शुक्रवार, 30 अप्रैल 2010

कामयाबी का श्योर शॉट फॉर्मूला...खुशदीप

कुछ लोग कामयाब होने के बस ख्वाब बुनते हैं...


कुछ नींद से जागते हैं और दिन रात एक कर देते हैं...


फिर एक दिन कामयाबी खुद उनके कदम चूमती है...
 


स्लॉग ओवर 

देवदास...पिताजी ने कहा, हवेली छोड़ दो,


मां ने कहा, पारो को छोड़ दो,

पारो ने कहा, दारू छोड़ दो,

और एक दिन आएगा जब...

...

...

...

...

पारो के बच्चे कहेंगे, मामू हमें स्कूल छोड़ दो...

 




29 टिप्‍पणियां:

  1. बेचारा! मामू बन गया...

    बिना जूनून के कामयाबी नहीं मिलती.... अकाट्य सत्य....

    जय हिंद....

    उत्तर देंहटाएं
  2. और कोई दिन रात एक करने पर भी मामू बन जाए तब? ज्यादातर के साथ तो यही होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जाने वो कैसे लोग थे जिन के प्यार को प्यार मिला .....

    उत्तर देंहटाएं
  4. कामयाबी का तो सूत्र यही है जी.

    ----

    और देखदे देखते देवदास दुनिया छोड़ देंगे. :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. हम मेहनत वालों ने जब भी, मिलकर कदम बढ़ाया
    सागर ने रस्‍ता छोड़ा, परबत ने सीस झुकाया
    फ़ौलादी हैं सीने अपने, फ़ौलादी हैं बाँहें
    हम चाहें तो चट्टानों में पैदा कर दें राहें

    मुझे बहुत ज्यादा हमदर्दी है...
    देवदास से....:)

    उत्तर देंहटाएं
  6. छोटी सी मगर बहुत अच्छी पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  7. हाँ यही होगा आज कल के देवदास लोगों का वो जीना तो छोड़ नही सकते तो यही करेंगे...सक्सेस फ़ॉर्मूला बढ़िया...धन्यवाद खुशदीप भैया..

    उत्तर देंहटाएं
  8. पारो के बच्चे कहेंगे,
    मामू हमें स्कूल छोड़ दो...

    हा हा हा
    स्लाग ओवर धांसु है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. कामयाबी का सटीक सुत्र दिया. इससे बेहतर कुछ हो ही नही सकता.

    स्लाग ओवर की गलती सुधारी जाये. अभी अभी मेरे पास मक्खन का फ़ोन आया था, कह रहा था कि स्लाग ओवर मे उसके नाम की जगह देवदास का नाम लिख दिया और वो आपसे बहुत नाराज है. अत: नेक सलाह यही है कि गलती को दुरुस्त कर लिया जाये. आगे आपकी मर्जी.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  10. आजकल कामयाबी मेहनत से नहीं ...छल कपट से मिलती है ...इसलिए हम तो नाकामयाब ही भले ...
    देवदास को दिव्यजी का कहना मान लेना चाहिए ....

    उत्तर देंहटाएं
  11. सटीक फार्मूला

    क्या मक्खन का दूसरा नाम ही देवदास है जी?

    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेचारा देवदास्……………हा हा हा।
    किसी भी लक्ष्य की प्राप्ति बिना जुनून के नही होती।

    उत्तर देंहटाएं
  13. मामू.....हा हा हा ...

    पर कामयाबी के लिए जूनून होना ज़रूरी है..इसके बिना हर काम आज - कल पर टाल दिया जाता है

    उत्तर देंहटाएं
  14. हमने कहा -ब्लोगिंग कम कर दो
    मक्खन ने कहा --लाइने कम कर दो।

    आपने कहा --मक्खन ही सही है। ;)

    उत्तर देंहटाएं
  15. देवदास ने मक्खण को पीछे छोड़ दिया।

    उत्तर देंहटाएं

  16. दारू तो पहले ठीक से छोड़ लैण दे, यार !

    उत्तर देंहटाएं
  17. k ....k ...कामयाबी का शार्टकट ....................! ! ! .नहीं ये श्योर shot निशाने पर हैं ...............मेंवे गुनिया लगा कर देख लिया हैं ...................और स्लोग ओवर ................पारो ने यार्कर फेंक दी .................खुशदीप भाई ....................

    उत्तर देंहटाएं
  18. कामयाबी कि कुंजी तो बता ही दी..
    और स्लोग ओवर जबरदस्त था

    उत्तर देंहटाएं
  19. galti sudhaar......
    mujhe bahut hamdardi hai MAKKHAN se itni buri halat hui hai mujhe pata hi nahi tha....
    bechara makkhan...!!!
    tabhi to bewda sa kagta hai fotu mein bhi....

    :)
    :)

    उत्तर देंहटाएं