शनिवार, 20 फ़रवरी 2010

इस पोस्ट को हिट कराना मेरे लिए चैलेंज...खुशदीप

जी हां, ठीक पढ़ा आपने...मुझे हर हाल में अपनी ये पोस्ट हिट करानी है...लेकिन मेरे पास लिखने के लिए आज कोई सॉलिड मुद्दा नहीं है...फिर...फिर क्या...जो फॉर्मूला कुछ और ब्लॉगर भाई अपना सकते हैं, वो मैं नहीं अपना सकता क्या...शाहरुख़ ख़ान...माई नेम इज़ ख़ान... को हिट कराने के लिए मार्केट-शास्त्र की हर ट्रिक आजमा सकते हैं, मैं नहीं आजमा सकता क्या...शाहरुख़ ख़ान ने तो 1988 में दिल्ली के हंसराज कालेज से इकोनॉमिक्स में बीए ऑनर्स किया था...इसलिए बाज़ार के बेसिक्स जानते हैं...लेकिन मैं क्या करूं, मैं तो प्लेन बीएससी हूं...बहरहाल My name is Khushdeep...And I am a juggler...

खैर छोड़िए मुझे मनमोहन देसाई के हिट फॉर्मूले लॉस्ट एंड फाउन्ड की तर्ज पर ही आज हिट पोस्ट बनानी है...इसके लिए मुझे सबसे आसान नज़र आता है कि ब्लॉगवुड के किसी स्टार ब्लॉगर का दामन पकड़ूं और भवसागर तर जाऊं...ये गाता हुआ...पायो जी मैंने ब्लॉग रत्न धन पायो....ठीक है यही काम करता हूं...अंधविश्वास की आग में खुद हाथ जलाने से अच्छा है कि किसी स्टार ब्लॉगर का ही दिल जलाया जाए...लेकिन कौन है वो स्टार ब्लॉगर, जिसका नाम टाइटल में लेने मात्र से ही नैया पार हो जाती है...कुछ लोग उस मिस्टर एक्स को बड़बोला भी कहते हैं...पढ़ाई में हमेशा आला रहा...तर्क में अच्छे से अच्छे शास्त्री का मुकाबला कर सकता है...खूबसूरती के मामले में हैंडसम सलमान ख़ान सरीखा...सलमान की तरह ही दिल का भला और दूसरों के हमेशा काम आने वाला...अपनों की परेशानी में सब कुछ झोंक देने वाला....

आप उसे बेशक बड़बोला कहें या न कहें लेकिन मैं उसे ब्लॉगवुड में बम का गोला मानता हूं...लेकिन मैं ऊपर जिस चैंलेज की बात कर चुका हूं...उसे यहां बताता हूं...दरअसल आज मैंने फैसला किया है कि उस स्टार ब्लॉगर का नाम मैं पोस्ट में कहीं नहीं लिखूंगा...और फिर भी आपको समझ आ जाएगा कि आखिर ये महाशय हैं कौन....

ये जनाब वो पारस पत्थर हैं, जिनके नाम की ही इतनी तासीर है कि जिस पोस्ट के भी टाइटल में ये टंग जाए वो पोस्ट उस दिन की टॉप फाइव में आना निश्चित है...लेकिन मैं क्या करूं मुझे इसी स्टार ब्लॉगर के नाम के सहारे अपनी पोस्ट सब को पढ़वानी है...लेकिन मैंने तो कसम खाई है कि उसका नाम नहीं लूंगा...

बड़ी मुश्किल है चलिए थोड़े हिंट देता हूं...ये जनाब शाहरुख़ ख़ान की शान में कसीदे पढ़ते हुए खामख्वाह...खामख्वाह वालों से भिड़ जाते हैं...इस चक्कर में कई दूसरे भाइयों को भी पोस्ट का चारा डाल देते हैं...कभी खुद को सबसे पहला ब्लॉगर (अपने आकलन के अनुसार) घोषित कर मधुमक्खी के छत्ते में हाथ डाल देते हैं...कभी अपने सुंदर मुखारबिन्दु से ऐसे मधुर वचन कह जाते हैं कि दूसरा तिलमिलाता हुआ पैर पटकता रह जाता है...इसके अलावा वो बेचारा करे भी क्या...इस स्टार ब्लॉगर का ताल्लुक नफ़ासत और नज़ाकत के शहर से है, लेकिन हैं पूरे रोडी (रिफाइन्ड, वेल एडुकेटेड, कल्चर्ड रोडी)....अगर इनसे कोई कह दे कि आप से पहले भी कुछ नाचीज ब्लॉगर हो चुके हैं...तो इस बंधु के चेहरे पर ज़रा सी भी शिकन नहीं आती...इनका तपाक से जवाब होता है...कोई बात नहीं पहले नहीं तो क्या, अब सही, आज तो हम जहां जाकर खड़े हो जाते हैं, लाइन वहीं से शुरू होती है...

अब तक आप समझ ही गए होंगे, ये सुपरमैन मिस्टर एक्स हैं कौन...चाह कर भी इनका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता...क्योंकि इन्होंने लेखन की लाजवाब शैली से ब्लॉगवुड में इतने चाहने वाले जो बना रखे हैं...अब आप भला किस किस से पंगा लोगे.... जहां तक इनके नाम से पोस्ट हिट कराने का सवाल है, तो उसके लिए कुछ धांसू शीर्षक मैं सुझाता हूं...

1. मिस्टर एक्स तत्काल मिस्टर वाई से माफ़ी मांगो...


2. मिस्टर एक्स लखनऊ का नाम बदनाम मत करो...


3. मिस्टर एक्स अपनी खूबसूरती का ढिंढोरा मत पीटो...


4. मिस्टर एक्स ज़ुबान पर लगाम रखो...


5. मिस्टर एक्स तुमने कभी नारी विरोधी टिप्पणी दी थी...आखिर तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई थी...

6. मिस्टर एक्स तुम शाहरुख़ के ख़िलाफ़ उलटा सीधा कुछ कह ही कैसे सकते हो...


7. मिस्टर एक्स तुम शादी क्यों नहीं करते...


8. मिस्टर एक्स तुम अपनी ट्रेन क्यों मिस कर देते हो...


9. मिस्टर एक्स तुम खाते क्यों हो...पीते क्यों हो...रोते क्यों...हंसते क्यों हो...

10. फाइनली मिस्टर एक्स, तुम जीते ही क्यों हो....

फलां...फलां..फलां...

बस इन दस फॉर्मूलों में आपको मिस्टर एक्स का नाम हटाकर उस स्टार ब्लॉगर का असली नाम फिट करना है...बस देखो पोस्ट हिट ही हिट...आपके सामने मेरी तरह मजबूरी कोई है कि कसम खा रखी है, आज की पोस्ट में उस स्टार ब्लॉगर का नाम ही नहीं लेना...


मॉरल ऑफ द स्टोरी...

जब मैं बिना स्टार ब्लॉगर के नाम का ज़िक्र किए अपनी पोस्ट अपने नाम से ही हिट करा सकता हूं तो आप क्यों नहीं...क्यों दूसरे के कंधे पर चढ़ कर बंदूक चलाई जाए...कितनी बार लगा सकते हैं आप इस तरह हिट निशाना...एक बार, दो बार, तीन बार...फिर उसके बाद...उसके बाद क्या...

इक तारा बोले,
तुन तुन तुन तुन,
वो क्या कहे है तुमसे,
सुन सुन सुन सुन...

सिर्फ और सिर्फ अपने नाम पर भरोसा करना सीखिए...आपका नाम कभी आपको धोखा नहीं देगा...दूसरे की पूंछ पकड़ कर नदी पार करना चाहोगे तो डूबने का खतरा बना रहेगा...अपना नाम ही अपने लेखन से इतना बड़ा कर दो कि

खुदी को कर बुलंद इतना कि हर तकदीर से पहले,


खुदा बंदे से ये पूछे बता तेरी रज़ा क्या है...



स्लॉग ओवर

इस दुनिया में महिलाएं तुलनात्मक दृष्टि से पुरुषों से ज़्यादा खुश कैसे रह लेती हैं...




जवाब...




सोचो...



सोचो...




थोड़ा और सोचो...




नहीं पता, अरे सीधी सी बात महिलाओं की कोई पत्नी जो नहीं होती...

(डिस्क्लेमर...स्लॉग ओवर निर्मल हास्य, याद रखिए होली आने वाली है)

48 टिप्‍पणियां:

  1. खुदा बंदे से ये पूछे बता तेरी रज़ा क्या है...nice

    उत्तर देंहटाएं
  2. सिर्फ और सिर्फ अपने नाम पर भरोसा करना सीखिए...आपका नाम कभी आपको धोखा नहीं देगा...दूसरे की पूंछ पकड़ कर नदी पार करना चाहोगे तो डूबने का खतरा बना रहेगा...अपना नाम ही अपने लेखन से इतना बड़ा कर दो

    आपसे 100 प्रतिशत सहमत .. इस पोस्‍ट को हिट कराने में मैने आपकी मदद कर दी .. पोस्‍ट को पढा .. इसपर पसंद का चटका भी लगाया और टिप्‍पणी भी कर डाली !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. हा हा हा खुशदीप भाई!
    ये भी नायाब तरी्का है पोस्ट हिट कराने का,
    वैसे भी आप हिट हो। अब इन शी्र्षकों के सहारे
    हम भी वैतरणी पार हो जाएंगे।
    धन्यवाद-शु्क्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या किसी पोस्ट का हिट होना जरूरी है और क्या उस पोस्ट का आगे भी कोई महत्व रह पाएगा?

    उत्तर देंहटाएं
  5. हो गयी जी बिना नाम लिये ही यह पोस्ट हिट हो गयी.

    उत्तर देंहटाएं
  6. खुशदीप जी
    उम्मीद है आप श्री दिनेशराय द्विवेदी जी की बात समझे होंगे !
    किसी पोस्ट के हिट होने से कहीं ज्यादा आवश्यक है उसके महत्त्व का ....उसकी सार्थकता का !

    जय हिंद

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रकाश गोविंद जी,
    मैं तो द्विवेदी सर की बात को अच्छी तरह समझ गया हूं, लेकिन आप
    शायद ठीक से नहीं समझे...वैसे ये पोस्ट भी मैंने अपने नाम की सार्थकता और महत्व समझाने के लिए ही खास तौर पर लिखी है...और समझने वाले इसे समझ रहे हैं...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  8. खुश दीप भाई,
    आपकी पोस्ट वैसे ही हिट है..किसी फोर्मुले की जरूरत नहीं..
    मुझे ब्लॉग पर पुरानी पोस्ट को पढने का शौक है...और मुझे जो पोस्ट सदाबहार और अच्छी लगी वे कभी हिट हुई ही नहीं थी..अच्छी पोस्ट पर कई दिनों तक लोग आते रहते है.दिनेश राय जी सही कहते है किसी पोस्ट का हिट होने के बजाय स्तरीय होना ज्यादा जरूरी है...
    हाँ,कुछ लोग ब्लॉग्गिंग को पेशा मान कर चलते है उनके लिए पोस्ट हिट होना जीवन मरन का प्रश्न हो सकता है ..
    ज्यादातर टी आर पी को ध्यान में रख कर लिखी पोस्ट पढने योग्य भी नहीं होती है...

    उत्तर देंहटाएं
  9. हाँ यह कहना भूल गया कि आपकी पोस्ट कि मूल भावना भी यही है..

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रकाश पाखी जी,

    यही तो मैं कहना चाह रहा हूं कि आप किसी दूसरे का नाम लेकर कितनी पोस्ट लिख सकते हो...अपने लेखन से ही खुद का नाम इतना मज़बूत कर लो कि दूसरे आपका नाम लिख कर पोस्ट लिखने की सोचने लगे...हमारे देश में लिखने के लिए इतने मुद्दे हैं कि आप लिखते लिखते थक जाएंगे लेकिन मुद्दे कम नहीं होंगे...लेकिन मुद्दे तो हमें तब दिखेंगे न जब हम एक-दूसरे की टांग खिंचाई वाली रैट-रेस में ही खुद को उलझाए रखना बंद करेंगे...मेरी इस पोस्ट का आशय यही है कि किसी भी दूसरे ब्लॉगर का नाम अपनी पोस्ट के टाइटल में नहीं लगाना चाहिए...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  11. ये मारा छक्का ...पोस्ट बाऊंड्री के पार ..लो हमारा भी एक रन ले लो ..भाई मियां ..और हां नाम हम भी नहीं लेते जाओ ...कसम से ..
    अजय कुमार झा

    उत्तर देंहटाएं
  12. खुशदीप जी, बहुत हैरानी की बात है कि अब तक आपके छोटे भाई का कोई कमेंट नहीं आया?
    बाकी पोस्ट तो हिट ही है आपकी।
    हा हा हा हा....

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सार्थक बात सटीकता से कही गई है. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  14. अरे यह सोने के बहाने हमारे दिल से खेल गये, ओर हम आंखे बिछाये बेठे रहे, इस लिये नाम हम भी नही लेगे, लेकिन आप का छक्का बहुत सुंदर स्टेडियम पार हो गया जी

    उत्तर देंहटाएं
  15. खुशदीप जी, क्या लिखते हो यार!

    सुभान अल्लाह, हसीं चेहरा, ये मस्ताना अदाएं
    खुदा महफूज़ रखे हर बला से, हर बला से!

    उत्तर देंहटाएं
  16. अरे वाह खूशदीप भईया कमाल कर दिया आपने , अरे भाई कमाल इसलिए कि कोई इतनी जल्दि भी पोस्ट हिट करवाता है क्या, लेकिन आपने कर दिखाया , बधाई हो आपको । पता नहीं आप किस लु्च्चे की बात कर रहें हैं, कौन था वह , कहाँ से आया ता वह , और कहाँ चला गया वह, भाई पता नहीं किसको सब इतना कुछ कह रह हैं कि वह दिख हीं नहीं रहा। भाई कोई तो उसके लिए भी आगे आओ , चाचाचा, बेचारे का क्या बुरा हाल किया है आपने कि मुहं दिखाने लायक भी नहीं बचा, जो दूसरो के लिए कह रहा था कि माफी मागों बेचारा हमारा मारा खूद के लिए भी कुछ नहीं कर पा रहा, कोई बात नहीं उसके साथ, खूशदीप भईया भी उसी के साथ है , ये तो बस ऐसे ही स्लोग ओवर था । अब ये बात तो स्पष्ट हो गया है कि फालतु में बकने वाले लोग हमशे बच नहीं सकते । और हाँ ये महफूज भाई कहाँ हे किछ अता पता नही इनका , कहीं डर के मारे माफी मांगने तो नहीं चले गये, हमारा सारा किया धराया बेकार ना हो जाये , कहाँ हो महफूज भाई , जहाँ हो जल्दि आना।

    उत्तर देंहटाएं
  17. ye post tera hit hit soniyein fir kaahe khit-khit soniye..na ab kar git-pit soniye...
    ha ha ha ..
    bahut zabardast...are ham bata nahi sakte ki..aaj aapki post kaisi lagi hai..bas ...yahi kahenge...
    HAAN NAHI TO ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. जकास है जी आप तो हीरो नंबर १ हो

    उत्तर देंहटाएं
  19. खुद ही को कर हिट इतना कि हर पोस्ट के बाद पाठक पूछे
    बता अब तेरी ब्लागवाणी पसंद क्या है

    उत्तर देंहटाएं

  20. बाकी बँदों से ख़ुदा ने जो भी पूछा हो,
    बुलँदियों पर पहुँचने के बाद..
    तुमसे तो वह यही पूछेगा कि,
    " अबे, अब उतरेगा कैसे ?"
    जानम समझा करो ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. देखा ना ...बिना नाम लिए भी उसका असर ...पोस्ट हिट करवा दी आपकी ....:)
    भाई हो तो ऐसा ......

    उत्तर देंहटाएं
  22. सुभानाल्लाह हाय ..हसीं चेहरा हाय..
    सुभाल्लाह हसीं चेहरा ये मस्ताना अदाएं...
    ख़ुदा महफूज़ रखे हर बला से हर बला से ...

    ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि हिमालय की चोटी पर जा पहुँचे
    और ख़ुदा ख़ुद तुझसे पूछे ...अब बता उतरेगा कैसे....?? :):):)

    उत्तर देंहटाएं
  23. पण ये गणपत कौन है :)

    अरे भाई, मैंने बमचक मचने पर एकाध पोस्ट इस मामले से पढीं और बाकी केवल ब्लॉगवाणी में शीर्षक पढ आगे निकल लिया। अब पूरा मामला क्या कैसे और कहां की तह तक मैं नहीं जाना चाहता।
    लेकिन आपकी पोस्ट का सटायर वर्जन पसंद आया।

    उत्तर देंहटाएं
  24. तो यह है सिबलिंग राईवलरी या फिर रकाबत -हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  25. अरे भाई, बिना नाम --पोस्ट हिट ।
    नाम लेते तो --सुपरहिट।
    पोस्ट में न सही , अब टिपण्णी में ही बता दो।

    उत्तर देंहटाएं
  26. पोस्ट क्या सिर्फ हित होने (टिप्पणी बटोरने) के लिए लिखी जाती है ? कमाल है !!!

    उत्तर देंहटाएं
  27. आप तो पहले से ही सुपरहिट हो जी.....कुछ करने की ज़रूरत नही....

    उत्तर देंहटाएं
  28. खुशदीप जी, ये गलती तो हमने भी कल ही की है अपने पोस्ट के शीर्षक में ललित जी का नाम देकर। अब यदि हमने "जानें अलंकार के बारे में" शीर्षक दिया होता तो क्या कोई उस पोस्ट को पढ़ने आता? हो सकता है कि ढूँढ-ढाँढ कर कुछ पाठक आ जाते तो आ जाते पर यह तो तय है कि ब्लोगर एक भी नहीं आने वाला था वहाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  29. और हाँ, यह लिखना तो भूल ही गया कि ब्लोगर नहीं आते तो टिप्पणियाँ कहाँ से आतीं? खोज कर आने वाले पाठक तो टिप्पणी करते ही नहीं या फिर करते भी हैं तो यदा-कदा ही करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  30. बाप रे खुशदीप भाई, क्या ग़ज़ब की पोस्ट लिखी है। ये तो वाक़ई हिट हो गई और डीप तक खुश कर गई। अब टीप का ज़माना है।
    स्लॉग ओवर मज़ेदार रहा, हमेशा की तरह।
    और अदा जी ने भी मि. एक्स का भजन बहुत अच्छा लिखा, हमेशा की तरह। हाँ नहीं तो। हा हा।
    उनको भी हमारा नमस्कार।

    उत्तर देंहटाएं
  31. अरे वाह बेटा कमाल कर दिया आज तो मैं ले दूँ उसका नाम?????????????? न बाबा तौबा है मुझे जब तक हाथ पैर चलते हैं ब्लागजगत मे रहना है। क्या तुम्हें भी हिट की जरूरत है? ब्लागवुड की पहचान तुम से है बस ये समझो। बिना नाम लिये कईलोगों की ओर इशारा करना कोई खुशदीप से सीखे। आज से तुम मेरे आईकन हो । देखा इस पोस्ट का दम एक दम रिवर्स हो गया आईकन। मै से तुम ---- बहुत बडिया पोस्ट है लिखते रहो बहुत बहुत आशीर्वाद

    उत्तर देंहटाएं
  32. पहले ही घंटे में बॉक्स ऑफिस हिट पोस्ट ....!

    उत्तर देंहटाएं
  33. बिना नाम लिये इस पोस्ट ने धूम मचा दी है
    ये तो अच्छा है कि तूने किसी का नाम लिया

    आज वो नाम लेलेके अपनी पोस्ट हिट कर ले
    कितना अच्छा हो खुद लिखने की कला सीख ले

    पोस्ट बनाले हिट कराले टिप्पणी भी खूब कराले
    झूम बराबर झूम तू ब्लोगर झूम बराबर झूम

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत बढ़िया लिखा है आपने! आपकी लेखनी को सलाम! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  35. जिसको पहले ही मान चुके हैं
    उसे और कितना मानें
    पर मान सदा मान ही रहता है
    इसलिए बार बार मानते हैं
    मनते हैं मनाते हैं
    खुद ही मन जाते हैं
    अरे वही, जो मन में
    समाते हैं, बस जाते हैं
    स्‍थाई तौर पर।

    उत्तर देंहटाएं
  36. उसका सलमान खान से मेल करवाना अच्छा लगा। सच में वो असल जिन्दगी में भी सलमान खान की तरह कुंवारा ही है, लेकिन उसकी जिन्दगी में ऐश्वर्या, कैटरीना, भाग्यश्री आई कि नहीं वो ही जानते हैं।

    बहुत शानदार खुशदीप जी। अद्भुत कहूँ तो चलेगा? अगर उत्तर नहीं तो मुझे इससे भी ज्यादा दमदार शब्द देना ढूँढकर। हाँ ढूँढने से याद आया आप अपना ईमेल पता sharma.kulwant84@gmail.com पर भेजे.. मैं हुक्म करूं बादशाह नहीं, लेकिन आपका मेल है ही नहीं कहीं। इंतजार रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  37. Hit Hit Hit , apni pasand aur tippani ka bhi yogdaan sweekaar kare saathi :-)

    उत्तर देंहटाएं
  38. ab mere kahne ko kya bacha hai ..........sabne kah to diya.........hit hit hit hit.

    उत्तर देंहटाएं
  39. सबने सब कुछ कह दिया, कहने को कुछ नहीं बचा... पर कहे बिना तो हम भी नहीं न मानने वाले... सो केवल ईतना ही... तुस्सी ग्रेट हो जी

    जय हिंद

    उत्तर देंहटाएं
  40. हिट और फ़्लाप ....... ब्लोग के बाल ठाकरे से सेटिंग कर ले और अपने छुपे रसतम से एक ब्यान जो विवादस्पद हो कहल्वा दे पोस्ट हिट .............. लेकिन यह ब्लोगिग की सेहत के लिये ठीक है क्या

    उत्तर देंहटाएं
  41. भैया...देरी से आने के लिए माफ़ी चाहता हूँ.... कल रात कानपुर में था.... पोस्ट बहुत अच्छी लगी.... लेखनी में ताक़त होना चाहिए... जो कि आपकी लेखनी में है.... पोस्ट बहुत अच्छी लगी...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  42. लो भैय्या आपकी पोस्ट हिट हो गई ....

    उत्तर देंहटाएं
  43. बहुत सार्थक संदेश दिया है तो वैसे भी हिट होना ही था. :)

    उत्तर देंहटाएं
  44. * अन्धविशवास वाली पोस्ट में तुमने मेरा नाम लिख दिया था , वह पोस्ट इससे भी ज़्यादा हिट हुई थी ( नया अन्धविश्वास )
    * लगता है कि होली करीब आ रही है ।
    * स्लोग ओवर से ज़्यादा मज़ा पाबला जी और अदा जी की शेर की पैरोडी पर आया ।
    * हो गया ना भैया एक टिप्पणी के साथ दो फ्री ।

    उत्तर देंहटाएं
  45. "About Me
    बंदा 15 साल से कलम-कंप्यूटर तोड़ रहा है"
    --kaash kabhi JODANEKE koshish bhi kijieji.

    Anayas aapake blogpe aa dhamakaa! achchha lagaa.
    I blog in Gujarati my blog VARTALAP
    http://www.bhajman-vartalap.blogspot.com/
    You r invited

    उत्तर देंहटाएं