बुधवार, 6 जनवरी 2010

गब्बर ने किया ब्लॉगर सम्मान समारोह...खुशदीप

एक बार गब्बर सिंह ने सोचा कि ब्लॉगर बिरादरी बड़ी प्रसिद्ध हो रही है...इससे तो गब्बर को कल कोई पूछने वाला ही नहीं रहेगा...गब्बर को किसी ने कूटनीति से काम लेने की सलाह दी...कहा कि ब्लॉगर बिरादरी में से दो-चार नप्पूझन्नों का पकड़ कर सम्मान कर दो...आपके नाम का डंका बज जाएगा...सब गब्बर की जय-जयकार करने लगेंगे...गब्बर सठिया तो बहुत पहले ही गया था...लेकिन अपना नाम बनाए रखने के लिए ब्लॉगरों का सम्मान करने के लिए तैयार हो गया...

लेकिन अब समस्या ये कि किस का सम्मान करे...उसने सांभा को जासूसी करने के लिए भेजा कि पता लगा कर आए किन दो ब्लॉगरों का सबसे ज़्यादा डंका बोलता है...अब सांभा जासूसी करके वापस आया तो गब्बर अफ़ीम का तगड़ा अंटा चढ़ा चुका था...अब सुनिए गब्बर और सांभा का वार्तालाप...

गब्बर - हूं...कितने आदमी थे ?


सांभा - सरदार दो...


गब्बर - मुझे गिनती नहीं आती... 2 कितने होते हैं ?


सांभा - सरदार 2, 1 के बाद आता है...


गब्बर - और 2 के पहले ?


सांभा - 2 के पहले 1 आता है...


गब्बर - तो बीचे में कौन आता है ?


सांभा - बीच में कोई नहीं आता...


गब्बर - तो फिर दोनों एक साथ क्यों नहीं आते ?


सांभा - 1 के बाद 2 ही आ सकता है, क्योंकि 2, 1 से बड़ा है...


गब्बर- 2, 1 से कितना बड़ा है ?


सांभा - 2, 1 से 1 बड़ा है...


गब्बर - अगर 2, 1 से 1 बड़ा है तो 1, 1 से कितना बड़ा है ?


सांभा - सरदार मैंने आपका नमक खाया है... मुझे गोली मार दो ...!!!

31 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छा पढ़कर , बढिया हैं , ऐसे ही लिखते रहें । लेकिन ये बतायें की कही गब्बर और डंका बजवाने वाली बात को किसी और को इंगित करने के लिए प्रयोग में तो नहीं लाया गया ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. खुशदीप जी ,
    हा हा हा हा हा....
    हा हा हा हा हा....
    हा हा हा हा हा....
    हा हा हा हा हा....
    हा हा हा हा हा....
    हा हा हा हा हा....
    हा हा हा हा हा....
    हा हा हा हा हा....
    हा हा हा हा हा....
    हा हा हा हा हा....
    हा हा हा हा हा....

    ये गोली मारने के बाद वाली हंसी है....:)))

    उत्तर देंहटाएं
  3. ब्लोगर के सम्मान करने के पहले गब्बर कहेगा, "बहुत दम हैं इन हाथों में... ये हाथ ... ये हाथ बड़े बड़े पोस्ट लिखते हैं... ये हाथ हमें दे दे ब्लोगर!"

    उत्तर देंहटाएं
  4. खुशदीप भाई-तब तो ठीक ही रहेगा:)
    हा हा हा हा
    तुहाडा वी जवाब नई,

    उत्तर देंहटाएं
  5. नाप्पुझने तो बहुत मिलेंगे यहाँ... और गब्बर भी... और ऐसे ही गब्बर्स ..... सबको फ्रस्ट्रेट करते हैं.....



    जय हिंद......

    उत्तर देंहटाएं
  6. हमको तो .......अपने हे हाथ दे दो खुश-दीप भैये !!!
    गब्बर-सांभा के सहारे ....कह डाली बात सारी !



    सच है सब एक और दो का ही मसला है !
    जय हो!

    उत्तर देंहटाएं
  7. thaakur ne hijdon ko fouj banaai hai..........

    jo ye toh jaante hain ki kaise kiya jata hai par kar nahin sakte kuchh bhi...ha ha ha

    gabbar salaamat toh nappujhannon ki kya kami hai ?

    abhi basanti ki entry baaki hai kaliya !

    nazar uthaakar dekh...

    dance ki reharsal chal rahi hai...

    tu to dekhne ko bhi tarsega..

    rang to sara thaakur ke aangan barsega

    angrejon ke zamaane ke jelar fir apne hath lalvaaenge

    viru aur jai toh mehfil lootne aaye hain aur lootke jaayenge...ha ha ha

    उत्तर देंहटाएं
  8. लो जी, साम्बा बचपन में ही मर गया :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. शोले का ये रिमिक्स भी बढ़िया है ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. सही कह गए आप , कोई सम्मान पाने लायक होता तब न सम्मान दिया जाता !:)

    उत्तर देंहटाएं
  11. गोली ही खा लो सांभा समझ दार था

    उत्तर देंहटाएं
  12. खुशदीप भाई मैंने सिक्का उछाला था, टिप्पणी दूं कि नहीं, अभी तक नीचे नहीं आया है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. पर कोई तो बताये 'अगर 2, 1 से 1 बड़ा है तो 1, 1 से कितना बड़ा है ?'

    उत्तर देंहटाएं
  14. सरदार दो ........ एक पाबला जी और दूसरा कौन .........

    उत्तर देंहटाएं
  15. पर ये १ और २ के बीच में कौन आता है बताया नहीं, अगर सांभा को गोली मार दी फ़िर बतायेगा कौन :)

    उत्तर देंहटाएं
  16. हा हा हा हा हा स्कीम बढ़िया बताई .....बहुत रोचक...

    उत्तर देंहटाएं
  17. पूछा गया
    कितने आदमी थे?
    बताया गया
    सरदार दो

    बहुतsss बेइंसाफी है

    क्या सोच कर आए थे? कि सरदार खुस होगा, सबासी देगा? क्यों??

    बी एस पाबला

    उत्तर देंहटाएं
  18. ब्‍लॉगर सम्‍मान समारोहों की लग गई है झड़ी
    बसंती भी देख रही होगी कहीं पर तन के खड़ी
    मैं भी ब्‍लॉग बनाऊंगी और कई हजार पाऊंगी
    हिस्‍सा उसमें गब्‍बर और घास दोनों को दे जाऊंगी

    उत्तर देंहटाएं
  19. गब्बर - तो फिर दोनों एक साथ क्यों नहीं आते ?

    खुशदीप भाई,
    गब्बर की इस लाइन में आपकी पोस्ट का सार निहित है। हम समझ गए मगर हमारे "साथ” ने समझा हो तो बात बने। हा हा।

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह भाई! आ
    आप का नाम पहले ही खुशदीप रख दिया गया। वरना हम रख देते।

    उत्तर देंहटाएं
  21. भले ही सम्मान न मिल पाया हो किसी को मगर खुशदीप जी आपकी ये पोस्ट पढ़कर ये खुशी ये हँसी मिली है सबको वो सबसे बझडकर है।
    धन्यवाद....

    उत्तर देंहटाएं
  22. दोनों 'साथ' नहीं तो आगे-पीछे आ ही गए खुशदीप जी.....हा हा हा हा
    और बीच में....??
    मरना है क्या ??
    आप बुलाओ वो न आयें ...ऐसे भी हालात नहीं ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत से लोग इस सम्वाद का मतलब समझने के लिये सिर खुजा रहे हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  24. "खुशदीप भाई मैंने सिक्का उछाला था, टिप्पणी दूं कि नहीं, अभी तक नीचे नहीं आया है।"

    अपुन भी मनोज कुमार जी की तरह सिक्के के नीचे आने का इन्तजार कर रहे हैं उसके बाद ही टिप्पणी देंगे:))

    जय हिंद!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं