलतियां निकालना आसान होता है...


अपनी गलतियों की पहचान करना बहुत मुश्किल...



जिन्हें आप प्यार करते हैं उन्हें आहत करना आसान होता है...


अपनों को दिए ज़ख्मों को भरना बहुत मुश्किल...



दूसरों को माफ़ करना आसान होता है...


अपने लिए दूसरों से माफ़ी मांगना बहुत मुश्किल...





21 टिप्‍पणियां:

  1. बोलो खुशदीप बाबा की ..................जय !

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर सूक्ति एक यथार्थ है , संकलन योग्य इन वाक्यों के लिए आपका आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. कटु सत्य है यह! यहां उद्ध्रित करने के लिये शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  4. लगे रहिये. दूसरी कड़ी का इन्तजार है..

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप कहाँ से इतनी बढ़िया बढ़िया नई बातें तलाश लाते हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  6. Khushdeep ji,
    aaj aapne wo baatein likhin hain jinse main guzar rahi hun...isliye dil se mahsoos kiya hai...
    sach mein..

    उत्तर देंहटाएं
  7. हाँ ...अपनों की दी हुई चोट ज्यादा तकलीफ देती है ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. सत्यवचन
    लेकिन इन बातों को हम सुनते-पढते हैं और भूल जाते हैं।

    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं