रविवार, 6 दिसंबर 2009

6 दिसंबर और मेरी 100वीं पोस्ट...खुशदीप

आज ये मेरी सौवीं पोस्ट है...आज ही छह दिसंबर है...अजब इत्तेफ़ाक़ है...पोस्ट की सेंचुरी है तो कुछ बढ़िया कॉकटेल तो बनता है न बॉस... खट्टा मीठा सब कुछ होगा...स्लॉग ओवर भी होगा...गीत भी होगा..जीवन का सार भी होगा...मुद्दा भी होगा...अब छह दिसंबर है तो कुछ गंभीर अंदाज़ भी रहना चाहिए न...

तो चलिए पहले छह दिसंबर की ही बात...तो जनाब गिलास आधा भरा है या खाली...बड़ा पुराना और घिसा-पिटा सवाल है...जवाब सभी को पता है...अब मैं आपसे एक सवाल करता हूं...छह दिसंबर का नाम आते ही सबसे पहले हमारे ज़ेहन में क्या आता है...इसका जवाब भी हम सब जानते हैं...लेकिन इतिहास में छह दिसंबर को और ऐसा कुछ नहीं हुआ, जिसे हम याद रख सकें...ज़रूरी है छह दिसंबर को हर साल हम याद करें जिससे 17 साल पुराने ज़ख्म रिसते रहें...मरहम की जगह हम उन पर नमक छिड़कते रहें...दिलों की दूरियां पटने की जगह और चौड़ी होती रहें...

अब 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में जो कुछ हुआ, उसकी जगह इतिहास में छह दिसंबर को और क्या क्या हुआ, उस पर भी नज़र दौड़ा ली जाए...

देश के संविधान के निर्माता डॉ भीमजी राव अंबेडकर की आज 6 दिसंबर को 53वीं पुण्यतिथि है...


डॉ भीमजी राव अंबेडकर

 सेंट निकोलस या सांता क्लाज़ की आज छ दिसंबर को 1663वीं पुण्यतिथि है...सेंट निकोलस वही हस्ती हैं जिन्होंने वंचित बच्चों के लिए ज़ुराबों में उपहार डालकर देने की परंपरा शुरू की थी...


सेंट निकोलस


छह दिसंबर को ही सिंधी टोपी दिवस मनाया जाता है...सिंधी टोपी कशीदाकारी और शीशे के काम के लिए जानी जाती है...इस टोपी का एक सॉफ्ट रूप भी होता है जिसे मोड़कर जेब में रखा जा सकता है...


सिंधी टोपी पहने नन्हे उस्ताद


आज छह दिसंबर को क्रिकेट के सितारे आर पी सिंह का 24 वां जन्मदिन है...



आर पी सिंह


आज ही अंतरराष्ट्रीय छवि वाले निर्देशक शेखर कपूर का 64 वां जन्मदिन है...



शेखर कपूर

लीजिए 6 दिसंबर की एक और खुशी जुड़ गई...धोनी के जांबाज़ों ने वो काम कर दिखाया जो 79 साल के टेस्ट इतिहास में भारतीय टीम नहीं कर सकी थी...मुंबई के ब्रेबोर्न स्टेडियम में श्रीलंका को एक पारी और 24 रन से मात देकर भारतीय क्रिकेट टीम दुनिया में सिरमौर बन गई है...टेस्ट क्रिकेट में भारत पहली बार नंबर वन बना है...



चलिए छह दिसंबर की बात बहुत हो गई...अब आता हूं अपनी इस 100वीं पोस्ट की कहानी पर...16 अगस्त 2009 को मैंने देशनामा पर पहली पोस्ट....कलाम से सीखो शाहरुख...डाली थी...लेकिन टाइमलाइन गलत होने की वजह से पोस्ट पर तारीख 17 अगस्त दर्ज हुई...तब से अब तक ब्लॉगिंग के सफ़र में जो भी मुझसे अच्छा-बुरा बन सका वो मैं पोस्ट पर डालते गया...लेकिन इस दौरान जो मैंने आपका बेशुमार प्यार कमाया, वही मेरे जीवन की सबसे बड़ी पूंजी है...इस दौरान मेरे आइकन्स समेत बड़ों ने मेरा हौसला बढ़ाया, सुझाव दिए...रास्ता दिखाया...वहीं हमउम्र साथियों और छोटे भाई-बहनों ने भी मुझे भरपूर प्यार दिया...मैं किसी एक का नाम नहीं लेना चाहूंगा...सभी मेरे लिए सम्मानित हैं...हां एक टिप्पणी का ज़रूर ज़िक्र करना चाहूंगा...जो मुझे पहली पोस्ट पर पहली बार मिली थी...ये टिप्पणी थी फौज़िया रियाज़ की...इस टिप्पणी को मिलने पर मुझे वैसी ही खुशी हुई थी जैसे किसी को नौकरी का पहली बार नियुक्ति-पत्र मिलता है...

एक और शख्स का जिक्र करना चाहूंगा...वो हैं आगरा के सतिन्द्र जी...सतिन्द्र जी खुद ब्लॉगर नहीं हैं लेकिन मेरे बहुत अज़ीज़ हैं...सतिन्द्र जी और उनकी पत्नी मीनू जी ब्लॉगिंग के मेरे पहले दिन से ही मेरे साथ जुड़े हुए हैं...कल सतिन्द्र जी का मेरे पास एक ई-मेल आया...उसे देखकर मैं चौंक गया...सुखद आश्चर्य भी हुआ...उन्होंने कल तक मेरी अब तक की पोस्ट पर जितनी भी टिप्पणियां आई हुईं थी, उनका आंकड़ा भेजा था...मैंने आज तक कभी ये गिनने की कोशिश नहीं की थी कि मुझे अब तक कितनी टिप्पणियां आ चुकी हैं...लेकिन सतिन्द्र जी ने अपना कीमती वक्त निकाल कर ये काम किया...मैं तो बस अपनी ब्लॉगर बिरादरी के प्यार के मीटर को ही जानता था...

कितने पाठकों ने मुझे पढ़ा, ये तो मेरी ब्लॉगिंग के शुरुआती 12-15 दिनों को छोड़ दो तो वो तो विजेट के ज़रिए जाना जा सकता है..खैर अब सतिंद्र जी ने आंकड़ा भेज ही दिया है तो आपके साथ इसे बांटने में मुझे खुशी का इज़हार हो रहा है...

मेरा ब्लॉगिंग का सफ़र

देशनामा ब्लॉग बनाया...फरवरी 2009

पहली पोस्ट डाली...16 अगस्त 2009

ब्लॉगिंग के दिन...112

पोस्ट लिखीं...100

पाठक संख्या...23,865    (5 दिसंबर 2009 रात 11 बजकर 55 मिनट तक)

टिप्पणियां... 2264      (5 दिसंबर 2009 रात 11 बजकर 55 मिनट तक)

ब्लॉगिंग के इस सफ़र में मेरा साथ देने के लिए गुरुदेव और सभी अज़ीज़ों के लिए शुक्रिया नहीं कहूंगा...क्योंकि शुक्रिया तो परायों का कहा जाता है...और यहां ब्लॉगिंग की दुनिया में तो सभी मेरे अपने हैं...बस अपने खास स्टाइल में गाने के ज़रिए ज़रूर दिल की बात का इज़हार करूंगा...

एहसान मेरे दिल पे तुम्हारा है दोस्तों

जीवन का सार

ज़िंदगी एक जलती सिगरेट की तरह है...कश लेकर इसके हर लम्हे का मज़ा लो, वरना सुलग तो ये रही ही है...आप इसे खुल कर जियो या न जियो, खत्म तो ये खुद-ब-खुद हो ही जाएगी...

स्लॉग ओवर

दो निखट्टू लेकिन मस्तमौला लड़के पार्क में बैठे बातें कर रहे थे...तभी एक लड़का बोला....यार आजकल बाप ने बड़ा परेशान कर रखा है...दिन भर ताने देता रहता है...न काम का न काज का , ढाई मन अनाज का...क्या करूं यार घर में एक मिनट बैठना भी हराम कर रखा है...

इस पर दूसरा वाला लड़का बोला...यार मेरा बाप तो मुझसे बड़ा खुश है...

पहला वाला लड़का हैरानी से बोला...भला वो कैसे...

इस पर दूसरा लड़का बोला...यार मैं सुबह अंधेरे मुंह उठकर ही गुलेल लेकर निकल जाता हूं...और रोज़ नई कॉलोनी में जाकर शीशे तोड़ आता हूं...

इस पर पहले वाले लड़के ने टोका...तो फिर तेरा बाप कैसे खुश हो जाता है...

दूसरे वाले ने कहा...समझा कर यार, मेरे बाप का ग्लासवेयर का शोरूम है...सब लोग नए शीशे खरीदने मेरे बाप की दुकान पर ही आते हैं...इससे उसका धंधा चोखा चल रहा है...वो भी खुश, मैं भी खुश...

ये सुनकर पहले वाला लड़का ठंडी सांस लेकर रोने लगा...

दूसरे वाले ने कहा...तू रो क्यों रहा है...तू भी अपने बाप का धंधा मुझे बता...फिर मैं भी तुझे कोई तरकीब बता देता हूं...

ये सुनकर पहले वाला लड़का और ज़ोर से रोते हुए कहने लगा...रहने दे यार तू भी मेरी कोई मदद नहीं कर सकता...

दूसरे वाले लड़के ने धीरज बंधाते हुए कहा...अरे तू मुझे नहीं जानता...मेरे पास हर चीज़ का तोड़ है, तू बस मुझे अपने बाप का धंधा बता...

इस पर पहले वाला लड़का हिचकी लेते हुए धीरे से बोला....मेरे बाप का मैट्रिनिटी होम है...

47 टिप्‍पणियां:

  1. मैट्रिनिटी होम वाली बात तो बहुत सुंदर लगी, आप को आप की सॊवी पोस्ट की बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. 112 दिन में 100 पोस्ट लिख डाली ...सुपर डुपर फास्ट ...बस अदाजी से ही पिछड़े होंगे ...वो रोज लिखती है न... इसी तरह सरपट दौड़ती रहे आपके लेखों ट्रेन ...बहुत बधाई ....
    6 दिसंबर को अलग अलग कारणों से इतने लोग याद करते हैं पता नहीं था ...जानकारी देने का बहुत आभार ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सबसे पहले तो बधाई लें-१०० वीं पोस्ट इतना फटाफट..वाह!! अनेक शुभकामनाएँ अनेक शतक लगाईये.

    --

    ६ दिसम्बर की इतनी सारी जानकारी..धन्यवाद....


    ---

    स्लॉगओवर मस्त है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. धत्त तेरे की...!!
    ६ दिसम्बर...!!!
    आप भी न..क्या-क्या याद दिला देते हैं ...हाँ नहीं तो...!!
    आज हमारे पाणी-ग्रहण संस्कार के भी १०० साल पूरे हो गए हैं...
    हा हा हा हा
    आपको बधाई...अपनी सौवीं पोस्ट की...और मुझको बधाई कि आपके सौवीं पोस्ट की बधाई देने के लिए अभी तक बचे हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  5. यह उत्साही पोस्ट भी अच्छी लगी। सौ पोस्ट और एक सौ बारह दिन की बधाई। अगली बधाई अब कुम्भ पर देंगे। वो भी 2010 वाले नहीं बल्कि उससे भी अगले। तब तक शायद हम न रहें।
    यही उत्साह बना रहे।

    उत्तर देंहटाएं
  6. 112 दिन की ब्लोगिंग में 100 पोस्ट वाह क्या कहने!
    इंगित सभी को जन्मदिन मुबारक हो

    मैटर्निटी होम वाले को क्या तरकीब बताया.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बहुत बधाई आपको .. इतने कम समय में आपकी उपलब्धि बहुत अच्‍छी रही !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. छह दिसंबर को अच्छी बातें याद करने की लिस्ट में अब अदा जी और संतोष शैल जी का भी नाम जुड़ गया है, उनकी आज शादी की सालगिरह है...

    एक और अच्छी बात, आज मुंबई में ब्लॉगर बिरादरी की दिलों की महफ़िल सजने जा रही है...हमें रिपोर्ट का शिद्दत से इंतज़ार है...सुन रहे हैं न विवेक रस्तोगी भाई...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  9. हर दिन खूबसूरत होता है, कुछ घटनाएं इतिहास बन जाती है, कुछ बातें भले डराती हो, जिंदगी की जीत और हार के बीच वह जो इंसान नाम का प्राणी है अगर खूबसूरत सोच रखें तो जिंदगी की बेहतरी की बातें हम करते रहेगें दोस्त। बहुत सुंदर पोस्ट है लगे रहो... शेखर, और आर. पी. सिंह. को जन्म दिन ...........मुबारक हो....

    उत्तर देंहटाएं
  10. सौवीं पोस्ट के लिए बहुत-बहुत बधाई...

    मैटरनिटी होम वाले अँकल को बिज़ी रखने के लिए आपने लड़कों की उम्र तो बताई ही नहीं ...:-)

    उत्तर देंहटाएं
  11. सॊवी पोस्ट की बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. खुशदीप जी-शतक के लिए हार्दिक शुभकामनाएं, अभी तो आपके कई शतक देखने है। बस धड़ाधड लगाते रहिए। " रेड एण्ड व्हाईट पीने वालों की बात कुछ और ही है" लख-लख बधाईयां। घणी-घणी बधाईयां।
    स्लागओवर जोरदार है-तुहाडा ते जवाब ई नई ओए।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बधाई-सुफर फास्ट रफ़्तार के लिए !

    उत्तर देंहटाएं
  14. जे बात ...मार ली सेंचुरी ....हाय मार ही डालोगे क्या....बहुत बहुत बधाई जी ..और इसका मतलब ये कि बहुत जल्दी ही आप और भी बहुत सारे रिकार्ड बनाने तोडने वाले हो..लगे रहो भाई मियां॥

    और हां शुक्र है यार आपने बता दिया कि छ दिसंबर को इत्ती ढेर सारी बातें भी हुई थी ...ई बात समाचार पत्र और चैनलवा वाले को भी याद दिलाई जाए...

    वैसे ई भी खूब रही ..कि आज के दिन पहाड के उपर सपना टूट पडी

    अरे शैलजी और स्वपना जी....सेलिब्रशन हो जाए डबल डबल

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह! 100 का आंकड़ा छूने के लिए बधाई।
    6 दिसंबर की अतिरिक्त जानकारी के लिए भी आभार

    आजकल के माहौल में मेट्रनिटी होम वाले को मदद की क्या ज़रूरत

    बी एस पाबला

    उत्तर देंहटाएं
  16. 100vi post par badhaai.
    shayad blog jagat me ye fastest century hai !
    6 disambar par achchhi jaankaari.
    ek aur -- aaj mahara to blog hi atak gaya hai--demolish ho gaya kya ?.

    उत्तर देंहटाएं
  17. .
    .
    .
    खुशदीप जी,
    नाबाद सेंचुरी मुबारक हो!
    बड़ा ही फास्ट स्ट्राइक रेट है आपका तो... ब्लॉगिंग का 'सहवाग'बन गयें हो आप!

    उत्तर देंहटाएं
  18. पोस्ट शतक पर बधाई!गाना बहुत अच्छा सुनाया है आप ने। यूट्यूब के स्थान पर ई-स्निप या अन्य स्थान से केवल सुनाएँ तो बीच में बिना रुके सुना जा सकता है।
    छह दिसंबर प्रत्यक्ष घाव है, जो इतिहास में न जाने कब तक रिसता रहेगा। कल एक राजनीतिज्ञ ब्लागर जो अभी अभी विधानसभा चुनाव लड़ कर हार चुकी हैं अपने ब्लाग पर लिखा है कि सरकार और मीडिया अयोध्या के गिराए गए ढांचे को बाबरी मस्जिद कह कर जनता को अपमानित न करें। मेरा कहना था कि उसे गिरा कर उस पर बाबरी मस्जिद होने की मुहर तो विश्व हिंदू परिषद और उस के कारसेवक लगा चुके हैं। उसे कैसे बदला जा सकेगा? भले ही वहाँ अब कुछ भी बना दिया जाए। एक ब्लागर ने बताया कि लिब्रहान आयोग ने जिसे अपनी रिपोर्ट में बाबरी मस्जिद कहा है उसे सरकारी दूरदर्शन और रेडियो अंग्रेजी में बाबरी मस्जिद और हिंदी में विवादित ढांचा कह रहा है। एक ही सूचना माध्यम द्वारा दो बात क्यों?
    सोवीं पोस्ट पर एक बार फिर बधाई। ऐसे ही हजारवीं और दस हजारवीं पोस्टें भी पढ़ने को मिलें।

    उत्तर देंहटाएं
  19. सौवीं पोस्ट की बधाई!

    छः दिसम्बर के विषय में इतनी सारी जानकारी देने के लिये धन्यवाद!

    स्लॉग ओवर के क्या कहने!

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत खूब! बधाई हो सौंवी पोस्ट की।

    उत्तर देंहटाएं
  21. सफलता के इस उपलब्धि पर पहुँचने के लिए आपको बहुत बहुत बधाई हम यहीं प्रार्थना करते है की देशनामा इसी तरह अपने नये नये कीर्तिमान बनाए....६ दिसंबर के बारे में कुछ जानकारियाँ नई और ज्ञानवर्धक लगी...आपने बहुत ही कम समय में सेंचुरी मारी यह यह भी एक ब्लॉगिंग रेकॉर्ड है....बहुत बहुत बधाई..खुशदीप जी

    उत्तर देंहटाएं
  22. खुशदीप जी आज का दिन ब्लाग इतिहास मे आपके नाम से दर्ज होने और आजुसका शतक मनाने की बहुत बहुत बधाई। वाकई 112 दिन मे 100 पोस्ट बहुत बडी उपलब्धि है। और हर पोस्ट लाजवाब हो ये और भी बडी बात है। ूआज अपनी मन पसंद का कोई पूरा गीत सुनाते तो अच्छा था जीवन का सार भी गाँठ बाँध लिया है। पता नहीं आप इतने अच्छे स्लागओवर कहाँ से ढूँढ लाते हैं ।कामना है कि आप यूँ ही शतक पर शतक लगाते रहें।बहुत बहुत शुभकामनायें। हाँ अगली पोस्ट मे आपका सब से मन पसंद गीत जरूर होना चाहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  23. सबसे पहले तो सौवीं पोस्ट कि बहुत बहुत बधाई.....

    और छह दिसम्बर की इतनी सारी जानकारी देने के लिए आपका आभारी हूँ.......

    और स्लोग ओवर के तो कहने ही क्या......... हा हा हा

    जय हिंद.........

    उत्तर देंहटाएं
  24. निर्मला जी,
    आपका आशीर्वाद मां का आशीर्वाद है, जो मुझे आगे बढ़ते रहने की प्रेरणा देगा...वैसे गाने का लिंक मैंने इस पोस्ट पर भी ऊपर दे रखा है...एहसान मेरे दिल पे तुम्हारा है दोस्तों...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  25. प्लैटिनम जुबली पर हार्दिक बधाई, खुशदीप भाई। इन दिनों एक अवधी उपन्यास लिख रहा हूं। अवधी के पहले ब्लॉग पर, देखें ज़रूर http://manjheriakalan.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  26. छः दिसम्बर...यानि काला दिवस, शौर्य दिवस, सांता क्लाज़ दिवस, सिंधी टोपी दिवस, आर पी सिंह दिवस, अम्बेडकर दिवस, शेखर कपूर दिवस और... और ... आप का सेंचुरी दिवस:) बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  27. 100 लेखों और 'प्रसन्न दिवस' की शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. खुशदीप जी काफ़ी समय से कुछ निजी व्यस्त्तताओं के कारण आपकी पोस्ट पर टिप्प्णी नहीं लिखी पर पढ़ता रहा हूँ।

    सफलता के इस मुकाम पर पहुँचने के लिए आपको एक बार फ़िर बहुत बहुत बधाई।

    यह आंकडे तो आप की उपल्ब्धी हैं, हमने तो केवल इनको पेश किया था फ़िर भी इस ऐतिहासिक पोस्ट लिखते समय याद रखने और मान रखले के लिये आभार।

    जय हिंद।

    उत्तर देंहटाएं
  29. खुशदीप जी ......... सोवी पोस्ट पर बधाई .......... ६ दिसंबर को ऐसे ही याद रखना चाहिए ........ अच्छी अच्छी बातों से ....... जीवन का सार तो बहुत अच्छा है और आपका स्लॉग ओवर इस बार भी छक्का लगा गया ...... इतिहास बना गया धोनी के साथ ......... बहुत सार्थक पोस्ट ........

    उत्तर देंहटाएं
  30. 100 not out!
    We expect countless centuries of constructive postings from you!"Rab kare Tussi blogging de SACHIN kahlaye jao."
    May God bless you with immense knowledge and long and healthy life so that we also feel blessed with your creative blogging.
    Your slog over was as humorous as ever.

    उत्तर देंहटाएं
  31. और बधाइयों का शतक भी मेरे अंतर्मन से.

    उत्तर देंहटाएं
  32. आपने ब्लोगरी शुरू करने से पहले काफी रिसर्च किया है
    अपने विशाल अनुभव को सही जगह पर खर्च किया है

    प्रतिदिन पोस्ट लिखने का एक कठिन करम करते हैं
    और साथ में टिप्पणियां भी खूब नर्म गरम करते हैं

    नाम है खुशदीप सहगल जिसने किया यह कारनामा है
    ब्लोगरों की चर्चा में डूबे रहते मगर इरादा देशनामा है

    जय हिंद

    उत्तर देंहटाएं
  33. ६ दिसंबर की ढेर सारी जानकारी
    ब्लागिंग का सफर
    जीवन का सार
    और
    चुटकुला
    सभी कुछ काम के
    कुछ दिमाग के तो कुछ
    मुस्कान के।

    उत्तर देंहटाएं
  34. बधाई हो। आप तो वीरू हैं ब्लागजगत के।ये तो पहली सेंचुरी है अभी तो डबल और ट्रीपल भी बनानी है।

    उत्तर देंहटाएं
  35. कब से सोच रहा हूँ कि आपको पढ़ूं....

    और देखते-ही-देखते आपने सौ पोस्ट लिख लिये और वो भी महज एक सौ बारह दिनों में...बाप रे!

    मुबारक हो!

    उत्तर देंहटाएं
  36. mana ki hamne der kardi phir bhi....aapko bahut abhut badhai ho....

    उत्तर देंहटाएं