शुक्रवार, 18 सितंबर 2009

बापू की डेड बॉडी...

आज किसी निजी काम में अति व्यस्त रहने की वजह से बहुत थका हुआ हूं..इसलिए पोस्ट से ब्रेक...इतने दिन बाद ब्रेक तो बनता है न बॉस...इसलिए आज बस स्लॉग ओवर से ही काम चला लीजिए...

स्लॉग ओवर
एक एनआरआई साहब भारत से अपने बापू और बेबे (मां) को भी उसी मुल्क में साथ ले गए, जहां उनका बसेरा था...बापू जी की परदेस में मौत हो गई...अब एनआरआई साहब ने बापू के पार्थिव शरीर को फ्लाईट से भारत भेजा...साथ ही भारत में अपने गांव में एक ई-मेल भी कर दिया...
बापू चला गया...हमें किसके आसरे छोड़ गया...अब किस काम का हमारा जीना...मैं बापू की डेड बॉडी फ्लां फ्लां...फ्लाईट से भारत भेज रहा हूं...
साथ में वो गिफ्ट हैं जो तुमने मुझे भेजने को कहा था...बापू की डेड बॉडी के नीचे 12 पैक चाकलेट, 10 पैक बबल गम, 8 पैक ड्राई फ्रूट्स हैं...बापू ने जो नाइकी जूते पहने हैं वो हैप्पी के लिए हैं...जो बेसबाल हैट पहना है, वो पिंकी के लिए है...बापू के दोनों हाथों में प्रीतो, बिल्लो के लिए हैंडबैग हैं...बापू ने बच्चों की 6 शर्ट पहनी हुई हैं...बाएं हाथ में हरमीत की अंगूठी है...दोनों कलाइयों पर शम्मी और रम्मी की घड़ियां हैं...अगर कुछ और भेजना है तो बब्बी और रब्बी से पूछ लो... यहां बेबे (मां) की भी तबीयत बहुत खराब है...
 

12 टिप्‍पणियां:

  1. सामान पर कस्टम ड्यूटी बचाने का अच्छा तरीका तलाशा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस भोगी संसार में सब कुछ संभव है.
    वैसे ब्रेक भी ज़रूरी है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब..अच्छा स्टाइल है...बापू के बहाने अपना मतलब सिद्ध करने चले है बेटे जी..

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप पर काम का जबरदस्त बोझ होगा... यह आपका प्रोफाइल ही बताता है... एक निजी चैनल में न्यूज़ प्रोड्यूसर होना... काम के साथ थकन तो लायेगा ही... ब्रेक से आराम मिलेगा और रिफ्रेशमेंट भी... स्लोग ओवर चटकदार है... मस्त

    उत्तर देंहटाएं
  5. ब्रेक वाली बात से सहमत हूं।

    समाज पर अच्छा व्यंग्य किये हैं......

    स्लॉग औवर हमेशा की तरह मस्तम मस्त!

    उत्तर देंहटाएं
  6. ाज के सच पर एक अच्छा व्यंग है शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  7. ब्रेक तो जरूर बनता है खुशदीप जी! :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेबस देह की आड़ लोग क्या करने जा रहे हैं?

    आज की यही सच्चाई है............

    एक अच्छा व्यंग है ......

    उत्तर देंहटाएं
  9. बाकी बेबे के साथ?वाह वाट एन आईडिया।स्लाग ओवर मैच का टर्निंग प्वाईंट है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. आज की सच्चाई....दिल को छू लेने वाली पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  11. हे रामचन्द्र कह गए सिया से...

    ऐसा कलयुग आएगा..

    हँस चुगेगा दाना-दुनका
    कौवा मोती खाएगा ...


    कलयुग में सब कुछ संभव है मित्र

    उत्तर देंहटाएं
  12. Break is a must just to refresh yourself. Otherwise your creative talent knows no restraint. Any hurdle that comes your way, be it in any form, can be overcomed by your sincerity and diligence.

    This blog is a testimony to this fact and I am sure you take immense confidence and motivation from your followers than your critics.

    उत्तर देंहटाएं