मंगलवार, 24 नवंबर 2009

हमारे सांसद, हमारे बच्चे...खुशदीप

देश की हक़ीक़त से आज अपनी इस माइक्रो पोस्ट में रू-ब-रू कराता हूं...

हमारे सांसद-
लोकसभा में करोड़पति सांसदों की संख्या दोगुनी हो गई है...वर्ष 2004 में लोकसभा में सिर्फ 156 सदस्य करोड़पति थे...2009 में ये संख्या बढ़कर 315 हो गई है...लोकसभा में करोड़पति सांसद की औसत आय 2004 में एक करोड़ 86 लाख रुपये सालाना थी जो 2009 में बढ़कर 5.33 करोड़ रुपये हो गई है...सांसदों की औसत संपत्ति 2004 में एक करोड़ 92 लाख रुपये थी जो 2009 में चार करोड़ अस्सी लाख हो गई...20 फीसदी सांसदों के पास पांच करोड़ रुपये की औसतन संपत्ति है...50 फीसदी सांसदों के पास 50 लाख से पांच करोड़ रुपये की औसतन संपत्ति है...

(...एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म (एडीआर) की रिपोर्ट)


हमारे बच्चे...
देश के साढ़े पांच करोड़ बच्चे कुपोषण के शिकार हैं यानि उनका वजन उम्र के हिसाब से कम है..देश में रोज़ पांच साल से कम उम्र के पांच हज़ार बच्चे कुपोषण से दम तोड़ देते हैं...हर साल जन्म के पहले महीने में मरने वाले बच्चों का सालाना आंकड़ा दस लाख बैठता है...पांच साल से नीचे के दस लाख और बच्चे हर साल मौत का शिकार होते हैं...बच्चों की हालत को लेकर भारत का दुनिया में 49 वां नंबर है...

(यूनिसेफ की वैश्विक बाल रिपोर्ट)


स्लॉग ओवर

मारुति 800 नई नवेली नैनो कार से पहली बार मिली...

मारुति ने नैनो पर चुटकी ली...ए री तेरी दोनों आंखें बाहर की ओर क्यों निकली हुई हैं...

नैनो...पहले पीछे तशरीफ रखने वाली जगह पर पूरा इंजन ठुकवा...फिर मुझसे बात करना...देखना आंखें बाहर आती हैं या नहीं...

28 टिप्‍पणियां:

  1. पहले ऊंचा होता पहाड़ और फिर खाइयाँ। कब बदलेगी ये सूरत?

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमारे देश के सांसद और यहां के हमारे बच्‍चे के मध्‍य इतनी विषमता .. अफसोसजनक !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. देश का सारा माल नेता और भ्रष्ट अफसर डकार जाते हैँ तो बच्चों के लिए क्या बचेगा?

    उत्तर देंहटाएं
  4. Bhaiya mehengai ke hisaab se ...saansadon ki bhi kamaai badhi hai.....

    hihihihihihihihhihihihihihihi........

    bechari nano..... sach kah rahi hai........hihihihihihihihi


    JAI HIND....

    उत्तर देंहटाएं
  5. अजी हमारे नेता तो चारा ओर शहीदो के ताबूत भी खा चुके इन बच्चो के हिस्से की तो बात ही क्या, नैनो सही बोली.....

    उत्तर देंहटाएं
  6. यही इस देश की विडंबना है भाई!!

    स्लॉगओवर में जो नैनो के साथ हुआ वो ही जनता के साथ होता है और ये नेता भी चुटकी लेकर पूछते हैं कि जाने क्यूँ जनता की आँख निकली दिख रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. करोड़पति बनने का सफल नुस्खा?
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  8. यही है भारत देश का भविष्य सोचनीय दशा है..
    स्लॉग ओवर क्या बात है खुशदीप जी हमेशा की तरह मजेदार..धन्यवाद जी

    उत्तर देंहटाएं
  9. सोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म (एडीआर) की रिपोर्ट--Afsos hota hai yah sunkar..khushi nahin .
    यूनिसेफ की वैश्विक बाल रिपोर्ट--bhavishy mein yah aur badtar na ho jaye...bas yahi chinta hai.
    -------

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक बार सांसद बन भर जाइये, यदि आप करोड़पति नहीं हैं तो हो जायेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  11. मधु कोड़ा दो साल मे चार हज़ार करोड़ तो पांच साल मे कितना?

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपके कुछ दिनों पहले की 'भारत और इंडिया' सम्बन्धी पोस्ट याद आई... बढ़ी और बड़ी अच्छी जानकारी है...

    उत्तर देंहटाएं
  13. अंदाजा तो था ही...पर आपने आंकड़े देकर इसे और भी पुष्ट कर दिया है...जितनी बार ही इस तरह की ख़बरें पढो....मन वितृष्णा से भर जाता है,उन सांसदों के प्रति.

    उत्तर देंहटाएं
  14. पहले पीछे तशरीफ रखने वाली जगह पर पूरा इंजन ठुकवा...फिर मुझसे बात करना...देखना आंखें बाहर आती हैं या नहीं...

    हा हा हा हा वाह खुशदीप जी एक हफ़्ते से चढा हुआ बुखार उतर गया, डाक्टर भी यही कह रहा था, लेकिन बच गया हा हा हा-जोरदार

    उत्तर देंहटाएं
  15. बच्चे कुपोषित हैं, तभी तो नेता करोड़्पति

    उत्तर देंहटाएं
  16. जहाँ कुपोषण और करोडपति एक दुसरे के समानुपाती होते हैं उस स्थान को महान भारत कहते है. (यही है देशनाम... एक शर्मनाक सच्चाई..)

    जय हिंद
    - सुलभ

    उत्तर देंहटाएं
  17. हमारी उन्नति एक रेखा के समान है । एक बिन्दु से शुरू होकर , दायें और बाएं , दोनों दिशाओं में आगे बढ़ रही है।
    यही सच्चाई है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. हौलनाक,दर्दनाक,भयानक,जबरदस्त,---खुशदीप भाई,फिर भी कुछ नहीं बदलेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  19. क्या सांसद गरीब हो तभी ईमानदार होगा ? वह भी है जो ईमानदार है दुर्भाग्य से अमीर भी है क्या उनको राजनिति छोड देनी चाहिये . आप जैसे लोग जब सवाल उठाते है उससे अच्छे लोग राजनिति को अछूत मान कर दूर हट जाते है . और गलत लोग कब्जा कर लेते है

    उत्तर देंहटाएं
  20. अमीर लीडर गरीब लोग :)
    स्लागिंग भी इतनी!!!!!!!!!!!!!! कि आंख बाहर निकल आए :)

    उत्तर देंहटाएं
  21. यह वर्गभेद तो निरंतर बढता ही जायेगा लेकिन पहले जब ऐसा होता था तो क्रांति होती थी हमारे यहाँ उसकी सम्भावना दूर दूर तक नज़र नही आती ।

    उत्तर देंहटाएं
  22. सारा माल ताऊओं की जेब मे हैं तो बच्चों की ये हालत तो होगी ही.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  23. अब नैनो के नैना बाहर नहीं आयेगें तो क्या जीभ बाहर आएगी ....पीछे ठुकवाए तो नैना बाहर ....सर पर ठुकवाते तो जीभ भी बाहर होती न....!!

    उत्तर देंहटाएं