गुरुवार, 13 मई 2010

समीर लाल, द साउंड ऑफ साइलेंस...खुशदीप

खुशदीप सहगल यानि मैं...इनसान हूं...सुख में खुश और दुख में दुखी भी होता हूं...शांत रहने की कोशिश करता हूं लेकिन कभी-कभार गुस्सा भी आ जाता है...पंजाबी ख़ून का असर है या कुछ और...कह नहीं सकता...ब्लॉग पर भी कभी किसी की बात चुभती है तो प्रतिक्रिया दे देता हूं...



लेकिन फिर सोचता हूं कि मैं अपना गुरुदेव समीर लाल जी समीर को मानता हूं...उन्हें फॉलो करता हूं...फिर सागर जैसे उनके गहरे किंतु शांत स्वभाव से कोई सीख क्यों नहीं लेता...इसका मतलब मेरी शिष्यता में कोई खोट है...कोई नापसंद का चटका लगाता है तो मैं पोस्ट लिख मारता हूं...किसी दूसरे की पोस्ट पर कोई वर्तनी सुधार बताता है तो मैं पोस्ट के मूल उद्देश्य की दुहाई देने लगता हूं...समीर जी का शिष्य होते हुए भी क्यों करता हूं मैं ऐसा...

इस रहस्य को मैंने कल सुलझा लिया...

आपने देखा होगा कि अब एक रुपये के नीचे के सिक्के कहीं नहीं मिलते...अब एक, दो  या पांच रुपये के सिक्के ही दिखते हैं...वॉलेट हल्का रखने के लिए मुझे जो भी सिक्के मिलते हैं, उन्हें मैं घर में एक बॉक्स में डाल देता हूं...एक दिन सुबह दूध लेने मार्केट गया...स्टोर वाले के पास सौ का नोट तोड़ कर वापस देने के लिए छोटे नोट नहीं थे...स्टोर वाले ने मुझे बीस रुपये के सिक्के वापस कर दिए...मैंने ट्रैक सूट पहना हुआ था...वॉलेट भी पास नहीं था...इसलिए वो सिक्के मैंने ट्राउजर्स की जेब में ही रख लिए...अब घर वापस आ रहा था तो सुबह सुबह की शांति में जेब में खनक रहे सिक्कों की आवाज़ बहुत तेज़ लग रही थी...इस आवाज़ से ही मुझे वो जवाब मिल गया जो मैं समीर जी की प्रकृति को समझने के लिए शिद्दत से जानना चाह रहा था...क्या आप बता सकते हैं क्या था वो जवाब....चलिए मैं ही बता देता हूं...



सिक्कों का मूल्य कम होता है, इसलिए ज़्यादा बजते हैं...नोट का मूल्य ज़्यादा होता है, इसलिए उसमें आवाज़ नहीं होती...समीर जी भी अब उस मकाम तक पहुंच गए हैं, जिसे अनमोल कहा जा सकता है...अनंत का भी कोई मूल्य लगा सकता है क्या...वो बस शांत होता है...आप भी सुनिए...समीर लाल,  द साउंड ऑफ साइलेंस...

41 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया समझाइश !! जियो, खुशदीप भाई जियो दिल खुश कर दिया आज तो !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर विचार जी. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. बिल्कुल सही!
    मैं पहले भी कह चुका हूँ कि
    मौन की अपनी भाषा होती है

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर उपमा! बडो का बडप्पन इसी को कह्ते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपके इस उदाहरण से मैं सहमत हूं... जरा पूछ लीजिए संजयदत्त के निकटतम और मुलायम सिंह की पार्टी में शामिल उनकी मंडली सहमत है भी या नहीं। भाई लोग मानने को तैयार ही नहीं है कि वक्त उनकी करतूतों के चलते उन्हें परिदृश्य से गायब कर देने पर तुला हुआ है। सचमुच करतूतें ही इतिहास के पन्नों पर धूल जमा देती है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बड़े बड़ाई न करें...बड़े न बोलें बोल...
    रहिमन हीरा कब कहे. लाख टका मेरा मोल...

    उत्तर देंहटाएं
  7. कुल मिलाकर पूरा मामला सिर्फ हिन्दी ब्लागिंग के चरित्र को समझने का है...यहां समाज और परिवार की तरह ही प्रतिक्रियाएं आती हैं।

    मज़ेदार है ये सब। गंभीर नहीं होने का ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. silence से बड़ा अभिव्यक्ति का साधन और कोई नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बिलकुल ठीक, मौन शुद्धता का प्रतीक है !

    उत्तर देंहटाएं
  10. भाई समीर जी ब्लागजगत के अनमोल रतन ही है ..... धन्यवाद्.

    उत्तर देंहटाएं
  11. समीर लाल पर हिन्दी ब्लॉगरों को नाज है!

    उत्तर देंहटाएं
  12. मौन की भाषा बहुत जबर्दस्त होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी समझदारी पर हमें नाज़ है...समीर जी फलदार पेड़ हैं इसलिए हमेशा झुके रहते हैं...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  14. yahi to samir ji ki khoobi hai jo unhein sabse alag karti hai.

    उत्तर देंहटाएं
  15. अजीतजी से पूरी सहमति
    मामला अगंभीर व मनोरंजक है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत बढिया बात कही जी आपने
    मौन में असली वजन होता है, और जिनकी कीमत कम होती है वो ज्यादा शोर करते हैं।

    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  17. एक कहावत नया-नया ड्राईवर ज्यादा भौंपू बजाता है।
    किसी को भी कुछ भी कह रहे हैं।
    लगता है कि झगडने के लिये ही आते हैं और टिप्पणी करते हैं।

    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  18. बिलकुल सही बात कही है....कहा भी गया है कि..

    ओछा चना बाजे घना ..

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत खूब बहुत ह्ही बढिया .....सच में ही मौन की आवाज बहुत ही प्रभावकारी होती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. हीरा तहां न खोलिए जहां कुंजरन की हाट
    अपनी गठरी बांध के,लगिए अपनी बाट

    जय हिंद

    उत्तर देंहटाएं
  21. रूसी भाषा में एक कहावत है " मल्चानीये जोलता " yani " मौन सोने (गोल्ड)के सामान है " अनमोल ..

    उत्तर देंहटाएं
  22. गुरु शिष्य , दोनों पर हमें नाज़ है ।
    आपका उदाहरण भी सही है।

    उत्तर देंहटाएं
  23. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  24. हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा

    "अनूप जी और ज्ञानदत्त जी दबे हुए संस्कार ऐसे ही बाहर निकल आते हैं" वाली पोस्ट के बाद ब्लॉगवाणी तिलमिलाई!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    जिसने धर्म के नाम पर आने वाली संवेदनशील ब्लोगों को नहीं निकाला उसने इस अनोखे ब्लोग को घबड़ाकर ब्लोगवाणि से निकाल दिया!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    आज की पोस्ट देखनी है तो आगे पढ़ें

    उत्तर देंहटाएं
  25. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  26. @कूप कृष्ण और कुमार ज़लज़ला,
    बेनामी करके टिप्पणी करने का ये मतलब नहीं होता कि किसी को भी अपशब्द कहने की छूट मिल जाती...अगर शब्दों की मर्यादा को लांघा न जाए तो मुझे बेनामियों की टिप्पणी से भी परहेज़ नहीं है...लेकिन अनूप जी और ज्ञानदत्त जी जैसे वरिष्ठ ब्लॉगर्स के लिए मैं अपशब्द बिल्कुल बर्दाश्त नहीं कर सकता...ये दोनों तो खैर मेरे लिए सम्मानित है, मैं किसी और ब्लॉगर के लिए भी अपने ब्लॉग पर अपशब्द बर्दाश्त नहीं करूंगा...आलोचना अगर मर्यादा में न हो तो वो सिर्फ भड़ास और कचरा ही होती है...और कचरे की जगह कूड़ादान ही होती है...एक बात और मैं मॉडरेशन का प्रयोग नहीं करता सिर्फ इसलिए कि मुझे आप सब पर भरोसा है...इसलिए मेरे भरोसे को मत तोड़िए और मुझे भी न चाहते हुए मॉडरेशन शुरू कर देना पड़े...ये दो टिप्पणियां मेरे आफिस में होने की वजह से कुछ देर के लिए ब्लॉग पर रह गईं, इसके लिए मैं अनूप जी और ज्ञानदत्त जी से माफ़ी चाहता हूं...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं

  27. अई.. शाबास्स !
    खरा कहने का अँदाज़ निराला !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वाह ब्लॉग की दुनिया! दूर जाने के बाद भी आज भी कितने क़रीब हैं डॉ अमर, अलबेला जी और अविनाश जी

      हटाएं
  28. बड़े बड़ाई न करें...बड़े न बोलें बोल...
    रहिमन हीरा कब कहे. लाख टका मेरा मोल...

    उत्तर देंहटाएं
  29. आभार इतने सारे स्नेह का. :)

    उत्तर देंहटाएं
  30. दादा दादा हैं सचमुच। अद्वितीय। लव यू ,लव यू दादा!

    उत्तर देंहटाएं
  31. दादा दादा हैं सचमुच। अद्वितीय। लव यू ,लव यू दादा!

    उत्तर देंहटाएं