शनिवार, 24 अक्तूबर 2009

इलाहाबाद ब्लॉग ओवर...खुशदीप

ब्लागरों के लड़ने झगड़ने की आदत यहां भी नहीं गयी
http://visfot.com/blog/archives/876
‍‍इलाहाबाद से लौट कर :कुछ खरी कुछ खोटी और कुछ खटकती बातें !
इलाहाबाद ही क्यों , अहमदाबाद या हैदराबाद क्यों नहीं ?
ब्‍लागरों की ब्‍ला-ब्‍ला
ये चारो लिंक इलाहाबाद मे ब्लॉगर जमावड़े से लौट कर लिखी गई कुछ रिपोर्ट के हैं...आज का ब्लॉग ओवर भी इसी से प्रेरित है...स्लॉग ओवर नहीं...इसे ब्लॉग ओवर कहना ज़्यादा बेहतर रहेगा...
 
ब्लॉग ओवर
 
जहां एक ब्लॉगर मौजूद... आवाज़ देकर हमें तुम बुलाओ
 
जहां दो बलॉगर मौजूद... ब्लॉगर मीट
 
जहां तीन ब्लॉगर मौजूद... रौला-रप्पा
 
जहां चार ब्लॉगर मौजूद... तेरी ये...तेरी वो...तेरा फलाना...तेरा ढिमकाना...
 
जहां चार से ज़्यादा ब्लॉगर मौजूद... शांति...बीच-बीच में कराहने की आवाज़ें...एंबुलेस में सारे ढोए जा रहे हैं...


(रौला रप्पा पंजाबी में शोर-शराबे या हो-हुल्लड़ को कहते हैं)

36 टिप्‍पणियां:

  1. हा हा!! बहुत जल्दी जान गये सब कुछ. :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी थीसिस है-आपका शोध पत्र प्रस्तुतिकरण उम्दा है
    पसंद आया इसलिए एक चटका मेरी तरफ़ से, बधाई। जारी रहे

    उत्तर देंहटाएं
  3. भाई जहां चार बर्तन होंगे वहां खडकेंगे ही !

    ब्लॉगर जमावड़े में तो सभी महाज्ञानी ही होंगे..........:)

    उत्तर देंहटाएं
  4. haam shaayad naa sun sake aapki aawaaz..
    hamaaraa system hi aisaa hai..
    log kahte hain to aapki aawaz achchi hi hogi..

    baaki hame aapki is post ke baare me nahi pataa...

    ham ek blogger ho ker bhi blogger ki zindgi nahi jee sake hain...

    उत्तर देंहटाएं
  5. भाई पहली और चौथी में लिंक लगाना भूल गये या कोई वजह है?

    उत्तर देंहटाएं
  6. जहां चार से ज़्यादा ब्लॉगर मौजूद... शांति...बीच-बीच में कराहने की आवाज़ें...एंबुलेस में सारे ढोए जा रहे हैं...

    ha ha ha ha ha ha ha ha hah ah ah a ha ha

    JAI HIND

    उत्तर देंहटाएं
  7. जहाँ ब्लोगर मीट तो हो पर ब्लोगर ही न हो तो ----------????

    उत्तर देंहटाएं
  8. रूपेश श्रीवास्तव जी,
    सबको पता है ये लिंक वगैरहा कॉपी करने में मैं अनाड़ी हूं...बहुत कोशिश करने पर भी जिन चार टाइटल का मैंने जिक्र किया है उनमें से दो के लिंक ठीक तरह से कॉपी नहीं कर पा रहा हूं...आप चाहें तो ब्लॉगवाणी एग्रीगेटर पर ये दोनों पोस्ट मौजूद हैं...आप वहां पढ़ सकते हैं...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  9. चार लिंक का उल्‍लेख करना .. तीन ही शीर्षकों के नाम देना.. और दो में ही लिंक बनाना .. जल्‍द ही स्‍लोग ओवर लिखकर पोस्‍ट को समाप्‍त करना .. बहुत हडबडी थे आप क्‍या ?

    उत्तर देंहटाएं
  10. सारी .. लिंक न बनने का उलाहना आपको मिल चुका था .. मैं ही हडबडी में थी .. अभी अभी आपका जबाब पढा .. पर लिंक लगाना तो काफी आसान है !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. फरीदाबाद वाली ठीक निबट गई
    गाजियाबाद साहिबाबाद वाली भी सही निपटेगी
    इलाहाबाद वाली क्‍यों सुलगेगी
    वहां भी चिंगारी चिंगारी ही रहेगी शोला बन नहीं धधकेगी
    यहां माधुरी दीक्षित वाला गाना सटीक बैठता है

    एक दो तीन चार
    ब्‍लॉगर का करूं मैं इंतजार
    जहां करता नहीं कोई प्‍यार
    बस रहता है टिप्‍पणियों का इं‍तजार
    5 से 13 तक
    और 13 से 1300 तक

    पर 1300 तो बिग बी के ब्‍लॉग पर मिलती हैं

    और 300 उड़नतश्‍तरी के ब्‍लॉग पर।

    और अपनी पोस्‍ट लगाने को बेकरार
    ब्‍लॉगबाज।

    उत्तर देंहटाएं
  12. संगीता जी,
    ऊपर रूपेश श्रीवास्तव जी के सवाल के जवाब में दी गई मेरी सफाई
    से आप मेरी परेशानी समझ जाएंगी...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  13. ये ब्लॉग ओवर तो बहुतों को आउट कर सकता है .

    उत्तर देंहटाएं
  14. भैया नहा लिये गंगा..हम तो सोच रहे थे कि अच्छा हुआ जा नहीं पाए..वर्ना तो पहले ही सूर्य देवता को अर्घ्य देने निकल जाते गंगा घाट पर ....वैसे इन सबका एक सार ये निकलता है कि हम जैसे हैं ..वैसे ही हैं असल में ..काहे कि आभासी दुनिया जी..सब कुछ असली है जी एक दम खांटी...हमको नहीं पता कि पंजाबी में खांटी को का कहते हैं..ई मखनवा और उसकी वोट्टी ही बताएगी

    उत्तर देंहटाएं
  15. अभी तो तेल देखा है मित्र...
    तेल की धार अभी बाकी है...

    बहुतों ने तो दिखा दिया अपना हुनर
    बहुतों के वार अभी बाकी हैँ ...आमीन

    उत्तर देंहटाएं
  16. खूब पहचाना ।
    भाई ने भाई को जाना ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. क्या कहे हमारी तो बोलती हि बन्द हो गै है

    अच्चा हुआ पहले दिन कार्यक्रम मे नही शामिल हो पाया

    वीनस केशरी

    उत्तर देंहटाएं
  18. सुनो सुनो सुनो अगला ब्लॉगर सम्मेलन .... ... फलाने फलाने अस्पताल मे होने जा रहा है । हमे तो यहाँ का न्योता नहीं आया वहाँ का क्या आयेगा ?

    उत्तर देंहटाएं
  19. शरद कोकाश जी बिलकुल; सही और अस्पताल होगा पी जी आई :)

    उत्तर देंहटाएं
  20. दुनिया हँसे हँसती रहे मैं हूँ ब्लाग्गर मुझे ख़ुद से है प्यार
    कुछ भी कहे कहती रहे मैं हूँ ब्लाग्गर मुझे ख़ुद से है प्यार

    नगरी-नगरी जाता हूँ बस अपना राग सुनाता हूँ
    जब भी मुझको मौका मिला लक्षण अपने दिखता हूँ
    सुनो न सुनो तुम मेरी पुकार....

    ब्लाग जगत में विचरूं मैं ब्लाग जगत का हूँ वासी
    सामाजिक प्राणी नहीं मैं, गुण हैं मेरे बनवासी
    चलता हूँ लिए कलम की धार....

    उत्तर देंहटाएं
  21. जब भी मुझको मौका मिला लक्षण अपने दिखाता हूँ
    kripya is pankti ko aise padhein..

    Jai Hind

    उत्तर देंहटाएं
  22. हा हा इसलिए ही तो ज्ञान जी धीरे से खिसक लिए थे !

    उत्तर देंहटाएं
  23. फोनेटिक टिप्पणी हो ही ली तो जय हो....

    उत्तर देंहटाएं
  24. आप परम ज्ञानी हैं, बात को फ़टाफ़ट समझ लिये.:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  25. आज अपना तो मूड ही आफ़ हो गया है और सब पढ कर कंही भी कुछ भी कहने की इच्छा नही हुई मगर आपको पढ कर मुझे भी कुछ कहने की इच्छा हो रही है,

    एक ब्लागर, ब्लागर्।
    द्प ब्लागर फ़ौज,
    तीन ब्लागर क़यामत,
    चार ब्लागर मौत्।

    उत्तर देंहटाएं
  26. ब्लोगर मीट का कच्चा चिठ्टा दिखाने के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  27. भाई हम ने तो बहुत कुछ सोचा था, कि भारत आ कर एक ब्लांग सम्मेलन करेगे, अपने ब्लांग के जरिये सभी को बुलावा भेजेगे, रात ठहरने का, रात का खाना चाय नाशता, ओर दोपहर का खाना भी ह्मारी तरफ़ से होगा...... लेकिन इस सम्मेलन को देख कर मुझे भी समझ आ गई... भाई पेसे भी खर्च करो ओर मुंह भी काला करवाओ ना बाबा ना हम मै इतनी हिम्मत नही... अरे छोटी मोटी गलतियां हर जगह हो जाती है, हमे उन्हे नजर आंदाज करना चाहिये, ओर मदद करनी चाहिये... ना कि दुसरो का मजाक बनाना चाहिये.
    तो भाईयो आप सब इस बात से सवक ले ओर कान खींचे ऎसी भलाई करने से.... हम चार मिल कर कभी नही बेठ सकते... बस हमे टांग खींचने की आदत जो है सॊ खींचेगे? क्योकि कल मेरी किसी ओए ने टांग खींची थी उस का बदला भी तो लेना है. सुंदर ओर शिक्षा भरे लेख लिखने का क्या लाभ जब हम ही उन पर अमल नही करते.

    उत्तर देंहटाएं