खुशदीप सहगल
बंदा 1994 से कलम-कंप्यूटर तोड़ रहा है

भविष्य का लैपटॉप...खुशदीप

ये पोस्ट तो नहीं है, लेकिन जर्मनी का लैपटॉप का ऐसा कॉन्सेप्ट है कि आपको भी देख कर मज़ा आ जाएगा..इसलिए आपको दिखाने के लोभ से खुद को बचा नहीं पा रहा हूं...लीजिए आप खुद ही क्लिक करके देखिए...

रोलटॉप


स्लॉग ओवर


मक्खन को डिटेक्टिव की नौकरी के लिए इंटरव्यू कॉल आई...

इंटरव्यू में मक्खन से पूछा गया...गांधी जी को किसने मारा था ?

मक्खन...थैंक्स सर, आपने मुझे इस पोस्ट के लिए चुना...मैं आपको जल्दी ही पता लगा कर बता दूंगा कि गांधी जी को किसने मारा ?

32 comments:

  1. वाह! खुशदी्प भाई
    दूर की कौड़ी ढुंढ कर लाए हो।

    राम राम

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन रहा रोलटॉप को देखना...बाकी मख्खन तो अब पता करके मानेगा.

    ReplyDelete
  3. वाह भई वाह ....

    तक्नीक कितनी तेज़ी से आगे बढ रही है...!!!

    ReplyDelete
  4. रोल टाप लगता है छा जायेगा आने वाले समय में.

    और एक जरुरी सलाह मक्खन के लिये....मक्खन का एक समय का खाना बंद कर दिया जाये क्योंकि उसका दिमाग इसी रफ़्तार से चलता रहा तो आने वाले समय में ब्लागवुड के लिये समस्यायें खडी कर सकता है. वो अंगरेजी मे कुछ कहा करते हैं कि " प्रिवेंशन इज बेटर देन क्योर"

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. और इसका वजन मैं बतला देता हूं सिर्फ 102 ग्राम क्‍योंकि मैंने तो बुकिंग भी कर दी है। पर तब तक हीं मैं ही रोल न हो जाऊं रोलटॉप खरीदने से पहले। वैसे इस रोलटॉप से हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग में अवश्‍य ही क्रांति आ जाएगी।

    ReplyDelete
  6. रोल-लैपटॉप का रोल हिंदी ब्लॉग्गिंग में ज़बरदस्त होने वाला है....
    और ई मक्खन का लक्षण ठीक नहीं है....इसको समझाइये...नहीं तो किसी दिन आपको भी ले डूबेगा...हाँ नहीं तो...!!

    ReplyDelete
  7. मजा आ गया रोलटॉप देखकर!

    ReplyDelete
  8. सहगल साहब,
    बढिया कॉन्सेप्ट है।

    ReplyDelete
  9. रोलटॉप निर्माता कंपनी से सूचना प्राप्‍त हुई है कि जो हिन्‍दी ब्‍लॉगर इस उपकरण को नि:शुल्‍क प्राप्‍त करना चाहते हैं उन्‍हें सिर्फ हिन्‍दी में ही सक्षम रोलटॉप प्रयोग के लिए भेजा जा सकता है। इच्‍छुक अपनी हाजिरी दर्ज करें।
    हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग की ताकत को कम करके आंकना ठीक नहीं है http://utsav.parikalpnaa.com/2010/04/blog-post_26.html
    लो जी आज एक विज्ञापन मैंने भी लगा दिया है।

    ReplyDelete
  10. रालटॉप ने तो सभी को रोल कर दिया। मक्‍खन को तो जासूसी में लगा ही दो।

    ReplyDelete
  11. अब तो नेट-नोटबुक की बात कीजिए खुशदीप जी!

    ReplyDelete
  12. रोलटॉप तो गज़ब का है!

    वैसे मक्खन का रोल भी टॉप का है :-)

    ReplyDelete
  13. ये रोल टॉप बहुत बढ़िया लगा....और मक्खन का तो कहना ही क्या..हा हा हा

    ReplyDelete
  14. बहुत बढ़िया जानकारी रोल टॉप की
    मक्खन के तो क्या कहने...

    ReplyDelete
  15. hushdeep ji
    waah...........mazaa aa gaya laptop dekhkar aur makkhan ko agar pata chale to hamein bhi bataiyega.
    achcha ye video aap mujhe bhej sakte hain kya meri beti ne dekhni hai.

    ReplyDelete
  16. @वंदना जी,
    आप अपना ई-मेल दे दीजिए, मैं आपको वीडियो भेज दूंगा...

    वैसे आपने मेरा बड़ा ज़ोरदार नामकरण किया है...hushdeep...पढ़ कर मज़ा आ गया...एक बार शिखा वार्ष्णेय जी ने भी मुझे शखुदीप लिखा था...मैंने उन्हें भी कहा था...बड़ा क्यूट लगता है सुनने में...ठीक वैसे जैसे कि मेल शूर्पनखा...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  17. Deep ji-

    Khush rahiye..

    Thanks for sharing the beautiful info regarding Gorgeous Rolltop.

    ReplyDelete
  18. रोल-टॉप बहुत सुन्दर और विलक्षण है.

    ई मक्खन तो गजबे है :)

    ReplyDelete
  19. रोलटॉप तो गज़ब का है!ठीक जैसे कि अपना मक्खन !

    ReplyDelete
  20. अब मक्खन रोज़ दिखेगा क्या फ़िर से

    ReplyDelete
  21. aap kahan se stories nikaaal kar laate hain....aapka blog concepts se bhara rehta hai...

    ReplyDelete
  22. रोलटाप तो वाकई जोरदार है जी


    प्रणाम

    ReplyDelete
  23. रोलटाप बढिया है .. इंतजार है कि मक्‍खन के पता लगाने का .. कि गांधी जी को किसने मारा था !!

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर जिस को जितने चाहिये मुझे मेल कर दे,भेज दुंगां... लेकिन मकखन भी गलत नही जी अब किस गांधी की बात हो रही हौ उस गरीब को क्या पता, हमारे देश मै अब गांधियो की फ़सल बहुत हो रही है, जहां देखॊ दो चार गांधी बेठे है सीट की इंतजार मै

    ReplyDelete
  25. चाइना वालों को इसका पता लग गया या नहीं ?

    ReplyDelete

 
Copyright (c) 2009-2012. देशनामा All Rights Reserved | Managed by: Shah Nawaz