शनिवार, 3 अक्तूबर 2009

...क्या कोई मुझे बताएगा


मेरे कुछ सवाल हैं...अरे घबराइए नहीं...पोस्ट छोड़ कर मत जाइए...ब्लॉगिंग या पसंद से इन सवालों का कोई लेना-देना नहीं है...ये वो सवाल हैं जिनसे हमारा रोज़ पाला पड़ता है...हम इनका धड़ल्ले से इस्तेमाल करते हैं...लेकिन इनका सही मतलब हमारे में से शायद बहुत थोड़े ही जानते होंगे...इसलिए मैं अपना ज्ञान बढ़ाने के लिए आपकी मदद चाहता हूं...इस पर खास तौर पर महफूज़ अली भाई की तवज्जो चाहूंगा...क्योंकि उन्होंने टाटा शब्द पर बड़ी रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी दी थी...

सवाल नंबर 1
हम फोन पर अभिवादन के लिए पहला शब्द बोलते हैं...हैलो...ये तो मुझे पता है कि ग्राहम बैल ने टेलीफोन का आविष्कार किया था...लेकिन हैलो शब्द कहने का रिवाज कब और कहां से शुरू हुआ...इसी संदर्भ में क्या हम भारतवंशी कोई अपना ठेठ देसी शब्द प्रचलन में नहीं ला सकते...जिससे भारतीयता को बढ़ावा मिले...सवा अरब तो हम भारत में ही हैं.. दुनिया की आबादी का पांचवां हिस्सा...अगर हम सब उस शब्द को बोलने लगे तो वो कितनी जल्दी पूरी दुनिया पर छा जाएगा...

सवाल नंबर 2
किसी बात पर हां में भरने के लिए हम कहते हैं ओ.के.(O.K.)...इसका शाब्दिक अर्थ क्या होता है...इसका प्रचलन भी कब और कैसे शुरू हुआ...

सवाल नंबर 3
शादियों के कार्ड पर आर.एस.वी.पी. (rsvp) लिखा होता है...इसका पूरा अर्थ क्या है...

सवाल नंबर 4
अंग्रेजी भाषा में अक्सर उदाहरण के लिए ie. या eg.का प्रयोग किया जाता है...इनकी पूरी फॉर्म क्या है...

सवाल नंबर 5
पांचवां सवाल मक्खन का है...क्या सवाल है वो आपको स्लॉग ओवर में मिलेगा...

स्लॉग ओवर
मक्खन आज बड़ा भुन्नाया हुआ है...बार-बार एक ही सवाल कर रहा है कि आखिर उसका कसूर क्या है...दरअसल मक्खन महाराज ने अमेरिकी एम्बेसी में वीज़ा के लिए एप्लीकेशन लगाई थी...वो एप्लीकेशन रिजेक्ट होकर आ गई है...मक्खन का मूड तो खराब होना ही था...अमेरिकी एम्बेसी ने रिजेक्शन का जो कारण दिया है...वो ये है...कृपया जिस केटेगरी के लिए आपने वीज़ा एप्लाई किया है, ऐसी कोई केटेगरी हमारे कानून में नहीं है...इसके लिए आपको बस घर के नज़दीक ही सुअरों के बाड़े में जाना होगा और ऊपर वाले ने चाहा तो आपकी मनमुताबिक वायरस से ग्रस्त होने की तमन्ना पूरी हो जाएगी...(दरअसल मक्खन ने H1N1 के लिए एप्लाई किया था)...

17 टिप्‍पणियां:

  1. मुद्दा तो बन्धु आपने ज़ोरदार उठाया है..अँग्रेज़ी के प्रचलित शब्दों की जगह ऐसे शब्दो प्रयोग में लाए जाने चाहिए जो पूर्णत्या भारतीय हों और जिनका शाब्दिक अर्थ भी तर्कसंगत हो...साथ-साथ ये भी ज़रूरी है कि वो बोलने में भी आसान हों नहीं तो ज़्यादातर लोग उन्हें बोलने से पहले ही लड़खड़ा कर अचकचा जाएँगे।इसका मैँ एक उद्धारण देना चाहूँगा...


    "महोदय!..मेरी द्विचक्रवाहिणी के अग्रचक्र की वायु प्रस्थान कर गई है..अत:आप अपना वायुदाब यंत्र प्रदान कीजिए"..

    और हाँ!..आपके सवाल नम्बर 3 याने के R.S.V.P का मतलब तो मुझे मालुम है लेकिन पँजाबी में...
    वो क्या है कि...

    "रोण सारे व्याह पिच्छों"
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  2. खैर! मक्खन को तो उस का उत्तर मिल गया। बाकी सवालों का भी विद्वान लोग उत्तर दे ही देंगे। सवाल नं.2,3,4 के उत्तर तो खोजने पर अंतर्जाल पर भी मिल जाएँगे।
    हैलो के लिए भी विकिपीडिया पर पूरा अध्याय मौजूद है। लेकिन आप ने एक राजस्थानी गीत शायद सुना हो "म्हारो हेलो सुणो जी रामा पीर!" अंग्रेजी का हैलो वहीं से आरंभ हुआ है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जितनी जानकारी है वह लिख रहा हू बाकी जानने का इन्त्जार रहेगा!!

    जवाब नंबर 2
    ओ.के.(O.K.)ग्रीक शब्द है, पूरी फॉर्म है 'Ola Kala' और मतलब है 'सब ठीक है'! इसका प्रचलन शायद 1830 मे अमेरिका मे शब्द का ग़लत उच्चारण होने से हुआ!

    जवाब नंबर 3
    आर.एस.वी.पी. (rsvp) फ़्रेन्च वाक्यांश "répondez, s'il vous plaît," है जिसका पूरा अर्थ है - कृपया जवाब दें!

    जवाब नंबर 4
    ie. लैटिन शब्द है, पूरी फॉर्म है 'id est' और मतलब है 'यानि कि' या फ़िर 'दूसरे शब्दों में'!
    eg. भी लैटिन शब्द है, पूरी फॉर्म है 'exempli gratia' और मतलब है 'उदाहरण के लिए'!

    अब तो वाकइ मक्खन की किस्मत पर तरस आने लगा है!
    अमेरिका को आपके मक्खन की अहमियत अभी पता नही शायद्, नही तो वह ऐसी गलती न करते....

    उत्तर देंहटाएं
  4. Khushdeep Sir.... pehle aap mera abhivaadan accept kariye......... pata nahi kyun neend nahi aa rahi thi.......... utha aur computer khola ..... aur sabse pehle aapke hi post pe aaya BV ke thru..... mujhe bahut achcha laga apke dwara kiye gaye praise ka aur mujhe izzat dene ka....main aapke sawaal ka jawab yahan usi series mein doonga jis series mein aapne poocha hai.....

    Ans. 1......

    Hello ....bolne ki bajaye hum hundustani "HARI OM' ka istemaal kar sakte hain.... agar muslim hain aur HARIOM bolne mein dikkat hai to "Assalamwalaikum" ka istemal kar sakte hain.... Christian hain to "HELLO" hi chalega.... aur agar Sikh hain to.."SAT SHRI Akaal"..... par agar Religion se upar uthna hai to "JAI HIND" se achcha kuch nahin hai..... yeh sabke liye UNIVERSAL hai.....

    Ans. 2....
    OK ke baarey mein ek nayi post likhoonga kal .... bahut interesting theme aapne di hai.... m thankful to U for dis.... to Sir.... plz ispe mujhe ek post likh lene dijiye.... ek do din mein post kar doonga...

    Ans. 3....
    RSVP:-- ek French word hai.. jiska full form hota hai.. repondez s'il vous plait.... jiska matlab hota hai ki.... RESPOND IF YOU PLEASE.... kripya sakaratmak uttar dijiye.....

    Ans.4 .......
    i.e. :---- yeh ek Latin word hai... jo sabse pehle England mein 1598 mein use kiya gaya tha... is matlab Latin mein "id est" hai jiska matlab english mein "THAT IS" hota hai.... aur hindi mein "JAISE KI, YAANI KI wagairah".....

    e.g.:-------
    e.g. bhi ek Latin word hai jiska full form "EXEMPLI GRATIA" hota hai.... jiska matlab english mein.... FOR EXAMPLE hota hai aur Hindi mein.... Udaahran ke taur pe....

    Ans. 5....

    Bechara MAKHKHAN......... is baar bhi phans gaya.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. OK ke baarey mein poora authentic history/origin hai mere paas..... bas un sabko materialise karna hai.... aur choonki unique cheez hai..... to isliye aapse time liya hai.... taaki usko achche se full knowledge ke saath likhoon.....

    उत्तर देंहटाएं

  6. श्श्श.. कोई हँस रहा है ।
    इनके विषय में सुना तो बहुतों ने है, देखा किसी ने नहीं ।

    अरे भतीजे, इत्ते मार्के के गोट थे, पाँच पहेली बन जाती, फ़ी पहेली 10 टिप्पणी के औसत से 50 टिप्पणी तो पक्की समझें ।
    और.. आपने क्या किया ? यह कर दिया कि, पाँच पहेलियाँ खड़ी खड़ी, टिप्पणी जोहें घड़ी घड़ी !
    दो जनों ने हिन्दी और रोमन में सही सही ज़वाब दे दिया है, तो अब बाकी जन ?
    मेरे पास टीपने को यह लँतरानी ही बच रहा था, वह भी आपको दे दिया ।

    इस जानकारी में थोड़ा बघार डालते हुये यह जोड़ना है कि, हेलो ( पुकारने का सुनो ) जैसा ही जर्मन शब्द है.. Hellos,
    अपने प्रयोगों के दौरान ग्राहम बेल तारों के जरिये यह शब्द अपनी पत्नी तक पहुँचाना चाह रहे थे ।
    स्वाभाविक रूप से बोले जाने वाला यह शब्द उनकी पत्नी तक कभी नहीं पहुँच सका,
    क्योंकि बेचारी मोहतरमा तो जन्म से ही बहरी थीं ।
    जय हिन्द का सुझाव अच्छा है, यह हमारी ज़रूरत भी है, पर..
    हमारे हवाला व्यापारी इसमें असहज महसूस करेंगे ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. मुझे महफूज़ जी की 'जय हिंद' वाली बात बहुत ज्यादा भायी है, महफूज़ साहब बहुत बहुत शुक्रिया .....आज से ही जब भी भारत कॉल करुँगी पक्की बात है 'जय हिंद' ही कहूँगी...कनाडा में रहती हूँ इसलिए सबसे तो नहीं कह पाउंगी लेकिन अपनी इंडियन कम्युनिटी में यह बात बताने की ज़रूर कोशिश करुँगी....
    बाकी की जानकारी थोडी-बहुत हमें भी थी..हाँ डाक्टर साहब ने एक और जानकारी दी की ग्राहम बेल की धर्म पत्नी बहरी थी ...शायद यह भी एक कारण हो की टेलेफोन का अविष्कार हो गया....

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रश्‍न देखकर पोस्‍ट को छोडकर नहीं भागी मैं .. यहां तक कि टिप्‍पणियों को पढा .. आपके प्रश्‍नों के जबाब तो सतीन्‍द्र जी और महफूज जी के द्वारा मेरे आने से पहले ही मिल गए .. इसी बहाने मेरा भी ज्ञानवर्द्धन हुआ .. वैसे छोटे शब्‍द जल्‍द प्रचलित हो जाते हैं .. सार्थक पोस्‍ट के लिए आपको बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. इसे कहते चिराग तले अँधेरा -नेट पर होकर भी यह सवाल जवाब !

    उत्तर देंहटाएं
  10. वैसे तो बहुत से लोगों ने आपके प्रश्नों का जवाब बहुत अच्छे तरीके से दे दिया है फिर भी मेरा जवाब हैः

    सवाल नंबर 1 - हैलो

    अंग्रेजी विकीपेडिया के अनुसार फोन मे अभिवादन के रूप में हैलो कहने का प्रचलन थॉमस एडीसन ने किया।

    देखें http://en.wikipedia.org/wiki/Hallo#cite_ref-5

    मेरे विचार से हम भारतवासियों को हैलो के स्थान पर 'वन्दे मातरम् 'या 'राम राम' कहने का प्रचलन उचित होगा। वैसे अब तो मोबाइल के कारण हैलो कहने का प्रचलन भी समाप्तप्राय हो रहा है।

    सवाल नंबर 2 - ओ.के.

    मेरी जानकारी के अनुसार ओ.के.(O.K.) अंग्रेजी के All correct का Oll korrect के रूप में गलत प्रयोग है जो कि चल निकला। इस विषय में विस्तृत रूप से आप यहाँ जानकारी प्राप्त कर सकते हैं http://en.wikipedia.org/wiki/O.K.

    सवाल नंबर 3 - आर.एस.वी.पी.

    आर.एस.वी.पी. फ्रेंच वाक्यांश "Répondez s'il vous plaît" का छोटा रूप (अब्रिव्हियेशन) है जिसका अर्थ होता है "please respond" या "respond if you'd please" "reply if you please" (आक्सफोर्ड डिक्शनरी में पीछे विदेशी शब्दों वाले भाग में देखें)।

    सवाल नंबर 4 - ie. या eg.

    अंग्रेजी भाषा में उदाहरण के लिए सिर्फ e.g. का प्रयोग होता है i.e. का नहीं। e.g. लेटिन वाक्यांश exempli gratia, का छोटा रूप है जिसका अर्थ होता है "for example"। वैसे ही i.e. भी लेटिन वाक्यांश id est का छोटा रूप है जिसका अर्थ होता है "that is; in other words" ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. भैया, कुछ तो अंग्रेजी रहने दो. पूर्ण रूप से यदि भारतीयता पर उतर आये, तो फिर इनका मतलब भी ढूँढना पड़ेगा --अबे, ओये, तेरी तो आदि आदि.
    वैसे सतिंदर और महफूज़ अली ने अच्छी जानकारी दी है. आभार

    उत्तर देंहटाएं
  12. India i.e. भारत
    वैसे महफ़ूज़ भाईजान बजा फ़रमा रहे हैं जय हिन्द ही ठीक है।
    जय हिन्द।

    उत्तर देंहटाएं
  13. अरविंद जी, नेट पर आंख मूंद कर भरोसा करना कभी-कभी चिरागों के बावजूद अंधेरा कर देता है...और फिर ये पोस्ट न लिखता तो महफूज भाई का जय हिंद जैसा सुंदर विचार सामने क्या आ पाता...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  14. अमा खुशदीप मियां...ये सबको लपेटने के आईडिये ही लडाते रहते हो...बताओ भला ..सब के सब लैटिन फ़्रेंच और पता नहीं क्या क्या पढने पढाने में लगे हैं...वैसे अच्छा हुआ कि इनके मतलब पता चल गये..अब जब भी अमरीका और फ़्रांसा जाना हुआ ..अपने यहां से ऐसे शब्द ले के जायेंगे/.....कि पट्ठे पूछते रहेंगे ..ये ज.हि ...क्या होता है जी...

    हम कहेंगे ..जय हिंद....

    उत्तर देंहटाएं
  15. झा जी, अमरीका तो ठीक ये फ्रांसा कहा है...चांद के पास एलियंस की बस्ती ढूंढ लिए हैं का... जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  16. bahut बढ़िया कुछ के जवाब मुझे पता थे , कुच्छ के पता चल गये .आप सभी धन्यवाद् के पात्र हो !
    महफूज़ जी का सुझाव जय हिंद वाला अति प्रशंसनीय है . खैर हरी ॐ भी कहा जा सकता है . वैज्ञानिको ने भी इस बात को माना है की ॐ शब्द अन्तरिक्ष में भी गुंजायमान है , तो क्यों न ॐ ही प्रचलित करे . ज्ञान्बर्धन के लिए धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  17. मुझे मुकेश जी की बात बहुत ज्यादा भायी है....

    "हरी ॐ भी कहा जा सकता है . वैज्ञानिको ने भी इस बात को माना है की शब्द अन्तरिक्ष में भी गुंजायमान है , तो क्यों न ॐ ही प्रचलित करें"

    उत्तर देंहटाएं