शुक्रवार, 9 अप्रैल 2010

आंखों देखा भ्रम...खुशदीप

एक बुज़ुर्ग ट्रेन पर अपने 25 साल के बेटे के साथ यात्रा कर रहे थे...



ट्रेन स्टेशन को छोड़ने के लिए तैयार थी...


सभी यात्री सीटों पर अपना सामान व्यवस्थित करने में लगे थे...


जैसे ही ट्रेन ने चलना शुरू किया, 25 साल के युवक की खुशी, उत्साह देखते ही बना था...


युवक ट्रेन की खिड़की वाली सीट पर बैठ कर बाहर के नज़ारे देखने लगा...





युवक खिड़की से हाथ बाहर निकाल कर बाहर बह रही शीतल हवा का अनुभव करने लगा...


फिर चिल्ला कर बोला...पापा, पापा...देखो पेड़ पीछे की ओर भाग रहे हैं...


बेटे की बात सुनकर बुज़ुर्ग मुस्कुराया और हां में सिर हिलाने लगा...


पास बैठे एक दंपति युवक की ये सब हरकतें देख रहे थे...


उन्हें 25 साल के युवक का बच्चे की तरह हरकतें करना बड़ा अजीब लग रहा था...


फिर वो युवक अचानक बोला...पापा.. तालाब में जानवर नहाते कितने अच्छे लग रहे हैं...ऊपर देखो, बादल ट्रेन के साथ चल रहे हैं...


अब ये सब देखते हुए दंपति की बेचैनी बढ़ती जा रही थी....


इस बीच पानी बरसना शुरू हो गया...कुछ बूंदें युवक के हाथ पर भी गिरने लगीं...


पानी के स्पर्श का आनंद युवक के चेहरे पर साफ़ झलक रहा था...


इसी मस्ती में युवक बोला...पापा...बारिश हो रही है, पानी की बूंदे मेरे हाथ को भिगो रही है...पापा, पापा देखो, देखो...


अब दंपति से रहा नहीं गया...पति बुज़ुर्ग से बोला...आप डॉक्टर के पास जाकर अपने बेटे का इलाज क्यों नहीं कराते...



बुज़ुर्ग बोला...जी, हम आज अस्पताल से ही लौट रहे हैं...

....

....

....

और मेरे बेटा पहली बार ज़िंदगी के सारे रंग देख रहा है...उसे अस्पताल में आंखों की रौशनी का वरदान मिला है...



स्लॉग चिंतन

जब तक सारे तथ्यों का पता न हो, नतीजा निकालने की जल्दी नहीं करनी चाहिए...


ब्लॉगवुड में आजकल जिस तरह का माहौल दिख रहा है, उसमें ये चिंतन और भी अहम हो जाता है...

53 टिप्‍पणियां:

  1. एक खुशी को आसानी से पागलपन समझा जा सकता है। पर इस से खुशी और खुश होने वाले को कोई फर्क नहीं पड़ता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब तक सारे तथ्यों का पता न हो, नतीजा निकालने की जल्दी नहीं करनी चाहिए...
    बहुत सही कहा।

    उत्तर देंहटाएं

  3. ;=)
    तो.. मेरा सँदेश तुमने फैला ही दिया ?
    सँभवतः इसी हफ़्ते मेरी पट्टी भी खुल जाये !
    खुश रहो !

    उत्तर देंहटाएं
  4. :)
    achchha sandesh pracharit kiya bhaia aapne.. par ye baat tab bhi samajh nahin aayi thi aur ab bhi nahin ki pahli baar dunia dekhne wale ladke ko kaise pata ki wo talab tha ya nadi? janwar tha ya kuchh aur? :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. बड़ी गहरी बात कह गए जनाब :)

    लोग समझ जाएँ तो और बड़ी हो जाए और सार्थक भी

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. जब तक सारे तथ्यों का पता न हो, नतीजा निकालने की जल्दी नहीं करनी चाहिए...

    बहुत बढ़िया ...
    सौ सोनार की एक लोहार की...
    हाँ नहीं तो...!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बढ़िया ...
    सौ सोनार की एक लोहार की...
    हाँ नहीं तो...!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर
    रंग तो बिखरे पड़े हैं हमी आँखे बन्द रखते हैं और खूबसूरत दुनिया की विविधता को देखने से वंचित रहते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  10. जब तक सारे तथ्यों का पता न हो, नतीजा निकालने की जल्दी नहीं करनी चाहिए...


    -बिल्कुल जी..सही है लेकिन होता इसका उल्टा ही दिखता है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।
    dil ko cho gai

    उत्तर देंहटाएं
  12. वो तो ठीक है लेकिन आपकी पोस्टों में लाइनें इत्ती दूर-दूर काहे होती हैं जी!

    उत्तर देंहटाएं
  13. दो लाइनों के बीच की दूरी कम करके देखिये!

    उत्तर देंहटाएं
  14. @महागुरुदेव अनूप शुक्ल जी,
    आपका हुक्म सिर माथे पर...वैसे लोग between the lines भी बहुत कुछ पढ़ लिया करते हैं...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  15. मानवीय प्रव्रित्ति है
    और यह मन तीव्र गति से चलता है।
    शीघ्र ही किसी निर्णय पर पहुँचना ठीक
    नही, इसका अच्छा उदाहरण। पोस्ट बहुत बढिया,
    नेत्र दान महा दान, भगवान सभी को
    सलामत रखे

    उत्तर देंहटाएं
  16. पहली बार देखे जिंदगी के रंग ...
    बहुत खुबसूरत होते हैं ...किसी भी उम्र में देखे जाएँ ...

    तथ्य कई बार भ्रम के आवरण में लिपटे होते हैं ...कि तथ्य और भ्रम में कोई ख़ास अंतर नहीं रह जाता ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. हम तो पहले सोचेगे, समझेगे और फिर टिप्पणी देगे.

    उत्तर देंहटाएं
  18. आनंद आ गया , मेरे पढ़े हुए अब तक के लेखों में से सबसे बढ़िया लेख !
    और हाँ खुशदीप भाई
    जाकी रही भावना जैसी प्रभु मूरत देखी तिन तैसी ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. सच्चा सन्देश देती आज की प्रस्तुति....अच्छी लगी..

    उत्तर देंहटाएं
  20. ये टिप्पणियां बीच में गुम हो जाने का संकट लगता है, सभी ब्लॉगर्स के साथ चल रहा है...पोस्ट लिखने के बाद अब तत्काल ब्लॉगवाणी पर नहीं दिखती...पंद्रह-बीस मिनट बाद नज़र आना शुरू होती है...ब्लॉगवाणी को इस दिशा में कुछ करना चाहिए...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  21. वाकई बहुत सटीक लिखा आपने. पर अपनी भैंस तो वही देखेगी और वही करेगी जो उसकी इछ्छा होगी.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  22. सर्वश्रेष्‍ठ लघुकथा। लेखक को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  23. सही कह रहे हो खुशदीप भाई।

    उत्तर देंहटाएं
  24. भैया.... बहुत सही कहा आपने.... और परम वन्दनीय , आदरणीय... अदा दीदी.... भी सही कह रही हैं..... आज मख्खन गायब है....?

    जय हिंद....

    उत्तर देंहटाएं
  25. जब तक सारे तथ्यों का पता न हो, नतीजा निकालने की जल्दी नहीं करनी चाहिए
    बात तो सही है लेकिन लोगों को अक्ल आए तब ना....

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ! आशा है इस तरह के दीप एक दिन अन्धकार को जरूर दूर कर देंगे

    उत्तर देंहटाएं
  27. अद्भुत....धन्यवाद खुशदीप सर....

    उत्तर देंहटाएं
  28. "जब तक सारे तथ्यों का पता न हो, नतीजा निकालने की जल्दी नहीं करनी चाहिए..."

    ji bilkul

    kunwar ji.

    उत्तर देंहटाएं
  29. मेरे बेटा पहली बार ज़िंदगी के सारे रंग देख रहा है...उसे अस्पताल में आंखों की रौशनी का वरदान मिला है...


    Bahut kuch kah rahi hai ye post na kahte huye bhi .

    उत्तर देंहटाएं
  30. इस खुशी का अहसास तो वो ही समझ सकता है जिस पर बीती हो………………बहुत सुन्दर सन्देश्।

    उत्तर देंहटाएं
  31. चन्द शब्दों में ही बहुत महीन सत्य कह डाला आपने....अति उत्तम!

    उत्तर देंहटाएं
  32. कौन कहता है कि गहरी बातों को बहुत कम में नहीं कहा जा सकता । मुझे तो लगता है कि अक्सर गहरी बातें यूं हीं निकल जाती हैं और बिटवीन द लाईन्स भी बहुत कुछ कह जाती है । बहुत ही बडी बात ,वो भी शानदार तरीके से कह दी आपने , जाने समझने वालों की आंखें खुलती है या नहीं
    अजय कुमार झा

    उत्तर देंहटाएं
  33. दिल छू गयी आपकी पोस्ट...अद्भुत...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  34. सही मे अपना फ़ैसला जल्दी ले लेते है लोग किसी भी मामले मे .य हर किसी के मामले मे

    उत्तर देंहटाएं
  35. "जब तक सारे तथ्यों का पता न हो, नतीजा निकालने की जल्दी नहीं करनी चाहिए..."

    मास्टर स्ट्रोक।

    उत्तर देंहटाएं

  36. बेटिकट दुबारा आया हूँ ।
    खुशदीप भईये, तुम्हारी आँटी, ताई.. आँटी वगैरह जो भी समझो..
    अभी यह पोस्ट पढ़ कर, मेरे पार्श्व में अभिभूत बैठी हैं । मैं धन्य हुआ ।

    उत्तर देंहटाएं
  37. किसी की हँसी ने और अब तक अनदेखी खुशी ने भावुक कर दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  38. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    इसे 10.04.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह ०६ बजे) में शामिल किया गया है।
    http://chitthacharcha.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  39. शायद राहत इन्दौरी के शेर हैं ....

    हर मुश्किल का हल होता है
    आज नही तो कल होता है ।

    पागल को समझाना कैसा
    पागल तो पागल होता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  40. between the lines
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    बहुत कुछ पढ़वा दिया आपने

    उत्तर देंहटाएं
  41. भावुक क्षण .......... धन्यवाद सतीश सक्सेना जी का जिन्होंने आपकी पोस्ट का लिंक दिया

    उत्तर देंहटाएं
  42. रंगों को देख पाने के लिए आंखों में रोशनी तो होती है, पर लोग खुली आंखों से देखने में भी कोताही करते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  43. बेहतरीन लघु कथा! सतीश भैया का धन्यवाद जिनके ब्लॉग से लिंक मिला!

    उत्तर देंहटाएं
  44. कथा जीवन के दर्शन को समझा रही है । जल्दी न करो सोचो, समझो फिर बोलो ।

    उत्तर देंहटाएं
  45. "कोई कैसा क्यों है ?" जब तक हम ये न समझलें तब तक उसके प्रति किसी नतीजे पर पहुँचने की कोशिश भी नहीं करना चाहिये.

    उत्तर देंहटाएं